Thursday, December 20, 2007

क्या औचित्य है रोमन में हिंदी ब्लॉगिंग का ? विषय आधारित चिट्ठे और लोकप्रियता ? आइए इन सवालों का हल तालाशें इन आंकड़ों के मद्दे नज़र

पिछले हफ्ते मेरे रोमन हिन्दी चिट्ठे Ek Shaam Mere Naam ने एक नया मुकाम प्राप्त किया, एक लाख पेज लोड्स को पार करने का। करीब साल भर पहले प्रतीक पांडे ने अपनी एक पोस्ट में रोमन हिंदी में ब्लॉगिंग करने के औचित्य पर राय मांगी थी। मेरी यह पोस्ट पिछले ढाई सालों में रोमन हिंदी ब्लॉगिंग के मेरे अनुभवों का निचोड़ है और मेरी कोशिश ये होगी की आंकड़ों की मदद से मैं ब्लागिंग से जुड़े कुछ अहम मुद्दों पर अपनी राय आगे रख सकूँ।


सवाल नंबर १ : रोमन हिंदी ब्लागिंग करने का औचित्य क्या है ?
इसका सीधा उत्तर है ज्यादा से ज्यादा लोगों तक अपनी बात को पहुँचाना। एक रोमन हिंदी चिट्ठा दो तरीकों से इस कार्य में आपकी मदद करता है

  • ये गैर हिंदी भाषी पाठक वर्ग को आपकी ओर खींचता है। ये वर्ग भारत के अंदर भी हो सकता है और बाहर भी। उदाहरण के लिए आप देख सकते हैं कि पिछले पाँच सौ पेज लोड्स में करीब ३० -४० उर्दूभाषी देशों से थे और २९२ भारत से थे। इस २९२ का करीब दो तिहाई अनुमानतः वो हिस्सा है जिनकी मातृभाषा हिंदी नहीं।

ये अप्रत्यक्ष रूप से आपके हिंदी चिट्ठे की आवाजाही को आगे बढ़ाता है। आज भी हिंदी भाषा के इंटरनेट में हिंदी लिखने पढ़ने के प्रति अनिभिज्ञता बरकरार है। इसका प्रमाण यही है कि बहुत सारे लोग जो हिंदी भाषी हैं वो पहले रोमन चिट्ठे पर किसी सर्च इंजन के माध्यम से पहुँचते हैं. इनमें से मेरे खुद के विश्लेषण के हिसाब से ई करीब एक तिहाई जो हिंदी में अभ्यस्त हैं वो हिन्दी चिट्ठे पर भी आ जाते हैं। ३३ प्रतिशत का आंकड़ा मैंने अपने चिट्ठे पर "came from" tool का आकलन कर के निकाला है।




यही वजह है कि आप देख रहे हैं कि पहले भोमियो और अब चिट्ठाजगत और ब्लॉगवाणी भी आपकी फीड को रोमन हिंदी में दिखा रहे हैं

सवाल नंबर २ : नए चिट्ठाकार कैसे इस भीड़ में अपना स्थान बनाएँ ?

मेरे हिसाब से इसका एक ही मूलमंत्र है कि आप जब भी कुछ लिखें, उसमें अपनी सारी मानसिक उर्जा लगाएँ। ये जरूर सोचें कि मेरा लिखा किस तरह दूसरों के लिए उपयोगी और रोचक रहेगा। अगर आप लगातार इस तरह का समर्पण बनाए रखेंगे, लोग जरूर उसे पढ़ने खोज-खोज कर आएँगे। आप अगर सिर्फ चिट्ठाकारों को अपना पाठक वर्ग मान कर चलेंगे, उनकी पसंद नापसंद को अपने लेखन का आधार बनाएंगे तो वो आपको क्षणिक लोकप्रियता के आलावा कुछ नहीं दिलाएगा। पोस्ट का साइज छोटा रखने से, दुनिया भर के टैग लगाने से, एक दूसरे को लिंक कर के अगर कोई प्रसिद्धि की राह पर चला जाता तो फिर बात ही क्या थी। मैं ये नहीं कहता कि इन सबका फायदा नहीं होता। होता है पर एक हद तक, मूल बात आपका विषय और परोसी गई सामग्री है। रवि जी ने ये बात कई बार कही है और इस विषय पर मेरा उनसे मतैक्य है.

और सबसे बड़ी बात धैर्य रखें। आप आंकड़ों पर गौर करें जब मैंने रोमन हिन्दी चिट्ठा २००५ में शुरु किया था तो मुझे शुरु-शुरु में २० से ३० हिट्स मिलती थीं। फिर ये आंकड़ा पिछले साल प्रतिदिन ५०‍-६० और इस साल अब ३०० तक जा पहुँचा है। वो भी तब जब रोमन हिंदी चिट्ठे को किसी एग्रगेटर का सहयोग नहीं है। हिंदी में लिखना मैंने पिछली अप्रैल से शुरु किया था और वहाँ भी परिणाम धीरे-धीरे ही अच्छा हुआ है और इसमें रोमन ब्लॉगिंग का भी योगदान रहा है।







सवाल नंबर तीन: क्या सारे चिट्ठे विषय आधारित होने चाहिए ?

चिट्ठाजगत में ये सवाल बार बार उठाया जा रहा है। मेरे ख्याल से इसका कोई सीधा फार्मूला नहीं है। ये फ़ैसला बहुत कुछ निर्भर करता है कि

आपका चिट्ठाकारी करने का उद्देश्य क्या है? किसी खास विषय पर आपकी पकड़ कितनी है? आपके पास कितना समय उपलब्ध है? आपका पाठक वर्ग कैसा है?

विषय आधारित चिट्ठे की खासियत इस बात में है कि वो एक विशेष रुचि से जुड़े पाठकों को आपके चिट्ठे का नियमित पाठक बना लेता है। गंभीर मुद्दों पर लोगों का ध्यान खींचने का ये एक प्रभावी हथियार है। पर अमूमन एक आम चिट्ठाकार के मन में तरह तरह की बातें आती हैं जिसे वो लोगों से बाँटना चाहता है। मैं खुद ही 'यात्रा वृत्तांत', गीत-संगीत, ग़ज़लों, किताबों के बारे में लिखता हूँ। अब अगर सबके लिए मैं अलग अलग चिट्ठे शुरु करूँ तो कोई कोई चिट्ठा तो महिनों में अपडेट होगा और चार चिट्ठों को सँभालने में वक़्त जाएगा सो अलग। इस दशा से निबटने के लिए अगर विषय आधारित चिट्ठों को सामूहिक रूप से चलाया जाए तो बेहतर रहेगा।

दूसरी बात ये है कि जब आप अपने पसंद के विषयों को एक साथ अपने चिट्ठे पर रखते हैं तो पढ़ने वाला धीरे-धीरे आपके व्यक्तित्व का एख खाका खींचने लगता है और अगर उसकी सोच भी वैसी ही हुई तो वो आपके चिट्ठे से जुड़ सा जाता है।

एक बात जरूर जान लें कि ऍसा नहीं है कि आप विषय आधारित चिट्ठा नहीं बनाएँगे तो लोग आपकी पुरानी पोस्ट लोग नहीं पढ़ेंगे। उदहारण के लिए मैं आपको रोमन हिंदी चिट्ठे की आज की की-वर्ड एनालिसिस दिखाता हूँ। कलिंग वार, सिक्किम , परवीन शाकिर, गोरा, गुनाहों का देवता और कविताओं , गीतों से जुड़ी पोस्ट जो एक से दो साल पहले लिखी गईं पर भी लोग पहुँच रहे हैं। सर्च इंजन से आने वाली जनता बिना ये जाने आती है कि ये चिट्ठा किस प्रकृति का है।




पर इसका मतलब ये नहीं की विषय आधारित चिट्ठे नहीं बनाने चाहिए। पर इस तरह का जब आप निर्णय लें तो ऊपर लिखे प्रश्नों को खुद से पूछें जरूर।


ये संभवतः इस साल की मेरी आखिरी पोस्ट हैं क्योंकि आज ही केरल के लिए कूच कर रहा हूँ। मेरे हिंदी और रोमन हिंदी चिट्ठों के पाठकों को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएँ। आशा है आपका साथ मुझे आगे भी मिलता रहेगा। तो दोस्तों मिलते हैं, नए साल में हमेशा की तरह वार्षिक संगीतमाला २००७ के साथ.....

Tuesday, December 11, 2007

ये आलम शौक़ का देखा न जाए , वो बुत है या ख़ुदा देखा न जाए

अहमद फ़राज पाकिस्तान के मशहूर और मक़बूल शायरों में से एक हैं जिन्हें भारत में भी उतने ही चाव से पढ़ा जाता है। आज पेश है उनकी लिखी एक ग़ज़ल जिसे फ़राज ने खुद भी अपनी पसंदीदा माना है। इसे मैंने पहली बार १९८७ में सुना था और एक बार सुनकर ही इसकी खूबसूरती मन को भा गई थी। ऊपर से गुलाम अली की गायिकी और हर शेर के बाद की तबले की मधुर थाप पर मन वाह-वाह कर उठा था। पर जिस कैसेट में ये ग़ज़ल थी उसमें इसके कुल चार ही शेर थे। बहुत दिनों से पूरी ग़ज़ल की तलाश में था, वो आज भटकते भटकते इंटरनेट पर मिली। लीजिए अब आप भी इसका लुत्फ उठाइए।



ये आलम शौक़ का देखा न जाये
वो बुत है या ख़ुदा देखा न जाये

ये किन नज़रों से तुमने आज देखा
कि तेरा देखना देखा न जाये


हमेशा के लिये मुझसे बिछड़ जा
ये मंज़र बारहा देखा न जाये


ग़लत है जो सुना पर आज़मा कर
तुझे ऐ बा-वफ़ा देखा न जाये

यही तो आशनां बनते हैं आखिर
कोई ना आशनां देखा ना जाए

ये महरूमी नहीं पस-ए-वफ़ा है
कोई तेरे सिवा देखा न जाये

'फ़राज़' अपने सिवा है कौन तेरा
तुझे तुझसे जुदा देखा न जाये


वैसे गुलाम अली साहब के आलावा पाकिस्तानी गायिका ताहिरा सैयद ने भी इस ग़ज़ल को अपनी आवाज़ दी है जिसे अर्सा पहले एक पाक फीचर फिल्म में भी शामिल किया गया था। ये वही ताहिरा सैयद हैं जिनकी गाई एक बेहतरीन ग़ज़ल "बादबां खुलने के पहले का इशारा देखना" मैंने परवीन शाकिर वाली पोस्ट में पेश की थी।



इन दोनों रूपों में मुझे तो गुलाम अली वाला वर्सन हमेशा से ज्यादा रुचिकर लगा। अब आप बताएँ आपकी राय क्या है?

***********************************************************************
गुलाम अली की गाई ग़ज़ल हमने हसरतों के दाग से संबंधित मेरी पिछली प्रविष्टि आप यहाँ देख सकते हैं।

Saturday, December 08, 2007

"इति श्री चिट्ठाकारमिलन कथा" भाग ४ : देखिए गीतों भरी इस शाम में जलवे विमल वर्मा के ..

शनिवार यानि तीस नवंबर को मुझे वापस जाना था। गुरुवार यूनुस से बात हुई.. कहने लगे मैंने तुमसे वादा किया था कि सत्या और माचिस का बैकग्राउंड स्कोर देना है। अब जून में किए इस वादे को मैं तो भूल ही चुका था पर वे नहीं भूले थे। मैंने कहा कि कहाँ मिला जाए? अनीता जी के यहाँ या फिर किसी और जगह। यूनुस का तपाक से जवाब आया कि अभी तो तुम्हारे यहाँ ही बैठक जमाते हैं..हाँ बाद में जब हम अनीता जी के यहाँ डिनर खाएँगे तो तुम्हें फोन से सूचित कर देंगे कि क्या क्या खाया...और फिर सुनाई दिया एक जोर का ठहाका जो भीतर तक मुझे जला गया। फिर विमल भाई से बात हुई। मैंने उनसे कहा कि आपकी गायिकी से दिल नहीं भरा। एक बार फिर अवश्य आईए और उनका आने का आत्मीय आश्वासन भी तुरत मिल गया। अभय जी (जो बेहद व्यस्त थे) को छोड़ कर बाकी सारे लोगों ने पुनः आने की सहर्ष स्वीकृति दे दी।

इस बार विमल, यूनुस और विकास छः बजे तक आ चुके थे। गप्पों का दौर शुरु हुआ। शुरुआत निजी चैनल्स में धारावाहिक निर्माण के तौर तरीकों पर शुरु हुई। विमल जी ने अपने अंदाज में सारा किस्सा बयां किया यानि पूरी ग्राफिक डिटेल्स के साथ। उनकी बातों का निचोड़ यही था कि सारा कुछ टी. आर. पी. का खेल है। बाकी कहानी क्या है, स्क्रिप्ट कैसी है, उस से ज्यादा ध्यान इस बात पर है कि कैसे जनता को सफाई से मूर्ख बना कर उसे बाँधे रखा जाए। फिर विमल भाई ने क्रिकेट में अपनी अंपायरी का एक बेहद दिलचस्प किस्सा सुनाया, जिसे यहाँ कार्यालय में सुनाकर मैं कईयों को हँसा चुका हूँ।

विमल भाई से प्रमोद जी के बारे में बताने को कहा गया क्योंकि वो खुद अपने बारे में ज्यादा कहते नहीं। कॉलेज के समय प्रमोद जी के कमरे और उसकी अनूठी साज सज्जा का जिक्र हुआ। विमल भाई रंगमंच के उन दिनों की याद करने लगे जब दिल्ली का 'मंडी हाउस' के पास का इलाका उनका और प्रमोद जी का अड्डा हुआ करता था। ये वो ज़माना था जब मनोज बाजपेयी विमल जी के रूममेट हुआ करते थे। विमल जी ने वो मज़ेदार प्रकरण भी सुनाया कि किस तरह पहली मुलाकात में ही प्रमोद जी ने मनोज की क्लॉस ले ली थी।

फिर यूनुस भाई से मैंने पूछा कि विविध भारती की अपनी दिनचर्या के बारे में बताएँ। बातों-बातों में ये जानकर मुझे आश्चर्य हुआ कि विविध भारती में सिर्फ ८ उद्घोषक हैं जिनमें से एक शिफ्ट में सिर्फ चार लोग होते हैं। यूनुस ने भी अमीषा पटेल से हाल ही में लिए गए साक्षात्कार के बारे में बताया कि कितनी मुश्किल से उन्होंने अमीषा के दिये गए ५ मिनटों को करीब आधे घंटे तक खींचा। इस दौरान अमीषा की बचकानी (मेरा और विकास का मत था कि उसे चुलबुली कहना ज्यादा सही रहेगा :)) अदाओं से यूनुस बेहद परेशान रहे। रेडिओ की बात पर यूनुस ने बताया कि एक बार उनकी बात हृशिकेष दा से हुई और उन्होंने पूछा कि दादा ये बताइए कि आपकी हर फिल्म में रेडियो क्यूँ बजता दिखता है ? दादा का उत्तर था कि रेडिओ ऍसा माध्यम है जो जितना दिखता नहीं उससे ज्यादा बैक आफ माइंड (यानि अंडरकरेंट) में रहता है और इसीलिए मैं उसे दिखाता हूँ।

गपशप कब गीत-संगीत पर आ गई ये मुझे भी याद नहीं पर फिर ऍसा समा बँधा कि बँधता ही चला गया। यूनुस की फ़र्माइश पर शुरुआत हुई इसी गीत से.."जब आपकी प्लेट खाली है तो सोचना होगा कि खाना कैसे खाओगे".. जिसके बोल आप विमल जी के ब्लॉग पर पढ़ सकते हैं। विमल भाई की आवाज़ का कायल तो मैं पिछली मुलाकात में ही हो चुका था। अब आप इस वीडियो को देखें और मुझे पूरा विश्वास है कि आप की राय मेरे से भिन्न नहीं होगी।

वीडियो ठीक से देखने के लिए स्क्रीन की ब्राइटनेस लेवल बढ़ा लें।


इसे सुनकर फ़ैज की नज़्म सब ताज उछाले जाएँगे, सब तख्त गिराए जाएँगे..की याद आ गई। यूनुस ने उसकी कुछ पंक्तियाँ सुनाईं। विमल जी ने फिर एक और गीत सुनाया। पुराने दिनों की याद करते हुए कहने लगे कि इसका असर ये होता है था
कि आस पास खड़े लोग भी ला....लल...ला... की तान में शामिल हो जाते थे। ऍसा ही हाल हमारे साथ भी हुआ। यहाँ देखें..



इसके बाद विमल जी ने मेरे पसंदीदा कवि गोपालदास नीरज की ये कविता खास 'नीरज' के अंदाज में सुनाईं

अब के सावन में शरारत भी मेरे साथ हुई
मेरे घर छोड़ के सारे शहर में बरसात हुई


इसी बीच प्रमोद जी, अनीता जी और अनिल भाई भी गीतों की इस महफ़िल में शामिल हो चुके थे। आते के साथ, अनिल रघुराज को हॉट सीट पर बैठा दिया गया और उन्होंने जो लोकगीत सुनाए वो यूनुस के चिट्ठे पर यहाँ मौजूद है।

गीतों का सिलसिला फिर विकास और मैंने आगे बढ़ाया। इस दोरान तीन घंटे कैसे बीते ये पता ही नहीं चला। सबने अनीता जी की लाई पूड़ी-सब्जी पर हा्थ साफ किया। अनीता जी के जाने के बाद महफ़िल गीतों से हटकर गंभीर चर्चा पर मुड़ी। घड़ी की सुईयाँ बढ़ती गईं। तकनीकी समस्याएँ, वेब रेडिओ, फिल्म निर्देशन, रोमन में हिंदी ब्लॉगिंग, सिनेमा देखने वाला दर्शक वर्ग, तरह-तरह के नए मुद्दे उछलते गए। रात्रि के बारह बजे तक ये सिलसिला चलता रहा और फिर सबने एक दूसरे से विदा ली।

दोस्तों, बहुत अच्छा लगा आप सब के साथ बिताई इन दो शामों का साथ। आशा है फिर आपसे मुलाकात होती रहेगी। तो चलते-चलते उस शाम का आनंद उठाएँ इन चित्रों के माध्यम से...

लो भई शुरु हो गया गप्पों का दौर...

पीली कमीज, लटकता चश्मा, चढ़ी आँखें..बालक तो बिना पिये मदहोश हो गया..

आओ बिखेरें फोटोजेनिक मुसकान !

मैं क्या जानूँ , क्या जानूँ क्या जादू है !

देखो कैसे बदले मेरे रंग चिट्ठाकारी के पहले...और अब चिट्ठाकारों के संग :) !

अरे अब तो मेमोरी कार्ड भी पूरा भर गया !

अब हर संडे के संडे, लेंगे तुमसे फंडे


किस्सा कुर्सी का...

रात होती गई..गुफ़्तगू चलती रही

पका डाला सालों ने...

Wednesday, December 05, 2007

"अथ श्री चिट्ठाकारमिलन कथा" भाग ३ : वो शाम जो मिलकर भी पूरी होने का अहसास नहीं दे पाई...

२७ तारीख की शाम के बारे में अभय और अनीता जी विस्तार से लिख चुके हैं इसलिए मेरे लिए समस्या विकट है कि नया क्या लिखूँ। पर ऍसा भी नहीं कि बिलकुल स्कोप नहीं है..और ना भी हो तो बनाना पड़ेगा :) तो हुजूर शाम के साढ़े छः बजे का वक्त तय था। विकास तयशुदा समय पर आ चुका था और बता रहा था कि कैसे वो यूनुस से फोन पर बात करते ही घबड़ा जाता है..आखिर मैं हुं स्टूडेंट और वो हैं इतनी बड़े सेलेब्रेटी। पर मेरी घबड़ाहट कुछ दूसरे तरह की थी... सोच रहा था कि लोग आएँगे तो चाय पानी का इंतजाम कैसे होगा? विकास ने कहा कि कहिये तो आप का नाम लेते हुए यूनुस भाई और बाकियों को कह दूँ कि जहाँ कहीं भी हों वहीं से कुछ लेते हुए चले आएँ। मैंने मन ही मन सोचा कि ऍसे धाँसू आइडिया अगर ये बालक कार्यान्वित कर दे तो इस ब्लॉगर मीट को ब्लॉगर रिट्रीट में तब्दील होने में ज्यादा वक़्त नहीं लगेगा। इसी बीच एक बुरी खबर ये भी आ चुकी थी कि कुछ दिनों पहले तक दिल्ली में पाए जाने वाले 'अज़दक' वाले प्रमोद सिंह भी आ रहे हैं :)

सात बजे तक जब यूनुस जी का पता नहीं चला तो फोन घुमाया गया। पता चला बिलकुल IIT गेट के करीब हैं। विकास ने कहा कि नीचे चलिए, वहीं से सबको बटोर लेंगे। गेस्ट हाउस के गेट तक पहुँचे ही थे कि नारंगी कमीज और झोला लिये एक सज्जन की मोटरबाइक धड़धड़ाती हुई बगल में आ कर रुकी। प्रमोद जी को पहचानने में हम दोनों को ज़रा भी वक़्त नहीं लगा पर इससे पहले कि हम दोनों कुछ कहें..प्रमोद जी ने पहला गोला विकास की ओर दागा। कहने लगे "जान रहे हो कि इतने लोग आने वाले हैं तो तुम्हें गेट पर रहना चाहिए"। इससे पहले विकास हकलाते
हुए ...मैं...वो....नीचे ही.....कहता कि दूसरा गोला हाज़िर था.."अरे जब ये गेस्ट हाउस में ठहरे हैं तो सबको हॉस्टल में मिलने की बात क्यूँ कही गई"। विकास ने शीघ्र ही इस बाउंसर को डक करते हुए कहा कहीं मनीष जी ने ही तो यूनुस भाई को.........मुझे समझ आ गया कि ये सब किया कराया विविध भारती वालों का है। रात दिन इतनी जगहों का नाम पढ़ते रहते हैं कि कनफ्यूज होना स्वाभाविक है।

फिर प्रमोद जी ने मेरा हुलिया गौर से देखा। पूछा कहाँ से आते हो? पटना में घर होने की बात होते ही उद्विग्न हो उठे। कहने लगे कैसे रह लेते हो उस शहर में, जहाँ अभय सिंह जैसे लोग पत्रकारों की सरे आम पिटाई करते हों ?

अब भला इसका क्या उत्तर देते ? विकास ने कहा नहीं हालात अब पहले से अच्छे हैं, राज्य विकास के रास्ते पर हैं, रोड वोड बन रही हैं।
ये सुनते ही प्रमोद भाई बिफर उठे, कहने लगे तुम लोग रोड के बनने को विकास कहते हो यार! ये तो बहुत बेसिक सी चीज है... हमने समवेत स्वर में कहा - वहाँ तो वो भी बनते देखे एक अर्सा हो गया था तो अपेक्षाएँ काफी कम हो गईं हैं। हम दोनों की क्लॉस कुछ और देर चलती यदि ऐन वक़्त पर भगवन की असीम अनुकंपा से अनीता जी ना पधार गई होतीं। प्रमोद जी उनसे परिचय लेने में व्यस्त हुए और तभी अभय, यूनुस और विमल वर्मा भी आ पहुँचे।

प्रमोद जी की बातचीत की अदा निराली है। बड़े नपे तुले अंदाज में रुक-रुक कर बोलते हैं और वो भी धीमी संयत आवाज़ में। इसके बाद पूरी शाम वो ज्यादा नहीं बोले...सबकी सुनते रहे।

अब बैठक कमरे में जम चुकी थी और उसकी कमान यूनुस और अभय भाई ने सँभाल ली थी। अब आप सोच रहे होंगे कि कमान यूनुस के हाथ में हो तो माहौल में संगीत की स्वरलहरियाँ गूँज रही होंगी। नही भाई नहीं, बात हो रही थी क्रेडिट और डेबिट कार्ड से जुड़ी घपलेबाजियों की। अपनी बात के दौरान कार्डों की फेरहिस्त दिखलाते हुए युनूस ने ये साबित कर दिया कि उनके बटुए का वज़न, उनकी खनखनाती आवाज़ से कम नहीं है।



क्रेडिट कार्ड की बात खत्म हुई इतने में अभय जी का फोन आया तो बात अनीता कुमार जी की उस पोस्ट की ओर मुड़ गई जिसमें उन्होंने ठगों से जुड़ी किताब 'फिरंगी' की पुस्तक समीक्षा की थी। अनीता जी मनोविज्ञान की प्रोफेसर हैं। उन्होंने भी अपनी आरकुट से चिट्ठाजगत की यात्रा के बारे में विस्तार से बताया। 'आवारा बंजारा' वाले संजीत उनके चिट्ठा गुरु हैं। पचास की आयु को पार करने के बाद चिट्ठाकारिता में आने की वज़हों के बारे में उन्होंने कहा कि अब तक की जिंदगी उन्होंने कैरियर पर ध्यान रखकर जी, पर जब उसमें ठहराव आ गया तो उन्हें लगा कि अब कुछ वक्त उन्हें खुद के लिए भी निकालना चाहिए। अनीता जी ने पूरी मीट के दौरान 'Official Food Sponser 'का दायित्व बिना कहे उठाया और इसके लिए हम सब तहेदिल से उनके उदरमंद हैं।

इसी बीच अनिल रघुराज भी आ चुके थे। अनिल भाई का हेयर स्टाइल कमाल का है, चिट्ठे में अपनी तसवीर के मुकाबले ज्यादा युवा नज़र आते हैं। वैसे उनकी एक विशेषता है कि वो कम बोलने और ज्यादा सुनने में विश्वास रखते हैं।

अभय जी वापस आए तो उन्होंने गुमनाम और ना पहचाने जाने वाले IP address की तकनीकी तह तक जाना चाहा। विकास ने जवाब में अपने फंडे देने शुरु किए। अब आप विमल भाई, अनिल जी,अनीता जी और मेरी दशा समझ ही रहे होंगे। हमारे पास अच्छे बच्चों की तरह चुपचाप विद्वान जनों की बातें सुनने के आलावा कोई चारा ना था। विकास के तकनीकी ज्ञान को देखते हुए हम सबने प्रश्नों की झड़ी लगा दी। अभय जी ने जोर दे कर कहा कि अगर लोकप्रिय चिट्ठाकार बनना है तो तकनीक पर लिखो क्योंकि बाकी सब विषयों पर तो जिसको जो मन में आता है वो लिख देता है। खैर लोकप्रियता की बात आई तो अभय भाई के कानपुर प्रवास में क्रिकेट खेलने और "मोस्ट डैशिंग मैरिड ब्लॉगर" का खिताब अर्जित करने का जिक्र आया और माहौल ठहाकों से गूँज उठा।

डेढ़ घंटे बीतने जा रहे थे पर विमल और अनिल जी से कुछ खास बात तो क्या, ठीक से परिचय भी नहीं हो पाया था। सो बातों को रोकते हुए मैंने विमल जी को अपने बारे में कुछ बताने को कहा। पता चला विमल,अभय , प्रमोद और अनिल भाई सब इलाहाबाद विश्वविद्यालय की पैदाइश हैं और एक समय ये चौकड़ी 'दस्ता' नामक समूह की सदस्य थी और उस दौर में ये घूम घूम कर नुक्कड़ नाटकों का मंचन किया करते थे। ये एक सुखद संयोग ही है कि छात्र जीवन के बाद सारे अलग अलग रास्तों से होते हुए मुंबई नगरिया में वापस लौटे हैं। विमल जी को चिट्ठाजगत में खींचने में प्रमोद जी का मुख्य हाथ है।

अभय जी टेलीविजन सीरियलों के लिए स्क्रिप्ट लिखते हैं और वो अपने को इस इंडस्ट्री का मजदूर कहते हैं। वैसे देखा जाए तो ये बात हम सब पर किसी ना किसी रूप में लागू होती है। अनिल और विमल जी स्टार और सहारा वन से जुड़े हैं। प्रमोद जी ने मीडिया के क्षेत्र में थोड़ा थोड़ा सब कुछ किया है फिर भी कहते हैं कि कुछ नहीं किया है अब इसके मायने आप चाहे जो निकाल लें।

अनीता जी को दूर जाना था सो करीब दस बजे सब लोगों ने उनसे विदा ली। गेट से निकलते निकलते मुझसे छठ का गीत सुनाने की पेशकश की गई। अब चिट्ठे पर जब उसे डाला था तो बोल सामने थे, यहाँ इतने धुरंधरों के बीच याददाश्त ने भी जवाब दे दिया था सो मैंने अपनी असमर्थता ज़ाहिर की। मेरी हिचक को देखते हुए खिंचाई और शुरु हुई पर अभय भाई ने मौके पर हमारा बचाव किया। फिर विमल, अभय और अनिल भाई का सम्मिलित गान हुआ। अनीता जी को फिर विदा देकर हम कैंटीन की ओर चल पड़े। कैंटीन में भी अभय जी का दिमाग उन पुराने गीतों में खोया रहा। पोवई लेक की बगल में थोड़ा टहलने के बाद जब सभा विसर्जित हुई तो सब को लग रहा था कि एक बार और महफ़िल जमनी चाहिए...

(अंतिम चित्र अभय जी के चिट्ठे सेः बाएँ से मैं, अनिल रघुराज, डंडे की ओट में यूनुस, विमल वर्मा, विकास, प्रमोद और बैठी हुईं अनीता कुमार)

तीस तारीख को हमारा फिर से मिलना मेरे लिए इस समूची यात्रा की सबसे यादगार कड़ी रहा...क्यूँ हुआ ऍसा ये जानते हैं इस श्रृंखला के अगले और अंतिम भाग में..

Monday, December 03, 2007

"अथ श्री चिट्ठाकारमिलन कथा" भाग २ : आइए मिलवाते हैं आपको रंगमंच कलाकार, युवा कवि विकास से

विकास से पहले का मेरा खास परिचय नहीं था। साहित्य प्रेमी बालक है, कविता और गद्य लेखन में रुचि है उसके चिट्ठे पर आते जाते मैं इतना तो जान गया था। २६ की शाम को बुलाते ही आज्ञाकारी बालक की तरह रूम पर आ गया। मैंने बात कविता लेखन से शुरु की पर कवि कहने से वो झेंप गया। कहने लगा क्यूँ मजाक़ उड़ा रहे हैं?
मैंने कहा कि ये सब नहीं चलेगा , कविता लिखते हो तो फक्र से कहो कि कवि हूँ।

अब आगे बताओ कि तुम्हारी प्रेरणा कौन है?
पर IIT का छात्र ठहरा हमारे प्रश्न को यूँ चलता किया कि हम तो दूसरों के दर्द को महसूस करते हैं और लिखते हैं। यहाँ तक कि प्रमाण के तौर पर दो दिन बाद अपनी एक रचना के प्रेरणा स्रोत को साक्षात सड़क पर दिखा दिया और कहा कि इसकी गर्ल फ्रेंड ने जब इसे छोड़ा था तो वो मेरी एक कविता की रचना का कारण बना था। अब ऍसे साक्षात प्रमाणों के सामने हम क्या बोलते। चुप हो कर रह गए पर दिमाग में संशय वर्त्तमान रहा।

अगले दिन गेस्ट हाउस में इंटरनेट सर्फिंग करते वक़्त इनके चिट्ठे पर एक कविता नज़र आई शुरु की पंक्तियाँ पढ़ कर हम अभिभूत हो गए। आप भी देखिए, इन्होंने जिंदगी के यथार्थ को अपनी पैनी नज़रों से किस खूबसूरती से सारगर्भित किया है...
जिंदगी चलती है
अगरबत्ती जलती है
फर्क नहीं दिखता़।

दोनों के अंत में
बचती है सिर्फ राख।
और थोड़ी खुशबू
और थोड़ी आग।

जो चंद पलों में मिट जाती है।
कोई तर्क नहीं बचता।
कोई फर्क नहीं दिखता।


उस दिन की बातें और फिर ये सब हमने बात मन ही मन मान ली थी कि वाकई सारे संसार का दर्द इनके संवेदनशील हृदय को छूता है पर ये क्या ..मैंने पूरी कविता तो पढ़ी ही नहीं थी। आगे की दो पंक्तियों में कविता अचानक ही दूसरा मोड़ ले बैठी थी

क्या तुम मेरी खुशबू सँजो सकोगी?
क्या तुम कभी मेरी हो सकोगी?

हमें दाल में कुछ काला लगा या कहें पूरी दाल ही काली लगी। पहले दिनों बातों में ये भी पता चला कि विकास IIT में हिंदी प्रेमी छात्र छात्राओं के लिए एक समूह वाणी चलाते हैं जिसकी बैठकों में बाहर से लोगों को बुलाते भी हैं प्रतियोगिता में निर्णायक के तौर पर। ऍसी ही एक बैठक में अनीता कुमार जी भी आईं थीं। २७ को हुई पहली भेंटवार्ता के दौरान जब उन्होंने बताया कि हिंदी प्रेमी छात्र छात्राओं के बीच विकास की शोहरत अमिताभ बच्चन से कम नहीं है, तो हमें काली दाल फिर से याद आ गई।

खैर, एक दिन विकास बातों बातों में मेरा राशि चिन्ह पूछ बैठे । जब मैंने अपना राशि चिन्ह मकर बताया तो खुद ही कहने लगे कि मेरी मकर राशि वालों से अच्छी पटती है और मेरी ex भी मकर राशि वाली ही थी। खैर राँची आकर हमने इस विषय पर गहन तहकीकात की तो ये मसाला हाथ लगा। कमेन्टस पर खास ध्यान दीजिएगा, आगे आप खुद समझदार हैं। (भाई विकास पोस्ट डिलीट मत कर देना)
चलिए प्रेरणा वाली बात पर बाद में लौटेंगे। पहले विकास के क्रियाशील व्यक्तित्व की एक झलक देखिए। केमिकल इंजीनियरिंग के चतुर्थ वर्ष के छात्र हैं पर प्रोग्रामिंग करना उनके लिए जुनून की तरह है। जब भी कोई नया idea हाथ लगता है कि भिड़ जाते हैं। इधर पहली मीटिंग में अभय भाई ने ब्लागिंग के तकनीकी पहलुओं पर लिखने भर का जोश दिलाया और अगली सुबह ब्लॉग बुद्धि की शुरुआत हो गई।


जब २९ को विकास के हॉस्टल के कमरे में गया तो बरबस अभय जी की पोस्ट पर नीरज रोहिला के कमेंट की याद आ गई। कमरे में एक इंच की जगह ना थी। सामने सिंथेसाइजर था, और चारों तरफ थीं बिखरी किताबें और इनके बीच कंप्यूटर पर चलती जावा प्रोग्रामिंग। सिंथेसाइजर पर धुन बजाना अभी हाल ही में शुरु किया है विकास ने। बस दिक्कत विकास के साथ यही है कि अक्सर सब कुछ वो भूल जाते हैं, डर यही है कि आगे चलकर ये मुलाकात उनके व्यस्त जीवन में याद रह पाएगी या नहीं। क्या कहा ?.. आप विश्वास नहीं कर पा रहे। ठीक है जनाब इस वीडियो का आखिरी हिस्सा ज़रा गौर से देखें





पर विकास के जिस शौक ने हम सब को खासा प्रभावित किया वो था रंगमंच से इनका जुड़ाव। विकास नियमित रूप से नाटक लिखते हैं और उसमें अभिनय करते हैं। इनके नाटक 'खेल' को वर्ष २००६ में IIT के फेस्टिवल मूड इंडिगो में पहला पुरस्कार मिला। उस प्रतियोगिता के निर्णायक थे अनुपम खेर जिनसे इन्हें व्यक्तिगत तौर पर शाबासी मिली। विकास की बातें सुनकर विमल वर्मा जी कह उठे कि भाई तुमने तो हमारा बीस साल पहले वाला रूप सामने ला दिया

३० तारीख को जब हम दूसरी बार मिले तो विकास ने अपने एक नाटक की कुछ बेहतरीन झलकियाँ सुनाईं जिन्हें सुनकर मन गदगद हो गया। इनकी एक प्रस्तुति की रिकार्डिंग नहीं हो पाई पर दूसरी बार मैं तैयार था। आप भी देखें उनके ताज़ा नाटक से एक झलकी की एक झलकी जिसकी शुरुआत में वो ये गीत डाल रहे हैं।

विकास बुलंद आवाज़ के मालिक हैं और यूनुस जी की कोशिश सफ़ल रही तो जल्द रेडिओ पर भी सुने जाएंगे।

पर नाटकों में इन्हें इतनी रुचि क्यूँ है इन्होंने ये तो नहीं बताया पर सुराग इनके चिट्ठे पर ही मिल गया। अब नाटकों की प्रैक्टिस के दौरान लिया ये चित्र अपनी कहानी खुद कहता है:p। देखिए तो विकास के चेहरे पर कितने परम संतोष का भाव नज़र आ रहा है, क्यूँ ना आए भला जब साथी कलाकार इस कोटि के हों :) !

विकास के साथ ये तीन चार दिन बड़े मजे में बीते। अगले तीन महिने विकास के लिए बेहद महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इस अंतराल में उसे एक अच्छी सी नौकरी मिलने का इंतज़ार है। मुझे यक़ीन है कि विकास अपने प्रयासों में जल्द ही सफल होंगे। हम सब की शुभकामनाएं तुम्हारे साथ हैं।


अगली पोस्ट में २७ नवंबर की पहली भेंटवार्ता की कुछ रोचक झलकियों के साथ पुनः उपस्थित होता हूँ...

Sunday, December 02, 2007

"अथ श्री चिट्ठाकारमिलन कथा" भाग १: अफ़लातून जी से एक छोटी सी मुलाकात

पिछले बारह दिनों में पहले बनारस और फिर मुंबई की यात्रा कर कल ही लौटा हूँ। यही वजह रही की इस चिट्ठे की कई शामें सूनी रहीं। पर इस आभासी जिंदगी से दूर निकलने का भी अपना ही एक आनंद है। मिलना-जुलना हुआ अलग-अलग क्षेत्रों में माहिर लोगों से, मौका मिला इन की जिंदगियों से कुछ पल चुराने का। बनारस से बंबई तक के सफ़र में मैने क्या महसूस किया अपने इन साथी चिट्ठाकारों की संगत में उसकी विस्तृत रपट अगली कुछ पोस्टों में ज़ारी रहेगी।

तो पहले जिक्र बनारस का जहाँ मुझे एक शादी में जाना था। वैसे तो मुगलसराय जाने के लिए राँची से कई गाड़ियाँ हैं पर सीधे बनारस के लिए एक ही रेलगाड़ी है वो है इंटरसिटी।

बड़ी ही कमाल की गाड़ी है जनाब! पूरी ट्रेन में बस एक स्लीपर का डब्बा है और बाकी सब सामान्य दर्जा। जब भी आप उस इकलौते शयनयान में प्रवेश करेंगे, आपको लगेगा कि आप पुलिस थाने में घुस रहे हैं यानि रिवॉल्वर और दुनाली बंदूकों से सुसज्जित जवान दोनों दरवाजे पर गश्त लगाते मिलेंगे। विडंबना ये कि इतनी फोर्स होने के बावजूद राँची-गढ़वा रोड के बीच ट्रेन में हफ्ते में एक आध डकैतियाँ हो ही जाया करती हैं । इसलिए जिसे भी मज़बूरी में उस गाड़ी से सफ़र करना होता है वो सारे रास्ते राम-राम जपता जाता है। खैर प्रभु ने अपनी कृपा हम पर बनाई रखी और तीन दिनों में आना जाने के दौरान हम सुरक्षित वापस पहुँचे।

सोचा मैंने ये था कि एक दिन तो पूरा शादी में खपा देंगे और दूसरे दिन सुबह-सुबह अफलातून जी के यहाँ धमक लेंगे और फिर दो तीन घंटे की बात चीत के बाद घर होते हुए वापस हो लेंगे। पर अफ़लू जी का वो दिन अपने कुछ मेडिकल टेस्ट के लिए पहले से ही मुकर्रर हो चुका था सो वो ग्यारह बजे से पहले मिलने में असमर्थ रहे। अब हमारे पास समय था नौ से बारह का। तो समय काटने के लिए पहले बी. एच. यू. कैंपस का चक्कर लगाते हुए काशी विश्वनाथ मंदिर हो आए और वहीं से उनके घर की तरफ अपनी पूरी बटालियन के साथ धावा बोलने की योजना तैयार की गई। पर जोधपुर कॉलोनी में प्रवेश करने के बाद भी हमारे रिक्शे वाले उनका घर ढ़ूंढ़ने में विफल रहे। इसलिए ना चाहते हुए भी हमें अपने इस धावे की पूर्वसूचना अफ़लू जी को देनी पड़ी। पाँच मिनट के अंदर ही वे अपने स्कूटर के साथ अवतरित हुए और वहाँ से पथ प्रदर्शक का काम करते हुए वो हमें अपने घर पर ले गए।

भाभीजी तो पहले ही कॉलेज जा चुकीं थीं और हमारे ना ना कहने पर भी वो चाय बनाने किचन की तरफ चल पड़े। चोरी के भय से कैमरा ले कर चले नहीं थे वर्ना समाजवादी विचारों के प्रति उनकी कटिबद्धता के आलावा उनकी चाय बनाने की निपुणता की झलक आपको अवश्य दिखलाते।

अफ़लू जी अपना अधिकाधिक समय अपनी पार्टी के विचारों को आगे बढ़ाने में करते हैं। मुझे उनके पते से ये भ्रम था कि वो भी शिक्षक होंगे और अपने बचे-खुचे समय को राजनीतिक गतिविधियों में लगाते होंगे। पर बातचीत के दौरान पता चला कि वे अपना अधिकाधिक समय पार्टी के विचारों को आगे बढ़ाने और स्वतंत्र लेखन में व्यतीत करते हैं। अगले आधे घंटे में ज्यादातर बातें बी एच यू के पुराने दिनों, उनके स्वास्थ और वाराणसी के कुछ वैसे गंतव्य स्थलों के बारें में हुईं जहाँ टूरिस्ट जानकारी की कमी के आभाव में नहीं जा पाते। फिर अफलू जी का किचन गार्डन देखा गया। चलते-चलते उन्होंने मुझे अपने द्वारा संपादित एक पुस्तक "कोक पेप्सी की लूट और पानी की जंग" भेंट की । समयाभाव की वजह से अपने चिट्ठों के संदर्भ में कोई बात नहीं हो पाई और हम सब उनसे विदा ले के वहाँ से निकल गए।

वापस लौटने के दो तीन बाद ही मुंबई के लिए एक ट्रेनिंग पर निकलना था। यूनुस जी को अपने कार्यक्रम की जानकारी पहले ही दे चुका था ताकि वो सब को सूचित कर दें और उधर विकास को भी सूचना दे दी थी कि अगर मिलने जुलने की जगह आई. आई. टी. के बाहर तय हुई तो उसी की सहायता लूँगा। अनीता जी को भी एक मेल कर दिया था। २५ की सुबह मैं निकल पड़ा अपनी इस यात्रा पर। राँची से सीधी उड़ानों पर कोई जगह ना मिलने की वज़ह से दस बजे से पाँच बजे तक का समय कोलकाता एयरपोर्ट पर किसी तरह गुजारा।

रात्रि आठ बजे के लगभग टिमटिमाती दूधिया रोशनी से चमकती मुंबई महानगरी की अद्भुत झलक दिखाई दी। हवाई जहाज से इस दृश्य को क़ैद करने की कोशिश की पर विफल रहा। रात्रि के समय मुंबई की मेरीन ड्राइव पर पहले भी चहलकदमी करने का मौका मिलता रहा है पर आसमान से क्वीन्स नेकलेस का ये विहंगम दृश्य मन को रोमांचित कर देता है। आखिर मज़ाज ने व्यथित हृदय से ही सही, अपनी नज्म आवारा में इसका जिक्र कुछ यूँ किया है।

झिलमिलाते कुमकुमों की राह में, जंजीर सी
रात के हाथों में दिन की, मोहनी तसवीर सी


अगले दिन ही यूनुस को लंच के अवकाश के समय फोन पर पकड़ा। एक हैलो के बाद वही चिरपरिचित खनखनाती आवाज़ सुनाई दी और थोड़ी ही देर में विकास के फोन के आते ही २७ तारीख को पहले कार्यक्रम का खाका खिंचने लगा।

मुंबई में बिताए इन पाँच दिनों में सबसे ज्यादा मेरा वक़्त गुजरा विकास के साथ। तो IIT के इस होनहार छात्र के बारे में बात करते हैं इस ब्लॉगर पुराण की अगली किश्त में..

Sunday, November 18, 2007

बहुत दिन हो, गए सच्ची, तेरी आवाज़ की बौछार में भीगा नहीं हूँ मैं :अनुपम खेर की आवाज में गुलज़ार की नज़्म

क्या आपकी जिंदगी में ऐसा नहीं हुआ ? कुछ अजीज शक्लें गुजरते लमहों की परतों पर क्या स्याह होती नहीं चली गईं? कुछ तो है ये वक़्त भी अजीब चीज, खुद तो कभी बूढ़ा नहीं होता पर अपने साथ रिश्तों की मुलायमियत में सिलवटें खड़ी कर देता है। पुराने चेहरे या रिश्ते वैसे ही हो जाते हैं जैसे कच्ची सड़क पर चलते वाहनों की वज़ह से धूल धूसरित शुष्क और निस्तेज पत्ते ।

पर इन धुँधले चेहरों रूपी पत्तों पर वर्षों से ना सुनी आवाज़ की बौछारें जब पड़ती हैं तो फिर हरियाली लौट आती है और सब खुशनुमा सा हो जाता है.....गुलज़ार साहब ऐसी ही आवाज़ों की प्रतीक्षा में हैं अपनी इस नज़्म में..

वैसे गुलज़ार का लिखा वो गीत तो याद है ना आपको

नाम गुम जाएगा, चेहरा ये बदल जाएगा
मेरी आवाज़ ही पहचान है गर याद रहे...


इस नज़्म में गुलजार साहब के कुछ जुमलों पर गौर करें

तेरी आवाज़, को काग़ज़ पे रखके, मैंने चाहा था कि पिन कर लूँ
कि जैसे तितलियों के पर लगा लेता है कोई अपनी एलबम में


उफ्फ कोई क्या कहे उनके इस वाक्य विन्यास पर !
और फिर यहाँ देखें किस बारीकी से चेहरों पर बनते हाव भावों को नज़्म में उतारा है उन्होंने..

तेरा बे को दबा कर बात करना
Wow ! पर होठों का छल्ला गोल होकर घूम जाता था


मामूली बातों को अद्भुत बनाना कोई गुलज़ार से सीखे।
तो सुनिए अनुपम खेर की शानदार आवाज़ में गुलजार की ये नज़्म....





मैं कुछ-कुछ भूलता जाता हूँ अब तुझको

मैं कुछ-कुछ भूलता जाता हूँ अब तुझको
तेरा चेहरा भी धुँधलाने लगा है अब तख़य्युल* में
बदलने लग गया है अब वह सुबह शाम का मामूल
जिसमें तुझसे मिलने का भी एक मामूल** शामिल था


तेरे खत आते रहते थे
तो मुझको याद रहते थे
तेरी आवाज़ के सुर भी
तेरी आवाज़, को काग़ज़ पे रखके
मैंने चाहा था कि पिन कर लूँ
कि जैसे तितलियों के पर लगा लेता है कोई अपनी एलबम में


तेरा बे को दबा कर बात करना
वॉव पर होठों का छल्ला गोल होकर घूम जाता था
बहुत दिन हो गए देखा नहीं ना खत मिला कोई
बहुत दिन हो, गए सच्ची
तेरी आवाज़ की बौछार में भीगा नहीं हूँ मैं
* कल्पना, ** रीति

दस कहानियों फिल्म से संकलित गुलजार की चुनिंदा नज्मों की इस श्रृंखला की पिछली कड़ियाँ


  1. बस एक लमहे का झगड़ा था.... दिया मिर्जा की आवाज में

  2. पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाजी देखी मैंने... नसीरुद्दीन शाह की आवाज में.

Friday, November 16, 2007

उ जे मरबो रे सुगवा धनुक से सुगा गिरे मुरझाय : सुनिए मेरा सबसे पसंदीदा छठ गीत

आज छठ पर्व है। आज श्रृद्धालु डूबते सूरज को अर्घ्य देंगे और  कल भोर में दूसरा अर्घ्य उगते सूरज को दिया जाएगा। छठ का नाम बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के सबसे पावन पर्वों में शुमार होता है। विश्व में जहाँ कहीं भी इन प्रदेशों के लोग गए हैं वो अपने साथ इसकी परंपराओं को ले कर गए हैं। छठ जिस धार्मिक उत्साह और श्रृद्धा से मनाया जाता है इसका अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि जब तीन चौथाई पुलिसवालों के छुट्टी पर रहते हुए भी बिहार जैसे राज्य में इस दौरान आपराधिक गतिविधियाँ सबसे कम हो जाती हैं।

अब छठ की बात हो और छठ के गीतों का जिक्र ना आए ये कैसे हो सकता है। बचपन से मुझे इन गीतों की लय ने खासा प्रभावित किया था। इन गीतों से जुड़ी एक रोचक बात ये है कि ये एक ही लए में गाए जाते हैं और सालों साल जब भी ये दिन आता है मुझे इस लय में छठ के गीतों को गुनगुनाने में बेहद आनंद आता है। यूँ तो शारदा सिन्हा ने छठ के तमाम गीत गा कर काफी प्रसिद्धि प्राप्त की है पर आज जिस छठ गीत की मैं चर्चा कर रहा हूँ उसे मैंने टीवी पर भोजपुरी लोक गीतों की गायिका देवी की आवाज में सुना था और इतने भावनात्मक अंदाज में उन्होंने इस गीत को गाया था कि मेरी आँखें भर आईं थीं।

इससे पहले कि ये गीत मैं आपको सुनाऊँ, इसकी पृष्ठभूमि से अवगत कराना आपको जरूरी होगा। छठ में सूर्य की अराधना के लिए जिन फलों का प्रयोग होता है उनमें केला और नारियल का प्रमुख स्थान है। नारियल और केले की पूरी घौद गुच्छा इस पर्व में प्रयुक्त होते हैं।

इस गीत में एक ऐसे ही तोते का जिक्र है जो केले के ऐसे ही एक गुच्छे के पास मंडरा रहा है। तोते को डराया जाता है कि अगर तुम इस पर चोंच मारोगे तो तुम्हारी शिकायत भगवान सूर्य से कर दी जाएगी जो तुम्हें नहीं माफ करेंगे। पर फिर भी तोता केले को जूठा कर देता है और सूर्य के कोप का भागी बनता है। पर उसकी भार्या सुगनी अब क्या करे बेचारी? कैसे सहे इस वियोग को ? अब तो ना देव या सूर्य कोई उसकी सहायता नहीं कर सकते आखिर पूजा की पवित्रता जो नष्ट की है उसने।
ये गीत थोड़ी बहुत फेर बदल के बाद सभी प्रमुख भोजपुरी गायकों द्वारा गाया गया है। तो पहले सुनें मेरी इसे गुनगुनाने की कोशिश

केरवा जे फरेला घवद से
ओह पर सुगा मेड़राय

उ जे खबरी जनइबो अदिक (सूरज) से
सुगा देले जुठियाए

उ जे मरबो रे सुगवा धनुक से
सुगा गिरे मुरझाय

उ जे सुगनी जे रोए ले वियोग से
आदित होइ ना सहाय
देव होइ ना सहाय

अब देवी का गाया हुआ ये गीत तो मुझे नहीं मिल सका पर आप सब के लिए अनुराधा पोडवाल के स्वर में ये गीत प्रस्तुत है



Thursday, November 15, 2007

सुनिए गुलज़ार की दो बेहतरीन नज़्में: 'बस एक लमहे का झगड़ा था' और 'पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाजी देखी मैंने'

कुछ आवाज़ें मन में गूँज रही हैं। कुछ अहसास पीछा छोड़ने को तैयार नहीं हैं। दिल है कि डूबता जा रहा है। बार-बार रीप्ले का बटन दब रहा है। क्यों हो रहा है ऐसा? जब शब्दों के जादूगर गुलज़ार कि एक से बढ़कर एक खूबसूरत नज़्में सुनने को मिलें तो ऐसा ही होता है। फिल्म दस कहानियाँ में हर कहानी को ध्यान में रखकर लिखी ये नज़्में रूपहले पर्दे के कलाकारों की आवाज़ में और निखर गई हैं। आज ले के आया हूँ इस गुलदस्ते की चंद पसंदीदा नज़्मों की ये पहली कड़ी...

कुछ विषय ऐसे हैं जिन पर गुलज़ार ने कई मर्तबा लिखा है। और हर बार उन्हीं भावनाओं को अलग-अलग बिम्बों के माध्यम से बड़ी सहजता से अपनी बातों को वो हमारे दिल तक पहुँचाते रहे हैं। ऍसा ही उनका एक प्रिय विषय है 'रिश्तों की तल्खियाँ'' जिस पर जब भी उन्होंने लिखा है, मन को अपनी भावनाओं के सा् बहाने में वो सफल रहे हैँ। याद है ना आपको इनकी नज्म


कोई मौसम का झोंका था, जो इस दीवार पर लटकी हुई तसवीर तिरछी कर गया है...
गए सावन में ये दीवारें सीमी नहीं थीं
ना जाने क्यूँ इस दफ़ा इन में सीलन आ गई है
दरारें पड़ गई हैं
और सीलन इस तरह बहती हे जैसे
खुश्क़ रुखसारों पर आँसू चलते हैं....


अगर ये पढ़कर आपका मन ना भीगा हो तो दिया मिर्जा की मखमली आवाज़ में इसे सुनकर जरूर भींग जाएगा


बस एक लमहे का झगड़ा था....
दर-ओ-दीवार पर ऐसे छनाके से गिरी आवाज़
जैसे काँच गिरता है
हर एक शय में गई, उड़ती हुई, जलती हुई किरचियाँ
नज़र में, बात में, लहज़े में
सोच और साँस के अंदर
लहू होना था एक रिश्ते का, सो वो हो गया उस दिन
उसी आवाज़ के टुकड़े उठा कर फर्श से उस शब
किसी ने काट ली नब्ज़ें
न की आवाज़ तक कुछ भी
कि कोई जाग ना जाए
बस एक लमहे का झगड़ा था........
*****************************************************************


आपने कभी सोचा है कि दूर आकाशगंगा के किसी छोर पर सृष्टिकर्ता और एक कवि आपने सामने बैठे हों और जीवन रूपी शतरंज की बिसात बिछी हो। याद कीजिए प्रेमचंद की कहानी 'शतरंज के खिलाड़ी' के नायकों को। कैसे दिमाग के पुर्जे भिड़ाते भिड़ाते, म्यान से तलवारें निकल आईं थीं और शाम के ढलते सूरज की लालिमा रक्त की बूदों से और गहरी हो गईं थीं। पर वे तो दोनों मानव थे, इसलिए उन्होंने एक दूसरे पर बल प्रयोग किया तो उसे मानवोचित दुर्गुण मान कर मन को समझा लेना होगा।


पर यहाँ मामला कुछ दूसरा है । मुहरों के इस खेल में बड़ी रोचक स्थिति है। एक ओर साक्षात भगवन हैं तो दूसरी ओर उनके समक्ष है एक अदना सा शायर। पर इतनी आसानी से घुटने नहीं टेकने वाला हमारा कवि। देखिए तो जिंदगी को उलझाती भगवन की हर चाल का इस खूबी से जवाब दे रहा है कि बाजी पलटती नज़र आ रही है...


नसीरुद्दीन शाह ने जिस अंदाज़ में इस नज़्म को पढ़ा है वो काबिलेतारीफ़ है।


पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाजी देखी मैंने...

काले घर में सूरज रखके
तुमने शायद सोचा था मेरे सब मुहरें पिट जाएँगे
मैंने एक चिराग जला कर अपना रास्ता खोल दिया
तुमने एक समंदर हाथ में लेकर मुझ पर ढेल दिया
मैंने नूर की कश्ती उसके ऊपर रख दी
काल चला तुमने और मेरी जानिब देखा
मैंने काल को तोड़ के लमहा-लमहा जीना सीख लिया
मेरी ख़ुदी को तुमने चंद चमत्कारों से मारना चाहा
मेरे एक प्यादे ने तेरा चाँद का मोहरा मार लिया
मौत की शह देकर तुमने समझा था अब तो मात हुई
मैंनें जिस्म का खोल उतार कर सौंप दिया और रुह बचा ली

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर अब तुम देखो बाजी...



दस कहानियाँ फिल्म से ली गई गुलज़ार की नज़्मों का ये सफ़र अगली कड़ी में भी जारी रहेगा.....

Tuesday, November 13, 2007

हमारी साँसों में आज तक वो हिना की ख़ुशबू महक रही है....सुनिए नूरजहाँ और मेहदी हसन की आवाज़ में ये गज़ल़

पिछला हफ्ता अंतरजाल यानि 'नेट' से दूर रहा। जाने के पहले सोचा था कि नूरजहाँ की गाई ये ग़ज़ल आपको सुनवाता चलूँगा पर पटना में दीपावली की गहमागहमी में नेट कैफे की ओर रुख करने का दिल ना हुआ। वैसे तो नूरजहाँ ने तमाम बेहतरीन ग़ज़लों को अपनी गायिकी से संवारा है पर उनकी गाई ग़ज़लों में तीन मेरी बेहद पसंदीदा रही हैं। उनमें से एक फ़ैज़ की लिखी मशहूर नज़्म "....मुझसे पहली सी मोहब्बत मेरी महबूब ना माँग....." इस चिट्ठे पर आप पहले सुन ही चुके हैं। अगर ना सुनी हो तो यहाँ देखें।

तो आज ज़िक्र उन तीन ग़ज़लों में इस दूसरी ग़ज़ल का। ये ग़ज़ल मैंने पहली बार १९९५-९६ में एक कैसेट में सुनी थी और तभी से ये मेरे मन में रच बस गई थी। लफ़्जों की रुमानियत का कमाल कहें या नूरजहाँ की गहरी आवाज़ का सुरूर कि इस ग़ज़ल को सुनते ही मन पुलकित हो गया था। इस ग़जल की बंदिश 'राग काफी' पर आधारित है जो अर्धरात्रि में गाया जाने वाला राग है। वैसे भी महबूब के खयालों में खोए हुए गहरी अँधेरी रात में बिस्तर पर लेटे-लेटे जब आप इस ग़ज़ल को सुनेंगे तो यक़ीन मानिए आपके होठों पर शरारत भरी एक मुस्कुराहट तैर जाएगी।


हमारी साँसों में आज तक वो हिना की ख़ुशबू महक रही है
लबों पे नग्मे मचल रहे हैं, नज़र से मस्ती झलक रही है

वो मेरे नजदीक आते आते हया से इक दिन सिमट गए थे
मेरे ख़यालों में आज तक वो बदन की डाली लचक रही है

सदा जो दिल से निकल रही है वो शेर-ओ-नग्मों में ढल रही है
कि दिल के आंगन में जैसे कोई ग़ज़ल की झांझर झनक रही है

तड़प मेरे बेकरार दिल की, कभी तो उन पे असर करेगी
कभी तो वो भी जलेंगे इसमें जो आग दिल में दहक रही है


इस ग़जल को किसने लिखा ये मुझे पता नहीं पर हाल ही मुझे पता चला कि इस ग़ज़ल का एक हिस्सा और है जिसे जनाब मेहदी हसन ने अपनी आवाज़ दी है। वैसे तो दोनों ही हिस्से सुनने में अच्छे लगते हैं पर ये जरूर है कि नूरजहाँ की गायिकी का अंदाज कुछ ज्यादा असरदार लगता है।

शायद इस की एक वज़ह ये भी हैं कि जहाँ इस ग़ज़ल के पहले हिस्से में महकते प्यार की ताज़गी है तो वहीं दूसरे हिस्से में आशिक के बुझे हुए दिल का यथार्थ के सामने आत्मसमर्पण।

तो मेहदी हसन साहब को भी सुनते चलें,इसी ग़ज़ल के एक दूसरे रूप में जहाँ एक मायूसी है..एक पीड़ा है और कई अनसुलझे सवाल हैं...

हमारी साँसों में आज तक वो हिना की ख़ुशबू महक रही है
लबों पे नग्मे मचल रहे हैं, नज़र से मस्ती झलक रही है

कभी जो थे प्यार की ज़मानत वो हाथ हैं गैरो की अमानत
जो कसमें खाते थे चाहतों की, उन्हीं की नीयत बहक रही है

किसी से कोई गिला नहीं है नसीब ही में वफ़ा नहीं है
जहाँ कहीं था हिना को खिलना, हिना वहीं पे महक रही है

वो जिन की ख़ातिर ग़ज़ल कही थी, वो जिन की खातिर लिखे थे नग्मे
उन्हीं के आगे सवाल बनकर ग़ज़ल की झांझर झनक रही है

Monday, November 05, 2007

हमने हसरतों के दाग आँसुओं से धो लिए:सुनिए गुलाम अली की गाई ये ग़ज़ल

जिंदगी में कितनी बार ऍसा होता है कि आप अपने मित्र से रूठ जाते हैं। बात चीत बंद हो जाती है। आप सोचते हैं कि इस बार मैं नहीं बोलने वाला। उसे ही मुझे मनाना होगा। पर फिर एक दिन अनायास ही सब पहले जैसा हो जाता है, झुकता कोई एक है पर खुशी दोनों को होती है।

मेरे एक मित्र हैं जो बताते हैं कि कुछ ऍसा ही मसला उनके साथ कॉलेज के ज़माने में पेश आया था। अब बात कॉलेज की है तो आप समझ ही रहे होंगे कि ये दोस्ती किस तरह की थी। सब कुछ सही चल रहा था कि इन्होंने कुछ कह दिया और उधर मुँह ऍसा फूला कि लोगों ने होठ ना हिलाने की कसम खा ली। अब ये संवादहीनता की स्थिति कब तक बर्दाश्त हो पाती?

पर क्या करें जनाब ....बहुत उपाय सोचे गए और अंत में एक दिन आनन फानन में ये गुलाम अली की कैसेट खरीदी और दे आए साथ में इस ग़जल का मतला लिख कर...

हमने हसरतों के दाग आँसुओं से धो लिए
आपकी खुशी हुजूर बोलिए ना बोलिए

अब गुलाम अली की आवाज़ कहिए या मतले की गहराई मामला फिर ऍसा चल निकला कि आज तक दौड़ रहा है। :) तो आप के साथ कभी ऍसा हो तो आप भी ये तरकीब अपना सकते हैं।

अब लौटें इस ग़ज़ल पर..वास्तव में ये पूरी ग़ज़ल बड़ी प्यारी है। खासकर पहले दो शेर तो वाकई कमाल के हैं। यक़ीन नहीं आता तो खुद ही सुन लें..

Get this widget eSnips Social DNA


हमने हसरतों के दाग आँसुओं से धो लिए
आपकी खुशी हुजूर बोलिए ना बोलिए


क्या हसीन ख़ार* थे, जो मेरी निगाह ने
सादगी से बारहा, रूह में चुभो लिए

*काँटे
मौसम-ए-बहार है, अम्बरीन* खुमार है
किसका इंतज़ार है, गेसुओं को खोलिए

*इत्र

जिंदगी का रास्ता काटना तो था अदम*
जाग उठे तो चल दिये, थक गए तो सो लिए

*कठिन

Sunday, November 04, 2007

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ :शीशों का मसीहा कोई नहीं क्या आस लगाए बैठे हो ?

बहुत अर्से पहले की बात है। अंतरजाल पर एक शायरी समूह में हरिवंशराय बच्चन की कविता "..जो बीत गई सो बात गई, मानो वो बेहद प्यारा था.." की बात चल रही थी। उसी सिलसिले में बात निकली की फ़ैज अहमद फ़ैज ने भी कुछ ऍसा ही लिखा था ..."तुम नाहक टुकड़े चुन चुन कर, दामन में छुपाए बैठे हो...शीशों का मसीहा कोई नहीं क्या आस लगाए बैठे हो..."। उस बातचीत का असर ये हुआ कि नज़्म का मुखड़ा दिमाग में रह गया। बाद में जब ये नज़्म, 'फै़ज़' के एक संकलन में पूरी पढ़ी तब समझ आया कि जहाँ बच्चन ने अपनी कविता पहली पत्नी के देहांत के बाद अपने व्यक्तिगत वियोग से ऊपर उठने के लिए लिखी थी, वहीं फ़ैज ने जेल से लिखी इस नज्म में जीवन के व्यक्तिगत सपनों के टूटने से उपजी उदासी को भुलाकर, सामाजिक असमानता को कम करने के लिए संघर्ष करने का आह्वान किया था।

फ़ैज़ की ये नज़्म आज के सामाजिक हालातों को देखते हुए भी उतनी ही सापेक्षिक है। बहुत पहले इसे मैंने इसके कुछ हिस्सों को अपने रोमन चिट्ठे पर चढ़ाया था पर इस नज़्म को आज यहाँ अश्विन्दर सिंह की गुजारिश पर पूरी पेश कर रहा हूँ


मोती हो कि शीशा, जाम कि दुर1
जो टूट गया सो टूट गया
कब अश्कों से जुड़ सकता है
जो टूट गया, सो छूट गया
1. एक तरह का माणिक

तुम नाहक टुकड़े चुन चुन कर
दामन में छुपाए बैठे हो
शीशों का मसीहा कोई नहीं
क्या आस लगाए बैठे हो

शायद कि इन्हीं टुकड़ों में कहीं
वो साग़रे-दिल2 है जिसमें कभी
सद नाज़3 से उतरा करती थी
सहबाए-गमें-जानां की परी
2. हृदय रूपी मदिरा पात्र, 3.गर्व से

फिर दुनिया वालों ने तुम से
ये सागर लेकर फोड़ दिया
जो मय थी बहा दी मिट्टी में
मेहमान का शहपर4 तोड़ दिया
4. सबसे मज़बूत पंख

ये रंगी रेजे5 हैं शाहिद6
उन शोख बिल्लूरी7 सपनों के
तुम मस्त जवानी में जिन से
खल्वत8 को सजाया करते थे

5. टुकड़े, 6. साक्षी, 7. काँच, 8. एकाकीपन

नादारी 9, दफ्तर, भूख और गम
इन सपनों से टकराते रहे
बेरहम था चौमुख पथराओ
ये कांच के ढ़ांचे क्या करते

9. दरिद्रता

या शायद इन जर्रों में कहीं
मोती है तुम्हारी इज्जत का
वो जिस से तुम्हारे इज्ज़10 पे भी
शमशादक़दों11 ने नाज़ किया
10. विनम्रता 11. सरों के पेड़ ऍसे कद वालों ने

उस माल की धुन में फिरते थे
ताजिर भी बहुत रहजन भी बहुत
है चोर‍नगर, यां मुफलिस की
गर जान बची तो आन गई

ये सागर शीशे, लालो- गुहर
सालम हो तो कीमत पाते हैं
यूँ टुकड़े टुकड़े हों तो फकत12
चुभते हैं, लहू रुलवाते हैं

12. सिर्फ

तुम नाहक टुकड़े चुन चुन कर
दामन में छुपाए बैठे हो
शीशों का मसीहा कोई नहीं
क्या आस लगाए बैठे हो

यादों के गरेबानों के रफ़ू
पर दिल की गुज़र कब होती है
इक बखिया उधेड़ा, एक सिया
यूँ उम्र बसर कब होती है

इस कारगहे-हस्ती13 में जहाँ
ये सागर शीशे ढ़लते हैं
हर शै का बदल मिल सकता है
सब दामन पुर हो सकते हैं
13. संसार

जो हाथ बढ़े यावर14 है यहाँ
जो आंख उठे वो बख़्तावर15
यां धन दौलत का अंत नहीं
हों घात में डाकू लाख यहाँ
14. सहायक, 15. भाग्यवान

कब लूट झपट में हस्ती16 की
दुकानें खाली होती हैं
यां परबत परबत हीरे हैं
या सागर सागर मोती है
16. जीवन

कुछ लोग हैं जो इस दौलत पर
पर्दे लटकाया फिरते हैं
हर परबत को हर सागर को
नीलाम चढ़ाते फिरते हैं

कुछ वो भी हैं जो लड़ भिड़ कर
ये पर्दे नोच गिराते हैं
हस्ती के उठाईगीरों की
हर चाल उलझाए जाते हैं


इन दोनों में रन१७ पड़ता है
नित बस्ती बस्ती नगर नगर
हर बसते घर के सीने में
हर चलती राह के माथे पर
१७. संघर्ष

ये कालक भरते फिरते हैं
वो जोत जगाते रहते हैं
ये आग लगाते फिरते हैं
वो आग बुझाते रहते हैं

सब सागर शीशे, लालो-‍गुहर
इस बाज़ी में बिद जाते हैं
उठो, सब ख़ाली हाथों को
इस रन से बुलावे आते हैं


फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़'

Thursday, November 01, 2007

या रब्बा...दे दे कोई जान भी अगर..: सुनिए कैलाश खेर की आवाज में ये उदास नग्मा

किसी शायर ने क्या खूब कहा है...

तेरा हिज्र मेरा नसीब है, तेरा गम ही मेरी हयात है
मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यूँ, तू कहीं भी हो मेरे साथ है
तेरा इश्क मुझ पे है मेहरबान, मेरे दिल को हासिल है दो ज़हां
मेरी जान-ए-जां इसी बात पर मेरी जान जाए तो बात है


पर हक़ीकत अगर इससे ठीक उलट हो तो कोई क्या करे? वो प्रेम जिसका कोई प्रतिकार ना मिले, जो सिर्फ हमारे एकतरफा खुशनुमा ख्याल रूपी बुलबुलों का पुलिंदा हो..., व्यर्थ है, कभी भी फट सकता है ये समझने में अक्सर युवा काफी समय लगा देते हैं। और जब बात समझ आती है तो भी उसे स्वीकार करने को दिल तैयार नहीं होता क्योंकि तब तक हम अपनी कितनी मानसिक उर्जा खर्च कर चुके होते हैं। मन रास्ता दिखाता है सबसे कट जाओ..अकेलेपन को गले लगा लो..चुपचाप अपनी घुटन और बेचैनी बर्दाश्त करो..

कुछ ऍसे ही दर्द की अभिव्यक्ति करता समीर का लिखा गीत मैंने पिछले शनिवार रेडिओ पर सुना। और ये कैलाश खेर की आवाज़ का जादू था कि एक बार सुनकर ये गीत दिल की वादियों में अटक सा गया पर बोल याद ना रह पाए इसलिए मुश्किल थी कि खोजूँ कैसे और यक़ीन मानिए उस गीत को दुबारा सुनने के लिए रविवार को वो चैनल सुबह से लगातार ट्यून किया तो शाम को जाकर ये गीत मुझे दुबारा सुनने को मिला।

क्या शुरुआत है गीत की..शंकर-एहसान-लॉए का कलरव सा करता संगीत...कैलाश खेर की दिलकश गहरी आवाज़ आपको एकदम से बाँध लेती है और फिर गिटार के वो कमाल के नोट्स और बाँसुरी की तान। गीत के बढ़ने के साथ खेर की आवाज़ में गहराता दर्द , समीर के बोलों को आत्मसात करने को बाध्य कर देता है। कैलाश खेर के कैरियर के शुरुआती सफ़र और गायिकी के बारे में तो यहाँ पहले भी बात हो चुकी है। बस इस गीत को सुनने के बाद नम आँखों से बस यही दुआ निकलती है

या रब्बा ये बंदा बस ऍसे ही गाता रहे....

तो लीजिए सुनिए फिल्म सलाम-ए-इश्क का ये गीत


प्यार है या सज़ा, ऐ मेरे दिल बता
टूटता क्यूँ नहीं दर्द का सिलसिला
इस प्यार में हों कैसे कैसे इम्तिहान
ये प्यार लिखे कैसी कैसी दास्तान

या रब्बा... दे दे कोई जान भी अगर
दिलबर पे हो ना, दिलबर पे हो ना कोई असर
हो..या रब्बा... दे दे कोई जान भी अगर
दिलबर पे हो ना, दिलबर पे हो ना कोई असर
प्यार है या सज़ा, ऐ मेरे दिल बता
टूटता क्यूँ नहीं दर्द का सिलसिला ?


कैसा है सफ़र वफ़ा की मंजिल का
ना है कोई हल दिलों की मुश्किल का
धड़कन धड़कन बिखरी रंजिशें
सासें सासें टूटी बंदिशें
कहीं तो हर लमहा होठों पे फ़रियाद है
किसी की दुनिया चाहत में बर्बाद है
या रब्बा... दे दे कोई जान भी अगर
दिलबर पे हो ना, दिलबर पे हो ना कोई असर
हो..या रब्बा... दे दे कोई जान भी अगर
दिलबर पे हो ना, दिलबर पे हो ना कोई असर

कोई ना सुने सिसकती आहों को
कोई ना धरे तड़पती बाहों को
आधी आधी पूरी ख्वाहिशें
टूटी फूटी सब फ़रमाइशें
कहीं शक है कही नफ़रत की दीवार है
कहीं जीत में भी शामिल पल पल हार है
या रब्बा... दे दे कोई जान भी अगर
दिलबर पे हो ना, दिलबर पे हो ना कोई असर
हो..या रब्बा.. दे दे कोई जान भी अगर
दिलबर पे हो ना, दिलबर पे हो ना कोई असर
प्यार है या सज़ा, ऐ मेरे दिल बता
टूटता क्यूँ नहीं दर्द का सिलसिला

ना पूछो दर्दमंदों से
हँसी कैसी, खुशी कैसी
मुसीबत सर पे रहती है
कभी कैसी कभी कैसी
हो...रब्बा....रब्बा.हो...

Tuesday, October 30, 2007

'एक इंच मुस्कान', राजेंद्र यादव और मन्नू भंडारी का साझा उपन्यास


'एक इंच मुस्कान', राजेंद्र यादव और मन्नू भंडारी का साठ के दशक में लिखा एक साझा उपन्यास है। यूँ तो मन्नू भंडारी मेरी प्रिय लेखिका हैं और उनका लिखा महाभोज और 'आप का बंटी' मेरी पसंदीदा किताबों में हमेशा से रहा है पर जब भी मैंने पुस्तक मेले में इस किताब को उलटा पुलटा, ये मुझे आकृष्ट नहीं कर पाई। पर हाल ही में जब ये किताब मुझे अपने पुस्तकालय में हाथ लगी तो मन्नू जी की वज़ह से इसे पढ़ने का लोभ संवरण नहीं कर सका।

अब पुस्तक पढ़ ली है तो ये कहते मुझे संकोच नहीं कि ये वैसा उपन्यास नहीं जिसे आप एक बार उठा लें तो ख़त्म कर के ही दम लें। दो अलग-अलग लेखन शैली के लेखकों को जोड़ता ये उपन्यास खुद कथा लेखन में रुचि रखने वालों के लिए जरूर बेहद महत्त्व का है, पर आम पाठकों के लिए इसके नीरस हिस्सों को पार कर पाना कभी-कभी काफी दुरूह हो जाता है।

आखिर साथ-साथ लिखने की सोच कहाँ से आई? इस उपन्यास की उत्पत्ति बारे में स्वयं मन्नू भंडारी जी कहती हैं.....

".....यह सच है कि लेखन बहुत ही निजी और व्यक्तिगत होता है. लेकिन “एक इंच मुस्कान” उस दौर में लिखा गया था जब प्रयोगात्मक उपन्यास लिखने का सिलासिला चल रहा था. उस समय एक उपन्यास निकला था ''ग्यारह सपनों का देश'' इस उपन्यास को दस लेखकों ने मिलकर लिखा था. जिसने आरंभ किया था उसी ने समाप्त भी किया. लेकिन यह एक प्रयोग था जो कि पूरी तरह असफल रहा. तब लक्ष्मीचन्द्र जैन ने मुझसे और राजेन्द्र से यह प्रयोग दोबारा करने को कहा हम राज़ी हो गए. मेरा एक उपन्यास तैयार रखा था. राजेंद्र ने कहा क्यों न हम इस उपन्यास को फिर से लिख लें. हांलाकि मेरी भाषा-शैली और नज़ारिया राजेन्द्र से बिलकुल अलग है, लेकिन हमने किया यह कि मैं मुख्य रूप से महिला पात्र पर केंद्रित रही और राजेन्द्र पुरूष पात्र पर....."

पर सबसे आश्चर्य इस बात पर होता है कि इस उपन्यास को पढ़ कर इसके बारे में जो अनुभूतियाँ आपके मन में आती हैं, वही पुस्तक के अंत में दिए गए लेखक और लेखिका के अलग अलग वक्तव्यों में प्रतिध्वनित होती हैं। यानि प्रयोगात्मक तौर पर लिखे इस उपन्यास की कमियों का अंदाजा लेखकगण को भी था। खुद राजेंद्र यादव लिखते हैं

"..मुझे हमेशा मन में एक बोझ सा महसूस होता रहता था कि मेरे चैप्टर सरस नहीं जा रहे हैं जितने मन्नू के। मन्नू के लिखने में प्रवाह और निव्यार्ज आत्मीयता है, और मेरी शैली बहुत सायास और बोझिल है..यह बात कुछ ऍसे कौशल से फ़िजा में भर दी गई कि जहाँ कोई कहता कि......... आप लोगों का उपन्यास ज्ञानोदय में........कि मैं बीच में ही काटकर बोल पड़ता "जी हाँ और उसमें मन्नू के चैप्टर अच्छे जा रहे हैं।..."

मन्नू जी ने भी माना है कि कथानक के गठन और प्रवाह में जगह जगह शिथिलता है, पर वो ये भी कहती हैं कि ऐसे प्रयोगों में इससे अधिक की आशा रखना ही व्यर्थ है।
कथा के शिल्प पर तो खूब टीका-टिप्पणी हो गई पर चलिए असली मुद्दे पर लौटते हैं कि आखिर ये एक इंची मुस्कान है किन लोगों के बारे में ?

पूरा उपन्यास तीन पात्रों के इर्द गिर्द घूमता है। ये कथा है एक साहित्यकार और उसकी मध्यमवर्गीय कामकाजी प्रेमिका की, जिससे नायक आगे चलकर शादी भी कर लेता है। आप सोच रहे होंगे तो फिर परेशानी क्या है, इतनी सीधी सपाट कहानी है। पर तीसरा किरदार ही तो सारी परेशानी का सबब है और उसका चरित्र सबसे जटिल है। वो है आभिजात्य वर्ग से ताल्लुक रखने वाली साहित्यकार की एक प्रशंसिका जिसके चरित्र को मन्नू जी ने आरंभ में बड़ी खूबसूरती से उकेरा है पर आखिर तक ये पकड़ छूटती महसूस होती है।

एक रोचक बात ये भी रही किर पति-पत्नी के रुप में मन्नू भंडारी और राजेंद्र यादव ने जब ये किताब लिखी तो लोगों ने नायक नायिका के किरदार में राजेंद्र जी और मन्नू जी का अक़्स तलाशना शुरु कर दिया। आज जबकि उनके बीच कोई संबंध नहीं रहा, ये शक शायद और पुख्ता हो। पर यहाँ ये बताना लाज़िमी होगा कि मन्नू जी ने पुस्तक के अंत में अपने वक्तव्य में इसका खंडन किया है।

इस उपन्यास में बहुत सारी घटनाएँ नहीं हैं ना ही ज्यादा पात्र हैं, अगर है तो अपनी-अपनी जिंदगी में घुलते तीन इंसानों की मनोवैज्ञानिक स्थितियों का आकलन । प्रेमी को पति के रूप में पाकर भी छली जाने का अहसास ले के घुट घुट के जीती रंजना हो, या कुछ सार्थक ना लिख पाने और कमाऊ पत्नी के सानिध्य में अपने आप को हीन और कुंठित महसूस करना वाला अमर , या फ़िर अपनी जिंदगी के कड़वे सच से दूर भागती, पर दूसरों को मार्गदर्शन देती अमला ....सभी जीवन के इस चक्रव्यूह में पल पल संघर्ष करते दिखते हैं। इन चरित्रों की एक छोटी सी झलक आप उपन्यास अंश के तौर पर आप यहाँ पढ़ सकते हैं। उपन्यास ने कुछ ऐसे विषयों को छुआ है जिस के पक्ष विपक्ष में सार्थक बहस हो सकती है। मसलन...


  1. क्या कोई कलाकार अपनी कला से बिना कोई समझौता किए अपनी पत्नी और परिवार को समय दे सकता है? और अगर नहीं तो फिर क्या ऍसी हालत में उसे दाम्पत्य सूत्र में बँधने का हक़ है?

  2. क्या हमपेशा कलाकार सिर्फ़ इसी वज़ह से सफल गृहस्थ नहीं हो सकते कि दोनों कला सृजन की जैसी रचना प्रक्रिया से परिचित होते हैं? इस तर्क के समर्थन में पुस्तक के इस अंश को लें..
    "...इसलिए उनमें, एक को दूसरे के प्रति ना आस्था होती है, ना श्रृद्धा। कला सृजन के अंतरसंघर्ष के प्रति दोनों ही लापरवाह और बेलिहाज हो जाते हैं। एक को दूसरे की रचना प्रक्रिया में ना तो कुछ रहस्यमय लगता है न श्रमसाध्य.. "

  3. कहानी लेखन के लिए क्या ये जरूरी है कि कथाकार अपने पात्रों में इस कदर एकाकार हो जाए कि वो उनके हिसाब से कहानी आगे बढ़ाता रहे ? दूसरे शब्दों में क्या लेखन में कथा के पात्र लेखक पर हावी होने चाहिए या पात्रों के सुख-दुख से इतर वो सोच सर्वोपरि होनी चाहिए जिसके आधार पर लेखक ने कहानी का प्लॉट रचा है ?

एक पाठक के रूप में मैं इन प्रश्नों के सीधे सपाट उत्तर सोच पाने में अभी तक सफल नहीं हो पाया हूँ पर जानना चाहूँगा कि इस बारे में आपका क्या मत है?

पुस्तक के बारे में :
ये किताब भारत में राजपाल एंड सन्ज द्वारा प्रकाशित की गई है। भारत के बाहर यहाँ से आप इसे खरीद सकते हैं

Sunday, October 28, 2007

राँची में निजी एफ एम रेडिओ चैनल बिग , मंत्रा और धमाल का आगमन

पिछले तीन-चार दिनों से वाइरल की चपेट में हूँ चिट्ठा पढ़ना लिखना बेहद कम हो गया है। पर आज मन फिर भी बेहद खुश है। आखिर वो दिन आ ही गया जिसका मुझे कई दिनों से बेसब्री से इंतजार था। छोटे शहरों में निजी एफ एम चैनल का हाल के दिनों में तेजी से विस्तार हो रहा है और इसी क्रम में हुआ है राँची में तीन नए चैनल का एक साथ प्रवेश : बिग एफ एम, दैनिक जागरण वालों का रेडियो मंत्रा और रेडियो धमाल।

ये खुशी सिर्फ मेरी आँखों में हो ऍसी बात नहीं। कल जब मैं बिस्तर पर पड़े पड़े रेडिओ के गानों पर अपने बच्चे और हमारे यहाँ काम करने वाली लड़की को थिरकते देख रहा था तो मुझे बिलकुल संदेह नहीं रहा कि इनके चेहरे से निकलने वाली खुशी सारे राँची वासियों की खुशी का प्रतिनिधित्व करती है जिनके लिए रेडिओ अभी भी मनोरंजन का प्रमुख साधन है।

पर एक सहज प्रश्न जो किसी भी संगीत प्रेमी के मन में जरूर आता है वो ये है कि आखिर निजी रेडिओ चैनल के बढ़ते प्रचार प्रसार से 'विविध भारती' के भविष्य पर क्या प्रभाव पड़ेगा ? क्या आपको नहीं लगता कि जहाँ भी विकल्प मौजूद है, किशोरों और युवा वर्ग में निजी चैनल विविध भारती की तुलना में कहीं ज्यादा लोकप्रिय होते जा रहे हैं? इस बदलते समय में आपकी विविध भारती से क्या अपेक्षाएँ रही हैं? मैंने इसी विषय को रेडिओनामा पर यहाँ विचार विमर्श के लिए उठाया है।

आशा है इस बहस का आप हिस्सा बनेंगे।

Tuesday, October 23, 2007

रात भर बुझते हुए रिश्ते को तापा हमने..गुलज़ार की नज्म उन्हीं की आवाज़ में..


इंसानी रिश्तों का क्या है..
बड़े नाजुक से होते हैं...
इनकी गिरहें खोलना बेहद मुश्किल है
जितना खोलों उतनी ही उलझती जाती हैं..
और किसी रिश्ते को यूँ ही ख़त्म कर देना इतना आसान नहीं...
कितनी यादें दफ्न करनी पड़ती हैं उसके साथ...


माज़ी के वो अनमोल पल, उन साथ बिताए लमहों की अनकही सी तपिश...
कुछ ऍसा ही महसूस करा रहें हैं गुलज़ार अपनी इस बेहद खूबसूरत नज़्म में ....
कितने सुंदर शब्द चित्रों का इस्तेमाल किया है पूरी नज़्म में गुलज़ार ने कि इसकी हर इक पंक्ति मन में एक गहरी तासीर छोड़ती हुई जाती है...


रात भर सर्द हवा चलती रही
रात भर हमने अलाव तापा
मैंने माज़ी से कई खुश्क सी शाखें काटी
तुमने भी गुजरे हुए लमहों के पत्ते तोड़े
मैंने जेबों से निकाली सभी सूखी नज़्में
तुमने भी हाथों से मुरझाए हुए ख़त खोले
अपनी इन आँखों से मैंने कई मांजे तोड़े
और हाथों से कई बासी लकीरें फेंकी
तुमने भी पलकों पे नमी सूख गई थी, सो गिरा दी

रात भर जो भी मिला उगते बदन पर हमको
काट के डाल दिया जलते अलावों में उसे
रात भर फूकों से हर लौ को जगाए रखा
और दो जिस्मों के ईंधन को जलाए रखा
रात भर बुझते हुए रिश्ते को तापा हमने..


और अगर खुद गुलज़ार आपको अपनी ये नज़्म सुनाएँ तो कैसा लगे। तो लीजिए पेश है गुलज़ार की ये नज़्म 'अलाव' उन्हीं की आवाज में....

Sunday, October 21, 2007

दुर्गापूजा की एक रात, चलिए राँची की सड़कों पर मेरे साथ...

शहर में जश्न का माहौल है। सालों साल आम जन में इस उत्साह की पुनरावृति को देखता आया हूँ। बचपन और किशोरावस्था के कई सालों में पटना की गलियों और सड़कों में इसी हुजूम का कई बार हिस्सा बना हूँ। और अब राँची में अपने बालक को जब इन पूजा पंडालों की सैर करा रहा हूँ तो वही दृश्य फिर से सामने आ रहा है। सबसे अच्छी बात यही दिखती है कि लोग बाग अपनी रोजमर्रा की जिंदगी के कष्टों को भूल कर किस तरह कर हर साल नई उमंग और उत्साह के साथ इस त्योहार में शामिल हो जाते हैं।


पिछले साल भी इस चिट्ठे पर आपको दुर्गापूजा के पंडालों में ले गया था। चलिए एक बार फिर इस सफ़र में मेरे साथ शामिल हो जाइए।

वैसे तो शाम से ही पूजा पंडालों मे दर्शनार्थियों की भीड़ उमड़ पड़ती है पर उस वक्त की धक्कमधुक्की में परिवार के साथ निकलने की हिम्मत नहीं होती। इसलिए तमाम लोग अर्धरात्रि के बाद ही निकलते हैं। रात के साढ़े ग्यारह बज रहे हैं। हमारी तैयारी पूरी हो चुकी है। पर पहली बाधा घर के बाहर . गेट के ठीक सामने खड़ी एक गाड़ी के रूप में दिखाई देती है। गाड़ी किसी दूसरे मोहल्ले से आई है, इसलिए पता नहीं चल रहा है कि किसकी है? थोड़ी पूछताछ के बाद भी जब कोई नतीजा नहीं निकलता तो गाड़ी का हार्न लगातार बजा कर सारे मोहल्ले की नींद खराब की जाती है। जिनकी नींद खराब होती है उनमें से कुछ हमारी इस खोज में शामिल होते हैं और दस मिनट के अंदर वो गाड़ीवाला, क्षमा माँगता हुआ वहाँ से गाड़ी हटाता है।

पहली बाधा पार कर हम चल पड़े हैं राँची लेक के पास के राजस्थान मित्र मंडल के पंडाल की तरफ।

रात के बारह बज चुके हैं पर भीड़ जस की तस है। अब घर से खा पी कर कौन चलता है. पंडाल होगा तो आस पास खाने की स्टॉल भी होंगी। वैसे भी इस निम्मी-निम्मी ठंड में गोलगप्पे, समोसे और चाट खाने का आनंद कुछ और है।
राँची में इस बार सर्दी कुछ जल्द ही आई है। बकरी बाजार की ओर हल्के हल्के कदम से बढ़ते हुए इस ठंडक का अहसास हो रहा है। रात के एक बजना चाहते हैं। भीड़ तेजी से कदम बढ़ाने नहीं दे रही है। गरीब, अमीर, मनचले, पियक्कड़ सब इसी टोली में कंधे से कंधा मिला रहे हैं। राँची का सबसे सुंदर पंडाल हर साल बकरी बाजार में ही लगता है। इस पंडाल का बजट दस लाख के करीब होता है। इसलिए पंडाल का अहाता विज्ञापन से अटा पड़ा है। पर दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर के मॉडल की बाहरी और आंतरिक सज्जा देखने लायक है। आखिर इसीलिए इतने लोग इतनी दूर दूर से इसे देखने के लिए आते हैं। आप भी गौर फरमाएँ..

हर बड़े पंडाल के बाहर मेले का भी आयोजन है। स्पीकर से उद्घोषक 'मौत के कुएँ ' में आने के लिए भीड़ को आमंत्रित कर रहा है। तरह-तरह के झूलों पर एक से दस साल के बच्चे बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। पर इतनी भीड़् में हमें वहाँ रुकने का दिल नहीं कर रहा और हम सब रातू रोड की ओर बढ़ चले हैं। रातू रोड से कचहरी तक का मुख्य आकर्षण यहाँ की विद्युत सज्जा है। कहीं महाभारत की झांकियाँ हैं तो कहीं सपेरे का नाग नाच चल रहा है। मेरा पुत्र इसे देख कर बेहद उत्साहित है और मुझे इनकी तसवीरें जरूर लेने की हिदायत दे रहा है।


वैसे एक बात बताएँ आप क्या पसंद करेंगे सर्प नृत्य या 'भेज चोमीन' :)?



घड़ी की सुइयाँ तीन के पास पहुँच रही हैं । रास्ते में बाहर गाँव से आए युवा रोड के डिवाइडर पर बैठ कर झपकियाँ ले रहे हैं । रात वो इसी तरह गुजारेंगे और सुबह आवागमन का साधन उपलब्ध होने पर अपने घर चले जाएँगे। भीड़ अब कम हो रही है और अब पंडालों में दुर्गा की प्रतिमाओं का अवलोकन और नमन करना सबको ज्यादा संतोष दे रहा है। तीन बजे हम कोकर के पंडाल के अंदर हैं। यहाँ अभी भी १०० से ज्यादा लोग ध्वनि और प्रकाश के बीच महिसासुर वध का आनंद ले रहे हैं। पंडाल के बाहर 20-20 की आखिरी गेंद का दृश्य दिखाया जा रहा है और श्रीसंत को गेंद लपकते देख कर बच्चे तालियाँ बजा रहे हैं।

हमारा आखिरी पड़ाव काँटाटोली और फिरायालाल है। इतना घूमने फिरने के बाद सबके चेहरे का मीटर डाउन है। दर्शक अब चुनिंदे ही दिख रहे हैं। रास्ते में मुर्गे की बांग भी सुनाई दे रही है, शायद ये कहती हुई कि.. सुबह हो गई मामू। हमारे जैसे रात का प्राणी सुबह चार बजे की बेला बिड़ले ही देख पाते हैं। सारी रात घूमना अपने बचपन में लौट जाने जैसा ही लग रहा है। सिर्फ पात्र बदल गए हैं।


ये तो था मेरे शहर की एक रात का आँखों देखा हाल। आप बताएँ कैसे मनाया आपने दुर्गा पूजा और दशहरा ?
 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie