Saturday, March 08, 2008

वार्षिक संगीतमाला २००७ : 'सरताज गीत'- यूँ तो मैं दिखलाता नहीं तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ..


प्रतीक्षा के पल समाप्त हुए। वक्त आ पहुँचा है वार्षिक संगीतमाला के सरताजी बिगुल के बजने का..

बात पिछले नवंबर की है। मैं अपनी इस संगीतमाला के लिए पसंदीदा गीतों की फेरहिस्त तैयार करने में जुटा था। पर १५-१६ गीतों की सूची तैयार करने के बाद भी अपनी प्रथम दो स्थानों के लायक मुझे कोई गीत लग ही नहीं रहा था। यूनुस से भी मुंबई में बातचीत के दौरान अपनी दिक्कत ज़ाहिर की तो उन्होंने भी माना था कि इस साल मामला पिछले साल जैसा नहीं रहा। पर तब तक मैंने तारे जमीं पर के गीतों को नहीं सुना था। टीवी पर भी शुरुआत में सिर्फ शीर्षक गीत की कुछ पंक्तियाँ दिखाई जा रही थीं। दिसंबर का अंतिम सप्ताह आने वाला था और पहली पॉयदान की जगह अभी तक खाली थी। और तभी एक दिन किसी एफ एम चैनल से इस गीत की पहली दो पंक्तियाँ उड़ती उड़ती सुनाई दीं....

मैं कभी बतलाता नहीं पर अँधेरे से डरता हूँ मैं माँ
यूँ तो मैं दिखलाता नहीं, तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ..
.
हृदय जैसे थम सा गया। तुरंत इंटरनेट पर जाकर ये गीत सुना और गीत की भावनाएँ इस कदर दिल को छू गईं कि आँखें नम हुए बिना नहीं रह सकीं।

कुछ गीत झूमने पर विवश करते हैं...
कुछ की मेलोडी मन को बहा ले जाती है...
वहीं कुछ के शब्द हृदय को मथ डालते हैं, सोचने पर विवश करते हैं।
'एक शाम मेरे नाम' की वार्षिक संगीतमालाओं में मैंने ऍसे ही तीसरी कोटि के गीतों को हमेशा से साल के 'सरताज गीत' का तमगा पहनाया है और शायद इसलिए आप में से बहुतों ने मेरी पसंद के सरताज गीत की सही पहचान की है।

जिंदगी में अपने नाते रिश्तेदारों के स्नेह को बारहा हम 'Taken for Granted' ले लेते हैं। हम भी उनसे उतना ही प्रेम करते हैं पर व्यक्त करने में पीछे रह जाते हैं। ऍसे रिश्तों में ही सबसे प्रमुख होता है माँ का रिश्ता ...
ये गीत मुझे याद दिलाता है ...

माँ के हाथ से खाए उन कौरों के स्वाद का.....
बुखार में तपते शरीर में सब काम छोड़ चिंतित चेहरे के उस ममतामयी स्पर्श का... अपनी परवाह ना करते हुए भी अपने बच्चों की खुशियों को तरज़ीह देने वाली उस निस्वार्थ भावना का....

तारे जमीं पर मैंने अंततः फरवरी में जाकर देखी और जैसा मनीष जोशी ने अपनी प्रतिक्रिया में यूनुस के चिट्ठे पर कहा है कि इस गीत को देखते समय अपनी भावनाओं पर काबू कर पाना काफी कठिन हो जाता है। प्रसून का गीत तो माँ के बिना अपने आप को मानसिक रूप से असुरक्षित महसूस करते बच्चे की कहानी कहता है, पर सुनने वाला बच्चे का दर्द महसूस करते करते अपने बचपन में लौट जाता है और इसी वज़ह से गीत से अपने आप को इतना ज्यादा जुड़ा महसूस करता है।

वार्षिक संगीतमाला २००६ के सरताज गीत अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजे को लिखने वाले जावेद अख्तर साहब इस गीत के बारे में कहते हैं

"........यूँ तो तारे जमीं के सारे गीत स्तरीय हैं पर वो गीत जो मुझे हृदय की तह को छूता है वो माँ...ही है। आलमआरा के बाद सैकड़ों गीत माँ को याद करते हुए लिखे गए हैं पर फिर भी ये गीत अपनी सादी सहज भावनाओं से हृदय के तारों को झंकृत सा करता चला जाता है। गीत के शब्द, इसकी धुन और बेहतरीन गायिकी इस गीत को इतना प्रभावशाली बनाने में मदद करती है। बस इतना ही कह सकता हू् कि गीत की अंतिम पंक्तियों को सुनते सुनते मेरी आँखें सूखी नहीं रह गईं थीं।...."

शंकर एहसान लॉए की सबसे बड़ी काबिलयित इस बात में है कि वो बखूबी समझते हैं कि गीत के साथ संगीत का पुट उतना ही होना चाहिए जिस से उसकी प्रभावोत्पादकता कम ना हो। बातें बहुत हो गईं अब स्वयं महसूस कीजिए इस गीत को



मैं कभी बतलाता नहीं पर अँधेरे से डरता हूँ मैं माँ
यूँ तो मैं दिखलाता नहीं, तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ
तुझे सब है पता, है ना माँ......मेरी माँ

भीड़ में यूँ ना छोड़ो मुझे, घर लौट के भी आ ना पाऊँ माँ
भेज ना इतना दूर मुझको तू, याद भी तुझको आ ना पाऊँ माँ
क्‍या इतना बुरा हूँ मैं माँ, क्‍या इतना बुरा.............मेरी माँ

जब भी कभी पापा मुझे जोर ज़ोर से झूला झुलाते हैं माँ
मेरी नज़र ढूँढे तुझे, सोचूँ यही तू आके थामेगी माँ
तुमसे मैं ये कहता नहीं, पर मैं सहम जाता हूँ माँ

चेहरे पे आने देता नहीं, दिल ही दिल में घबराता हूँ माँ
तुझे सब है पता, है ना माँ......मेरी माँ

मैं कभी बतलाता नहीं, पर अंधेरे से डरता हूँ मैं माँ
यूं तो मैं दिखलाता नहीं, तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ
तुझे सब है पता, है ना माँ......मेरी माँ


इसी गीत का एक टुकड़ा गीत के थोड़ी देर बाद आता है, (जो सामान्यतः इंटरनेट या चिट्ठों पर नहीं दिखाई देता) बच्चे की संवेदनहीन त्रासद स्थिति तक पहुँचने की कथा कहता है
आँखें भी अब तो गुमसुम हुईं
खामोश हो गई है ये जुबां
दर्द भी अब तो होता नहीं
एहसास कोई बाकी हैं कहाँ
तुझे सब है पता, है ना माँ

मेरे लिए ये अपार हर्ष की बात है कि ये गीत इस साल के फिल्मफेयर और अपने RMIM पुरस्कारों के लिए भी सर्वश्रेष्ठ गीत के रूप में चुना गया है।

दोस्तों दो महिने से चलती आ रही इस वार्षिक संगीतमाला के सफ़र पर आप सब मेरे साथ रहे इसका मैं शुक्रगुजार हूँ। ये समय कार्यालय के लगातार आते कामों की वज़ह से मेरे लिए अतिव्यस्तता वाला रहा इसलिए ये श्रृंखला फरवरी में खत्म होने के बजाए मार्च तक खिंच गई। आशा है गीतमाला में पेश किए गए गीतों में से ज्यादातर आपके भी पसंदीदा रहे होंगे। तो ये सफ़र समाप्त करने के पहले एक पुनरावलोकन हो जाए इस संगीतमाला के
प्रथम बीस गीतों का


इस संगीतमाला के सारे गीत
Related Posts with Thumbnails

16 comments:

yunus on March 08, 2008 said...

मनीष मुबारक हो कि इतने बड़े अभियान को तुमने कामयाबी पर पहुंचाया । बहुत जिद शिद्दत और लगन की जरूरत है गीतमाला चलाने के लिए । बहुत सारी बधाईयां हृदय से । और हां ये कहने को मजबूर हूं कि कुछ गाने गीतमाला में ऐसे थे जिन्‍हें तुमने पहली बार 'ध्‍यान से'सुनने पर मजबूर किया । और तब अचंभित भी हुए हम । एक शानदार सिलसिले का शानदार अंजाम । अब केरल यात्रा विवरण शुरू किया जाए ।।।।

Manish on March 08, 2008 said...

शुक्रिया यूनुस..आप जैसे मित्रों के साथ रहने से ही इस तरह की श्रृंखला चलाने का मजा आता है।

यूनुस सच कहूँ तो मैंने भी आज चैन की साँस ली है। इन दो महिनों में १५ से २० दिन घर के बाहर बीते जिससे इस सिलसिले को चलाते रहने में कुछ ज्यादा मशक्कत हो गई। अब नतीजा ये है कि बहुत सी पोस्ट पेंडिंग हो गईं हैं..केरल का अभियान भी उनमें से एक है।

खैर इस गीतमाला के दौरान आपने मेरी बात स्वानंद जी से करवाई उसका तहे दिल से शुक्रिया। उस वक्त तो कुछ सूझ ही नहीं रहा था कि क्या कहूँ। पर ये जरूर लगा कि वे बेहद विनम्र इंसान हैं।

कुछ गीत आपने नए सुने और कुछ गीत मुझे भी RMIM पुरस्कारों के दौरान सुनने को मिले जो मुझे बेहद पसंद आए। उनमें से एक चक दे इंडिया का मौला मेरे ले ले मेरी जान तो इस गीतमाला में जरूर शामिल होता अगर मैंने उसे पहले सुना होता।

मीत on March 08, 2008 said...

Great Boss. Project completion पे बधाईयाँ. अब अगला assignment क्या होगा भाई साहब ? ख़ैर इतना यकी़न है कि आप की तरफ़ से होगा तो बेहतरीन ही होगा. हम तैयार बैठे हैं.

anitakumar on March 08, 2008 said...

मनीश जी इस अभियान को सोचने से लेकर समापन तक लाने के लिए आप का अभिनंदन्॥ वैसे तो इसमें से कई गाने सुने हुए थे या लगभग रोज ही सुन रहे थे फ़िर भी आप की कमेंटरी के साथ सुनने में मजा ही कुछ और था, एक्दम नये लगते थे। आप को शायद याद न हो इस दौरान मैं ने भी आप से इस गाने की फ़रमाइश की थी और रबी के जुगुनी गाने की भी। प्रसुन्न जी की लेखनी के जलवे से तो कोई अछूता रह ही नहीं सकता, ये गाना सचमुच ताजपोशी के लायक है

rachana on March 08, 2008 said...

वाह!! क्या दिन चुना है आपने इस पोस्ट के लिये!! आज महिला दिवस है और कुछ ही दिनो मे माँ दिवस.
प्रसून जोशी, संगीतकारों के लिये जितना कहा जाये कम ही होगा.

Poonam on March 08, 2008 said...

बहुत लगन और मेहनत से आप यह गीतमाला पिरोते हैं. चूंकि आजकल गीत संगीत के लिए समय नहीं है पर आपके इस सफर से मुझे चुनिंदा श्रेष्ठ गीत सुनने को मिला जा रहे हैं.बधाई और धन्यवाद

जोशिम on March 08, 2008 said...

मनीष सयाने [ :-)] , शुक्रिया, मेहरबानी करम - इस मस्त मज़ेदार हिंडोले पे चढ़ाने का , बिल्कुल सही पहली पायदान की पसंद - वैसे अटकल ने रोते गाने पर मुस्कुरा दिया - साभार - मनीष .... [देक्खाआआआआ .... मैंने कहा था ... न ]

Udan Tashtari on March 08, 2008 said...

सभी चयन उम्दा रहे और यह तो बहुत ही उम्दा..वाह!!! बधाई..

अजय यादव on March 08, 2008 said...

मनीष जी! इस गीत की तारीफ़ करना सूरज को दिया दिखाने जैसा ही होगा. इसे तो आपकी संगीतमाला का सरताज़ होना ही था.
शुक्रिया, इस खूबसूरत सफ़र के लिये!

Phoenix Rises on March 09, 2008 said...

First time I heard the song was when I saw the movie. I had gone with a friend. Both of us were crying almost throughout the movie! It was a very well directed, well acted movie. Darsheel Safary was sooo good. He emoted so well, even though he doesn't say much in the second half of the movie..
The lyrics of the song truly touch your heart. You just feel like reaching out and hugging little Ishaan.

Well, congratulations on completing your countdown! :)

charu on March 09, 2008 said...

congratulations for the completion of this geetmala project. this song really deserved to be on the top of your list.

कंचन सिंह चौहान on March 10, 2008 said...

मनीष जी बधाई हो इस संगीतमाला के संपूर्ण होने की...रहा सवाल इस गीत का तो मैं इस विषय में जब लिखने लगती हूं तो लिखती ही जाती हूँ...अतः क्या लिखूँ.... हाँ एक बात ज़रूर बाँटना चाहूँगी कि यूनुस जी के चिट्ठे पर ये गीत आने के बाद मन हुआ कि माँ को ये गाना सुनाया जाये...और जब मैने कई बार lyrics रटने के बाद फोन पर माँ को ये गीत सुनाया तो वो बोल पड़ीं..." धत् ये तुम खुद बना कर गा रही हो" ....!

तो कोई भी गीत हो या कविता..सुनने, पढ़ने वाला अपने अंदाज़ में उसे लेता है....और जो गीत हर व्यक्ति से जुड़ा हो शायद वही सर्वोत्तम है।

Kavi Kulwant on March 10, 2008 said...

बहुत अच्छे भावों के साथ अच्छा लेख
कवि कुलवंत
http://kavikulwant.blogspot.com

विकास कुमार on March 10, 2008 said...

आखिरकार अंत में आपने बता ही दिया. मैं भी सोच्चूँ कि मेरा फ़ेवरेट गाना लिस्ट में आ काहे ना रिया है?

Ojha on March 11, 2008 said...

ये गाना तो मैंने पहले ही गेस कर किया था. गीतमाला के लिए शुक्रिया और बधाई.

Manish on March 11, 2008 said...

जानकर बेहद खुशी हुई कि प्रथम पॉयदान का ये गीत आप सबका भी चहेता निकला। संगीतमाला में साथ बने रहने के लिए आभार।

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie