Thursday, July 24, 2008

मैं हूँ उनके साथ खड़ी, जो सीधी रखते अपनी रीढ़ : सुनिए अमिताभ के स्वर में 'बच्चन' की ये प्रासंगिक कविता

हरिवंशराय बच्चन की कविताएँ छुटपन से ही मन को लुभाती रही हैं। दरअसल भावों के साथ उनकी कविता में जो शब्दों का प्रवाह रहता है वो मेरे मन को हमेशा से बेहद रोमांचित करता है। उनकी कविता को बार-बार बोल कर दुहराने में जिस असीम आनंद की अनुभूति होती थी, उसकी कमी इस युग की अधिकांश कविताओं में हमेशा खटकती है। खैर , इससे पहले आपके सामने बच्चन जी की इस कविता को पेश करूँ क्या ये आप नहीं जानना चाहेंगे कि बच्चन जी ने अपनी पहली कविता कब लिखी और कविता लिखने का शौक उनमें कैसे पनपा?

कायस्थ पाठशाला में बच्चन जी ने अपनी पहली पूरी हिंदी कविता लिखी, किसी अध्यापक के विदाअभिनंदन पर जब वे सातवीं में थे। अपनी आत्मकथा में बच्चन ने लिखा है
".....स्कूल में शिक्षक जब निबंध लिखाते तब कहते, अंत में कोई दोहा लिख देना चाहिए। विषय से सम्बन्ध दोहा याद ना होने पर मैं स्वयं कोई रचकर लगा देता था। इन्हीं दोहों से मेरे काव्य का उदगम हुआ। 'भारत भारती' से गुप्त जी की पद्यावली, 'सरस्वती' के पृष्ठों से पंत जी की कविता और 'मतवाला' के अंकों से निराला जी के मुक्त छंदों से मेरा परिचय हो चुका था। नवीं, दसवीं कक्षा में तो मैंने कविताओं से एक पूरी कापी भर डाली। पर मेरी ये कविताएँ इतनी निजी थीं कि जब मेरे एक साथी ने चोरी से उन्हें देख लिया तो मैंने गुस्से में पूरी कॉपी टुकड़े टुकड़े करके फेंक दी। मेरे घर से खेत तक कॉपी के टुकड़े गली में फैल गए थे, इसका चित्र मेरी आँखों के सामने अब भी ज्यों का त्यों है। कविताएँ मैंने आगे भी बिल्कुल अपनी और निजी बनाकर रखीं और मेरे कई साथी उनके साथ ताक झांक करने का प्रयत्न करते रहे।....."

वक़्त के पहिए की चाल देखिए....एक बालक जो अपने सहपाठियों में अपनी कविताएँ दिखाते हिचकता था, ने ऍसी कृतियों की रचना की जिसे सारे भारत की हिंदी प्रेमी जनता पूरे प्रेम से रस ले लेकर पढ़ती रही।

बच्चन की ये कविता हर उस स्वाभिमानी मनुष्य के दिल की बात कहती है जिसने अपने उसूलों के साथ समझौता करना नहीं सीखा। उनके सुपुत्र अमिताभ बच्चन ने एलबम बच्चन रिसाइट्स बच्चन (Bachchan Recites Bachchan) में बड़े मनोयोग से इस कविता को पढ़ा है। तो आइए सुनें अमित जी की आवाज़ में हरिवंश राय बच्चन जी की ये कविता....





मैं हूँ उनके साथ,खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

कभी नही जो तज सकते हैं, अपना न्यायोचित अधिकार
कभी नही जो सह सकते हैं, शीश नवाकर अत्याचार
एक अकेले हों, या उनके साथ खड़ी हो भारी भीड़
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

निर्भय होकर घोषित करते, जो अपने उदगार विचार
जिनकी जिह्वा पर होता है, उनके अंतर का अंगार
नहीं जिन्हें, चुप कर सकती है, आतताइयों की शमशीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

नहीं झुका करते जो दुनिया से करने को समझौता
ऊँचे से ऊँचे सपनो को देते रहते जो न्योता
दूर देखती जिनकी पैनी आँख, भविष्यत का तम चीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जो अपने कन्धों से पर्वत से बढ़ टक्कर लेते हैं
पथ की बाधाओं को जिनके पाँव चुनौती देते हैं
जिनको बाँध नही सकती है लोहे की बेड़ी जंजीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जो चलते हैं अपने छप्पर के ऊपर लूका धर कर
हर जीत का सौदा करते जो प्राणों की बाजी पर
कूद उदधि में नही पलट कर जो फिर ताका करते तीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जिनको यह अवकाश नही है, देखें कब तारे अनुकूल
जिनको यह परवाह नहीं है कब तक भद्रा, कब दिक्शूल
जिनके हाथों की चाबुक से चलती हें उनकी तकदीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

तुम हो कौन, कहो जो मुझसे सही ग़लत पथ लो तो जान
सोच सोच कर, पूछ पूछ कर बोलो, कब चलता तूफ़ान
सत्पथ वह है, जिसपर अपनी छाती ताने जाते वीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़


बच्चन की ये कविता सार्वकालिक है। आज जब हमारे समाज , हमारी राजनीति में नैतिक मूल्यों के ह्रास की प्रक्रिया निरंतर जारी है, जरूरत है हमारे नेताओं, प्रशासकों में अपने आत्म सम्मान को जगाने की, सही और गलत के बीच पहचान करने की। अगर वे इस मार्ग पर चलें तो देश की संपूर्ण जनता खुद ब खुद उनके पीछे खड़ी हो जाएगी।

इस चिट्ठे पर हरिवंश राय 'बच्चन' से जुड़ी कुछ अन्य प्रविष्टियाँ
Related Posts with Thumbnails

18 comments:

राकेश जैन on July 24, 2008 said...

ultimate collection manish ji.. sach anand bibhor ho gaye is kavita ko sunkar...

रंजना [रंजू भाटिया] on July 24, 2008 said...

वाह यह तो पूरी पहली बार पढ़ी , लिखे हुए लफ्ज़ और आवाज़ दोनों ही कमाल है सही कहा यह आज के वक्त पर सही है

अनुराग on July 24, 2008 said...

आप जानते है मनीष इस दो कैसेट की सीरीज़ को कितनी मुश्किल से मैंने ढूँढा था फ़िर इसके साथ एक एक्सपेरिमेंट किया आप करके देखिये ....एक कविता अमिताभ की आवाज में फ़िर एक अपना पसंदीदा गाना....मैंने ऐसे दो कैसेट बनायीं......आज आपने उन दिनों की याद दिला दी......अपन की पसंद मिलती है बीडू ......

अभिषेक ओझा on July 24, 2008 said...

ये तो मेरे collection में पड़ी है ... बहुत अच्छी कविता है.

Udan Tashtari on July 24, 2008 said...

बहुत अच्छी कविता है.आनन्द आ गया. आभार.

डा० अमर कुमार on July 25, 2008 said...

बेहतरीन संग्रह है, आपका !
ऎसे ही सुनवाते रहें, और यश लूटते रहें !

मीनाक्षी on July 25, 2008 said...

लाजवाब....बहुत अच्छा लगा पढ़कर और सुनकर तो आनन्द कई गुना बढ़ गया.. आभार

कंचन सिंह चौहान on July 25, 2008 said...

aisi saari kavitae.n jo atma shakti ki baate kare mujhe bahut achchhi lagti hai, ye bhi bahut achchi lagi

pallavi trivedi on July 25, 2008 said...

maine to ye kavita pahli baar padhi...aanad aa gaya.

Vivek Gupta on July 25, 2008 said...

आनन्दम आनन्दम सुमधुरम सुमधुरम

anitakumar on July 25, 2008 said...

मेरे पसंदीदा कवि को सुनवाने के लिए धन्यवाद

Manish Kumar on July 26, 2008 said...

बच्चन की ये कविता को पसंद कर अपने विचार देने का आप सबको शुक्रिया !
अनुराग भाई वाकई गीत और कविता का वो संगम एक अनूठा कलेकश्न बन गया होगा।

Rachana said...

This is the first time I came to know about this poem....liked it a lot..and is always wonderful to listen the poem in the voice, which has all the grace and dignity..

neelima on July 27, 2008 said...

pahle kabhi suni nahi thi?kya ye kisi c.d me bhi uplabdh hai?kis nam se ?aor kis company ke?kripya bataye.

Manish Kumar on July 27, 2008 said...

रचना जी शुक्रिया इस कविता को पसंद करने का।

नीलिमा जी जैसा मैंने पोस्ट में लिखा है ये कविता Bachchan Recites Bachchan एलबम से ली गई है। इसकी सीडी सा रे गा मा पर है और उसका विवरण आप यहाँ देख सकती हैं।
http://www.7digital.com/artists/amitabh-bachchan/amitabh-bachchan-recites-dr-harivansh-rai-bachchan/

Mrudula Tambe on December 07, 2008 said...

बढिया !

सुनके शरीर रोमांचित हो उठा... हरिवंशजी के प्रतिभा
को और अमितजी के स्वर को शतशत प्रणाम..

Kaushalendra on January 23, 2010 said...

Manish Ji, main aapke is chitthe pe pehli baar aaya hun..par is page ko chhodne ki ichcha nahi ho rahi...na kabhi chhodunga. Main dono bachchano ka bahut bada prasanshak hun. Bharsak prayas ke bawajud yeh clip download nahi ho rahi. kripya sahayta karen. main bada abhari hounga..

Manish Kumar on January 23, 2010 said...

कौशलेंद्र जी ब्लाग पर पधारने और अपने विचारों से अवगत कराने का शुक्रिया। आपका अगर कोई मेल ID हो तो बतायें मैं वहाँ भेज दूँगा

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie