Saturday, November 08, 2008

रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम : सुनिए हसरत मोहानी की ये दिलकश ग़ज़ल

'कहकशाँ' में जगजीत सिंह ने तमाम शायरों की बेमिसाल ग़ज़लों को बड़े दिल से अपनी आवाज़ से सँवारा है। इसमें एक ग़ज़ल थी उन्नाव के पास 'मोहान' में जन्में सैयद फ़ज़ल उल हसन साहब की जिन्हें ये दुनिया मौलाना हसरत मोहानी साहब के नाम से ज्यादा जानती है। मौलाना विभाजन के बाद में भी भारत में ही रहे और मई १९५१ में लखनऊ में उनका इंतकाल हुआ।

तो आइए देखें क्या कहना चाहा है शायर ने अपनी इस रूमानी सी ग़ज़ल में

रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम
दहका हुआ है आतिश-ए-गुल से चमन तमाम


हैरत ग़ुरूर-ए-हुस्न से शोखी से इज़्तराब
दिल ने भी तेरे सीख लिये हैं चलन तमाम


तुम्हारे इस रूप से पूरी महफिल गुलशन हो गई है ठीक वैसे ही जैसे सुर्ख दहकते फूल पूरे बगीचे को रौशन कर देते हैं। पर मुझे हैरत होती है तेरे हुस्न का गुरूर देख...घबरा जाता हूँ तेरी इस मदमस्त चंचलता से। अब तो लगता है कि ज़माने के रंग ढंग देख तूने भी अपने सलीके बदल लिए हैं।

अल्लाह रे जिस्म-ए-यार की खूबी के ख़ुद-ब-ख़ुद
रंगीनियों में ड़ूब गया पैराहन तमाम


देखो तो चश्म-ए-यार की जादू निगाहियाँ
बेहोश इक नज़र में हुई अंजुमन तमाम


और तेरी खूबसूरती के बारे में क्या कहूँ तुम्हारे शरीर से लिपटकर सारे लिबास और भी दिलकश लगने लगते हैं। रही बात तुम्हारी आँखों की, तो तुम्हारी हसीन नज़र के एक वार से तो पूरी महफ़िल ही बेहोश हो जाए

शिरीनी-ए-नसीम है सोज़-ओ-ग़ुदाज़-ए-मीर,
‘हसरत’ तेरे सुख़न पे है लुत्फ़-ए-सुख़न तमाम


और मक़्ते में तो मौलाना हसरत मोहानी अपनी पीठ ठोकने का लोभ संवरण नहीं कर पाते। पहले तो मीर की शायरी में वो हवा की सी मिठास, दर्द और कोमलता का जिक्र करते हैं और फिर ये कहने से भी नहीं चूकते कि मेरी शायरी सुने बिना शायरी का पूरी तरह लुत्फ़ उठाना संभव नहीं है।

जगजीत ने इस ग़ज़ल के सिर्फ तीन अशआरों को इस एलबम में इस्तेमाल किया है। वहीं प्रसिद्ध सूफी गायिका आबिदा परवीन ने अपने अलग निराले अंदाज में अपने एलबम रक़्स ए बिस्मिल में इस ग़ज़ल को अपना स्वर दिया है तो आइए पहले सुने जगजीत सिंह को



और ये रहा आबिदा परवीन वाला वर्सन


एक शाम मेरे नाम पर जगजीत सिंह और कहकशाँ 

Related Posts with Thumbnails

18 comments:

डॉ .अनुराग on November 08, 2008 said...

कहकशा में जगजीत अपने चिपरिचित अंदाज से जुदा नजर आये थे ..मुझे याद है हम तब कॉलेज में थे ओर उर्दू के कुछ लफ्जों को पकड़ने के लिए हमने सहारा लिया था ...किताबो का ताकि गजल ओर नज़्म जो इसकी दोनों कैसेट में थी .समझ सके .....आप सचमुच शानदार आदमी है....कहाँ कहाँ से खीच लाते है कई नायाब मोती

Parul on November 08, 2008 said...

baaz cheezen me jagjeet ki aavaaz bahut khilti hai...thx manish

Udan Tashtari on November 08, 2008 said...

आबिदा परवीन का यह वर्जन सुना नहीं था..बहुत आभार!!

पंकज शुक्ल on November 08, 2008 said...

हसरत मोहानी का जहां जन्म हुआ, उस जगह का नाम मोहन नहीं मोहान है, और इसी जगह के नाम पर उनका नाम पड़ा हसरत मोहानी। ये जगह उन्नाव ज़िले में है और हैरत की बात नहीं कि आज़ादी की लड़ाई में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने वाले इस सूरमा का नाम तक अब इस ज़िले के कम ही लोगों को याद है। मोहानी साहब उन देशभक्तों में से हैं, जिन्होंने वंदे मातरम् का पुरजोर समर्थन किया था।

कहा सुना माफ़,
पंकज शुक्ल

जितेन्द़ भगत on November 09, 2008 said...

nice

शोभा on November 09, 2008 said...

संगीत और गीत दोनों बढ़िया.

योगेन्द्र मौदगिल on November 09, 2008 said...

आपकी प्रस्तुति को नमन... बधाई हो

sidheshwer on November 09, 2008 said...

अद्भुत कहने के अलावा और क्या कहा जा सकता है.आप की उम्दा पसंद और स्तरीय प्रस्तुति का कायल हूं मेरे भाई!

कंचन सिंह चौहान on November 10, 2008 said...

aap evam pankaj ji dwara Mohani Saham ke baare me jankari baut achchhi lagi.... unaka Unnao se sambandha evam deshbhakta hona man ko ek achchhi anubhuti de gaya.

राकेश जैन on November 11, 2008 said...

really great !! also the translation is praiseworthy..

pallavi trivedi on November 12, 2008 said...

dono hi version lajawaab hain....lekin isi ko mehndi hasan sahab ne bhi bahut umda gaaya hai...use bhi shaamil kar dete to aur aanand aata.

PrincessJasmine on November 13, 2008 said...

Bahut khoob likha. I have been reading your blog for a while, but never commented. Very nice! I cam across your blog thru a friend on LJ. :)

Manish Kumar on November 18, 2008 said...

इस ग़ज़ल को पसंद करने के लिए आप सब का शुक्रिया !

पंकज जी शुक्रिया इस जानकारी का

Princess Thx for commenting for the first time & appreciating my efforts. BTW what is LJ ?

PrincessJasmine on November 20, 2008 said...

You are very welcome. LJ is Live Journal. I have a music blog there. http://musicwizards.livejournal.com

Chk it out if you can...have several entries related to hindi music. :)

Manish Kumar on November 22, 2008 said...

So after a bit of trial & error reached your site. You have added an extra 's' in your url.

Your blog is nice but option for commenting with an open ID was not there so could not comment there but I have added your blog in my bloglist.

PrincessJasmine on November 23, 2008 said...

Hi, I cahnged the settings for my blog, so everyone can comment. Hopefully you can comment now. In future I will make my posts public so you can read them too. :)

PrincessJasmine on November 25, 2008 said...

Oops...forgot to mention that I am sorry for the mistake in my url. Well, finally you got to it. Enjoy it! :)

दिलीप कवठेकर on October 08, 2012 said...

बहुत बहुत शुक्रिया दोस्त.

संयोग से ये दोनों गज़लें मैंने नही सुनी थी, मगर मेहदी खां साहब की गज़ल सुनते सुनते ही बडा हुआ. दोनों धुनें मधुर हैं ,मगर खां साहब के गज़ल की छाप
दिमाग से जा नहीं रही.

http://www.youtube.com/watch?v=LnlG7YTyLMo

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie