Tuesday, June 24, 2008

जिद ना करो अब तो रुको ये रात नहीं आएगी : सुनिए येशुदास के स्वर में ये मोहक गीत..

परसों आफिस की एक पार्टी में ये गीत बहुत दिनों बाद सुना। हमारे जिन सहयोगी ने इस गीत को अपनी आवाज़ दी वो अक्सर मन्ना डे के गीत ही गाते हैं। उनके अंदाज़ से मुझे पूरा यकीं हो गया कि ये मन्ना डे का ही गाया हुआ है। पर रविवार को जब गूगलदेव के दरबार में गए तो पता चला कि ये तो लहू के दो रंग फिल्म का गीत है जो 1979 में रिलीज हुई थी और इसे गाया था येशुदास जी ने।



दरअसल 1979 ही वो साल था जब पिताजी सारे परिवार को राजश्री प्रोडक्शन की फिल्म 'सावन को आने दो' दिखाने ले गए थे। और तभी मेरा पहला परिचय येशुदास की आवाज़ से हुआ था। उस फिल्म के दो गीत बाल मन में छा से गए थे। एक था चाँद जैसे मुखड़े पर बिंदिया सितारा.... और दूसरा तुझे गीतों में ढालूँगा, सावन को आने दो........। बाद में विविध भारती के जरिए येशुदास के बाकी गीतों से भी परिचय होता रहा। 68 वर्षीय कट्टाशेरी जोसफ येशुदास (Kattassery Joseph Yesudas) केरल की उन विभूतियों मे से हैं जिन्होंने हिन्दी फिल्म संगीत पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है। 1973 में पद्मश्री और 2002 में पद्मभूषण से सम्मानित, कनार्टक शास्त्रीय संगीत में प्रवीण, डा. येशुदास अब तक विभिन्न भाषाओं में 40000 के करीब गीत गा चुके हैं।


मातृभाषा मलयालम होने के बावज़ूद उनका हिंदी गीतों में शब्दों का उच्चारण लाज़वाब था। अब इस गीत को ही देखें। इस रूमानी गीत को जिस भाव प्रवणता के साथ उन्होंने निभाया है उसे सुनकर मन भी गीत के मूड में बह जाता है। कल से इस गीत का कई बार सुन चुका हूँ। सीधे सच्चे लफ़्ज और उससे बढ़कर येशुदास जी की अदाएगी ऐसी कि इसे गुनगुनाए बिना रहा ही नहीं जाता...



इस गीत को लिखा था फारूख क़ैसर साहब ने। फारूख साहब मेरे पसंदीदा गीतकारों में नहीं रहे। पर इस गीत के आलावा उनके लिखे गीतों में मुझे वो जब याद आए बहुत याद आए .... बेहद पसंद है। यूँ तो बप्पी लाहिड़ी को अस्सी के दशक में हिंदी फिल्म संगीत के गिरते स्तर के लिए मुख्य रूप से जिम्मेवार मानता हूँ पर ऐसे कई गीत हैं जहाँ उन्होंने अपनी क़ाबिलियत की पहचान दी है। ये गीत वैसे ही गीतों में से एक है।

तो आइए अब सुनते हैं येशुदास की आवाज़ में ये खूबसूरत नग्मा


अगर लॉइफलॉगर पर इसका आडिओ न सुन पाए तो ये रहा यू ट्यूब पर इसका आडिओ..

जिद ना करो अब तो रुको
ये रात नहीं आएगी
माना अगर कहना मेरा तुमको वफ़ा आ जाएगी...


सज़दा करूँ, पूजा करूँ, तू ही बता क्या करूँ
लगता है ये तेरी नज़र मेरा धरम ले जाएगी
जिद ना करो अब तो रुको ........


रुत भी अगन, तपता बदन, बढ़ने लगी बेखुदी
अब जो गए, सारी उमर दिल में कसक रह जाएगी
जिद ना करो अब तो रुको... ....


पाँच साल पहले 'सा रे गा मा ' ने येशुदास के गाए बेहतरीन गीतों का एक गुलदस्ता पेश किया था। अगर आप चाहें तो इसे यहाँ से खरीद सकते हैं।

वैसे अगर आप गीत से जुड़ गए हैं तो लता जी का गाया वर्सन भी सुनते जाइए.



जिद ना करो अब तो रुको
ये रात नहीं आएगी
माना अगर कहना मेरा तुमको वफ़ा आ जाएगी...

तनहाई है और तू भी है,चाहा वही मिल गया
लग जा गले, खुशबू तेरी, तन मन मेरा महकाएगी
जिद ना करो अब तो रुको...


सजना मेरे, चुनरी ज़रा मुख पे मेरे डाल दो
देखा अगर खुल के तूने तुमको नज़र लग जाएगी
जिद ना करो अब तो रुको...


मुझे तो येशुदास वाला वर्सन ज्यादा पसंद आता है। आपका क्या खयाल है ?

Monday, June 23, 2008

१९८३ विश्व कप क्रिकेटः यादें पच्चीस साल पहले की -हाय उस रात मैं क्यूँ सो गया...

पच्चीस साल पहले की बातों को याद करना कठिन है , पर इस घटना को मैं कैसे भूल सकता हूँ। जी हाँ, मैं १९८३ के विश्व कप की बात कर रहा हूँ। भारत में रंगीन टेलीविजन तो १९८२ के एशियाई खेलों के समय आया था पर १९८३ में हुए प्रूडेन्शियल विश्व क्रिकेट के सारे मैचों का सीधे प्रसारण की व्यवस्था यहाँ तो क्या इंग्लैंड में भी नहीं थी। यही वज़ह है कि उस प्रतियोगिता में जिम्बाब्वे के खिलाफ संकटमोचक की तरह उतरे कपिलदेव के शानदार नाबाद १७५ रनों का वीडिओ फुटेज उपलब्ध ही नहीं है।

जैसा कल IBN 7 पर टीम के सदस्य कह रहे थे कि हम पर उस वक़्त जीतने का कोई दबाव नहीं था। होता भी कैसे जिस टीम ने उससे पहले के सारे विश्व कपों में कुल मिलाकर एक मैच ही जीता हो, उससे ज्यादा उम्मीद भी क्या रखी जा सकती थी? प्रतियोगिता शुरु होने वक़्त मैं अपनी नानी के घर कानपुर गया हुआ था। भारत के पहले मैच के अगले दिन जब दूरदर्शन समाचार ने भारत के अपने पहले लीग मैच में ही वेस्ट इंडीज को पटखनी देने की खबर सुनाई, मेरा दिल बल्लियों उछलने लगा। अपने परिवार के प्रत्येक सदस्य को जब तक मैंने ये खबर नहीं सुनाई दिल को चैन नहीं पड़ा।

सुननेवालों ने तो खवर में उतनी दिलचस्पी नहीं दिखाई पर मेरे दिल में अपनी टीम के लिए आशा का दीपक जल चुका था। बीबीसी वर्ल्ड और दूरदर्शन से मिलती खबरें ही मैच के नतीजों को हम तक पहुँचा पाती थीं। भारतीय टीम को अपने ग्रुप में वेस्ट इंडीज, आस्ट्रेलिया और जिम्बाबवे से दो दो मैच खेलने थे। भारत ने अपने पहले तीन में दो मैच जीत लिए थे पर आस्ट्रेलिया से अपने पहले मैच में वो बुरी तरह हार गया था।

चौथे मैच में वेस्टइंडीज से हारने के बाद भी भारत प्रतियोगिता में पहले की दर्ज जीतों की वज़ह से बना हुआ था। पर १८ जून १९८३ में जिम्बाबवे के साथ खेला मैच भारत के लिए प्रतियोगिता का टर्निंग पव्याइंट था। भारत पहले बैटिंग करते हुए १७ रनों पर पाँच विकेट खो चुका था और ७८ तक पहुँचते पहुँचते ये संख्या सात तक पहुँच गई थी पर कप्तान कपिल देव ने अपने नाबाद १७५ रनों जिसमें सोलह चौके और छः छक्के शामिल थे स्कोर को आठ विकेट पर २६० तक पहुँचा दिया। भारत ने जिम्बाब्वे को इस मैच में ३१ रनों से हरा दिया था। विपरीत परिस्थितियों में मैच को जीतने के बाद मुझे विश्वास हो गया था कि अबकि अपनी टीम सेमी फाइनल में तो पहुँच ही जाएगी। और हुआ भी वही! अगले लीग मैच में आस्ट्रेलिया को हराकर भारत सेमी फाइनल में पहुँच चुका था।

अब तक मैं वापस पटना आ चुका था और सेमीफाइनल में जब भारत ने इंग्लैंड को हराया तब मैंने उसका सीधा प्रसारण बीबीसी वर्ल्ड से सुनने का पूर्ण आनंद प्राप्त किया था। फाइनल के दो दिन पहले से ही हमारे मोहल्ले के सारे बच्चे मैच के बारे में विस्तार से चर्चा करते रहते। दूरदर्शन ने फाइनल मैच के सीधे प्रसारण की व्यवस्था की थी। स्कूल की गर्मी की छुट्टियाँ शायद चल ही रहीं थी। हम दस बारह वच्चे पड़ोसी के घर में श्वेत श्याम टेलीविजन के सामने मैच शुरु होने के पंद्रह मिनट पहले ही जमीन पर चादर बिछाकर बैठ गए थे। पर जब भारत बिना पूरे साठ ओवर खेले ही १८३ रन बनाकर लौट आया, हम सारे बच्चों के चेहरों की उदासी देखने लायक थी। पहले तो प्रोग्राम रात भर पड़ोसी के घर
डेरा जमाए रखने का था। पर भारतीय बल्लेबाजों के इस निराशाजनक प्रदर्शन ने मुझे अपना विचार बदलने पर मज़बूर कर दिया। मन इतना दुखी था कि थोड़ा बहुत खा पी कर मैं जल्द ही सोने चल गया।

सुबह उठ के अखबार खोला तो जीत का समाचार देख के दंग रह गया। भागा भागा अपने टीवी वाले दोस्तों के घर गया कि भाई ये सब हुआ कैसे? बाद में कई बार उन यादगार लमहों की रेडियो कमेंट्री
सुनीं और वीडियो फुटेज भी देखा पर दिल में मलाल रह ही गया कि मैं उस रात क्यूँ सोया...


खेलों में कुछ खास ना कर पाने वाले देश के लिए वो जीत एक बहुत बड़ी जीत थी। उस जीत ने एकदिवसीय क्रिकेट में अच्छा करने के लिए आगे की भारतीय टीमों के लिए एक सपना जगाया। आज जब इस बात को पचीस साल बीतने वाले हैं , आइए उन लमहों को एक बार फिर से देखें यू ट्यूब के इस वीडियो के जरिए..




साथ ही उन खिलाड़ियों को मेरा कोटि कोटि सलाम जिन्होंने विश्व कप जीतकर एक मिसाल आगे की पीढ़ियों के लिए छोड़ दी..


क्रिकेट से जुड़ी मेरी कुछ अन्य पोस्ट :

Tuesday, June 17, 2008

आइए सुनें बारिशों के इस मौसम में सुमन कल्याणपुर को : शराबी शराबी ये सावन का मौसम ख़ुदा की क़सम ख़ूबसूरत न होता

मानसूनी बारिश से पूरा भारत भीगा हुआ है। झुलसाती गर्मी के बाद बारिश की फुहारें किसे अच्छी नहीं लगती। आज बाहर टप टप गिरती बरखा की बूँदों ने मुझे प्रेरित किया है आपके साथ एक प्यारे से मानसूनी गीत को बाँटने के लिए। यूँ तो बारिश से जुड़े कई अनमोल गीत भारतीय फिल्म जगत हमें दे चुका है। नियमित पाठकों को याद होगा कि किशोर कुमार के बारे में श्रृंखला लिखते समय मैंने मंजिल फिल्म के लिए योगेश गौड़ का लिखा गीत रिमझिम गिरे सावन सुनाया था। इस गीत को गुनगुनाना मुझे बेहद प्रिय है और यही वज़ह है कि इस गीत को आप चिट्ठे की साइडबार में भी पाएँगे। पर आज का ये गीत कुछ अलग सा है, इसमें शास्त्रीयता भी है और लफ़्जों की एक नज़ाकत भी। ये एक ऍसा गीत है जो वर्षा ॠतु को प्रेम के रंगों में सराबोर कर देता है।

जी हाँ मैं बात कर रहा हूँ १९६७ में आई फिल्म नूरजहाँ के गीत "शराबी शराबी ये सावन का मौसम ख़ुदा की क़सम ख़ूबसूरत न होता..." की जिसे संगीतबद्ध किया था राकेश रोशन के पिता स्वर्गीय रोशन जी ने, जिसे लिखा था गीतकार शकील बदायुँनी साहब ने और इस गीत को गाया था कोकिल कंठी सुमन कल्याणपुर ने....


मझे सुमन कल्याणपुर की गायिकी हमेशा से अच्छी लगती रही है। बचपन में अक्सर जब किसी के संगीत ज्ञान की परीक्षा लेनी होती तो सुमन जी के गाए किसी गीत को गा कर सामने वाले से ये जरूर पूछते कि बताओ इसे किसने गाया है। अक्सर जवाब लता मंगेशकर आता और तब तक हमने अपना प्वाइंट प्रूव कर लिया होता कि तुम्हें अभी तो गायकों की ही पहचान नहीं है तो तुमसे संगीत के बारे में क्या बहस करनी :)।


लता से आवाज की साम्यता की वज़ह सुमन जी को गाने के मौके कम मिले पर जितने भी मिले उसे उन्होंने पूरी तरह निभाया। 'दिल ही तो है', 'शगुन' और 'बात एक रात की' जैसी फिल्मों में उनके गाए कुछ गीत मुझे बेहद पसंद हैं और कभी उन्हें भी आप तक पहुँचाने की कोशिश करूँगा।


इस गीत की एक खासियत ये भी है कि ये राग गौड़ मल्हार पर आधारित है। राग मल्हार के बारे में कहा जाता है कि जब इस राग पर आधारित कोई गीत पूरे सुर ताल और भाव के साथ गाया जाए तो देवराज इन्द्र को बारिश करानी ही पड़ती है। वैसे भी शकील के लिखे खूबसूरत बोल बारिश की बूंदों सी शीतलता देते हैं। आप खुद ही सुन कर महसूस करें ना..






शराबी शराबी ये सावन का मौसम
ख़ुदा की क़सम ख़ूबसूरत न होता
अगर इसमें रंग-ए-मोहब्बत न होता
शराबी शराबी ......................


सुहानी-सुहानी ये कोयल की कूकें
उठाती हैं सीने में रह-रह के हूकें
छलकती है मस्ती घने बादलों से
उलझती हैं नज़रें हसीं आँचलों से
ये पुरनूर मंज़र
ये पुरनूर मंज़र ये रंगीन आलम
ख़ुदा की क़सम ख़ूबसूरत न होता
अगर इसमें रंग-ए-मोहब्बत न होता
शराबी शराबी ......................


पुरनूर - प्रकाशमान

गुलाबी-गुलाबी ये फूलों के चेहरे
ये रिमझिम के मोती ये बूँदों के सेहरे
कुछ ऐसी बहार आ गई है चमन में
कि दिल खो गया है इसी अंजुमन में
ये महकी नशीली
ये महकी नशीली हवाओं का परचम
ख़ुदा की क़सम ख़ूबसूरत न होता
अगर इसमें रंग-ए-मोहब्बत न होता
शराबी शराबी
... ..................

अंजुमन - सभा मज़लिस

ये मौसम सलोना अजब ग़ुल खिलाए
उमंगें उभारे उम्मीदें जगाए
वो बेताबियाँ दिल से टकरा रहीं हैं
के रातों की नींदें उड़ी जा रहीं हैं
ये सहर-ए-जवानी
ये सहर-ए-जवानी ये ख़्वाबों का आलम
ख़ुदा की क़सम ख़ूबसूरत न होता
अगर इसमें रंग-ए-मोहब्बत न होता
शराबी शराबी ....................

Saturday, June 07, 2008

ज़रा सी आहट होती है तो दिल सोचता है कहीं ये वो तो नहीं ...

जिंदगी में कोई जब इतना करीब हो जाए कि आप उस शख्स के साये में भी उसकी खुशबू महसूस करने लगें.. दूर से आते उसके पदचापों को सुन कर आपके हृदय की धड़कन तीव्र गति से चलने लगे, गाहे-बगाहे आपकी आँखों के सामने उसी की छवि उभरने लगे, तब समझ लीजिए कि आप भगवन की बनाई सबसे हसीन नियामत 'प्रेम' की गिरफ्त में हैं।

ऍसी ही भावनाओं को लेकर मशहूर शायर कैफ़ी आजमी ने १९६४ में फिल्म हक़ीकत में एक प्यारा सा नग्मा लिखा था। 'हक़ीकत' भारत चीन युद्ध के परिपेक्ष्य में चेतन आनंद द्वारा बनाई गई थी जो इस तरह की पहली फिल्म थी। युद्ध की असफलता से आहत भारतीय जनमानस पर इस फिल्म ने एक मरहम का काम किया था। फिल्म तो सराही गई ही इसमें दिया मदनमोहन का संगीत बेहद चर्चित रहा।



वैसे तो सारा गीत ही प्रेम रस से सराबोर है पर गीत का मुखड़ा दिल में ऍसी तासीर छोड़ता है जिसे लफ़्जों से बयाँ कर पाना मुश्किल है।

ज़रा सी आहट होती है तो दिल सोचता है, कहीं ये वो तो नहीं...

इसे कितनी ही दफा गुनगुनाते रहें मन नहीं भरता...दो महान कलाकारों मदनमोहन और लता की जोड़ी की अद्भुत सौगात है ये गीत..

इस गीत को आप यू ट्यूब पर भी देख सकते हैं

ज़रा सी आहट होती है तो दिल सोचता है
कहीं ये वो तो नहीं, कहीं ये वो तो नहीं
ज़रा सी आहट होती है ...

छुप के सीने में कोई जैसे सदा देता है
शाम से पहले दिया दिल का जला देता है
है उसी की ये सदा, है उसी की ये अदा
कहीं ये वो तो नहीं ...

शक्ल फिरती है निगाहों में वो ही प्यारी सी
मेरी नस-नस में मचलने लगी चिंगारी सी
छू गई जिस्म मेरा किसके दामन की हवा
कहीं ये वो तो नहीं ...

आशा है इस गीत को सुन कर आपका मूड रूमानी हो गया होगा। तो क्यूँ ना चलते चलते जानिसार अख़्तर की एक गज़ल भी पढ़ाता चलूँ जिसके भाव बहुत कुछ इस गीत से मिलते जुलते हैं... और जब भी ये गीत सुनता हूँ ये ग़ज़ल खुद ब खुद मन के झरोखों से निकल कर सामने आ जाती है..

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो
साया कोई लहराए तो लगता है कि तुम हो


जब शाख कोई हाथ लगाते ही चमन में
शरमाए, लचक जाए तो लगता है कि तुम हो


रस्ते के धुंधलके में किसी मोड़ पे कुछ दूर
इक लौ सी चमक जाए तो लगता है कि तुम हो


ओढ़े हुए तारों की चमकती हुई चादर
नदिया कोई बल खाए तो लगता है कि तुम हो


जब रात गए कोई किरण मेरे बराबर
चुप चाप से सो जाए तो लगता है कि तुम हो



तो बताएँ कैसी लगी ये ग़ज़ल और गीत आपको ?

Tuesday, June 03, 2008

मुझे रात दिन बस मुझे चाहती हो..कहो ना कहो मुझको सब कुछ पता है

१९९९ में एक फिल्म आई थी, नाम था संघर्ष ! अक्षय कुमार, प्रीति जिंटा और आशुतोष राणा जैसे कलाकारों से सजी इस फिल्म की बेसिरपैर कहानी को दर्शकों ने एक सिरे से नकार दिया था। पर गीतकार समीर और संगीतकार जतिन-ललित की जोड़ी ने अपना काम बखूबी निभाते हुए इस फिल्म में कर्णप्रिय संगीत दिया था।

'पहली पहली बार वलिए ..' और 'नाराज़ सवेरा...' तो चर्चित हुए ही पर मुझे जिस गीत ने सबसे ज्यादा आनंदित किया वो था सोनू निगम द्वारा गाया हुआ ये एकल गीत जिसकी रूमानियत मुझे इसे सुनते वक़्त हमेशा ही गुदगुदा जाती है। इसलिए ये सोनू के गाए रोमांटिक गीतों में मेरी पहली पसंद है।


सोनू निगम की गायिकी से तो हम आप परिचित ही हैं। जिस भाव प्रवणता के साथ इस गीत को सोनू ने अपनी आवाज़ दी है उसका जवाब नहीं। पहले अंतरे के बाद आप लता जी का पार्श्व से लहराता स्वर सुन सकते हैं।

ये गीत वैसे गीतों में है जिसकी लय पहली बार में ही दिल पर सीधा असर करती है। जब भी मैं इस गीत को गुनगुनाता हूँ, अपने मन को हल्का और खुशमिज़ाज पाता हूँ। तो लीजिए पहले झेलिए करीब दो साल पहले की इस गीत के कुछ अंशों की मेरी रिकार्डिंग..

<bgsound src="MRDP.wma">

मुझे रात दिन बस मुझे चाहती हो
कहो ना कहो मुझको सब कुछ पता है
हाँ करूँ क्या मुझे तुम बताती नहीं हो
छुपाती हो मुझसे ये तुम्हारी खता है
हाँ मुझे रात दिन ...

मेरी बेकरारी को हद से बढ़ाना
तुम्हें खूब आता है बातें बनाना
निगाहें मिलाके यूँ मेरा चैन लेना
सताके मोहब्बत में यूँ दर्द देना
मुझे देखके ऐसे पलकें झुकाना
शरारत नहीं है तो फिर और क्या है
हाँ मुझे रात दिन ...

तुम्हें नींद आएगी अब ना मेरे बिन
मुझे है यकीं ऐसा आएगा इक दिन
खुली तेरी ज़ुल्फ़ों में सोया रहूँगा
तेरे ही ख्यालों में खोया रहूँगा
कभी गौर से मेरी आँखों में देखो
मेरी जां तुम्हारा ही चेहरा छुपा है
हाँ मुझे रात दिन ...


और अब सुनिए सोनू की दिलकश आवाज़ में ये नग्मा....




और अगर किसी कारणवश ऊपर का प्लेयर ना बजा तो ..:)

<bgsound src="MujheRaatDinBas.mp3">

वैसे ये बताएँ कि आपको ये गीत कैसा लगता है?
 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie