Tuesday, September 22, 2009

जब ग्यारह वर्षीय बालक हेमंत बृजवासी ने भाव विभोर किया आशा ताई को..

नवरात्र शुरु हो गए हैं और कल ईद सोल्लास मनाई जा चुकी है। पर्व त्योहारों के इस मस्ती भरे दौर में ब्लॉग पर भी मस्ती का रंग चढ़ना लाज़िमी है ना। आज जो मूड मन में तारी है उसका पूरा श्रेय जाता है मथुरा के ग्यारह वर्षीय बालक हेमंत बृजवासी को। हफ्ते भर से हेमंत की आवाज़ कानों में गूँज रही है। ग्यारह सितंबर की उस यादगार रात को जी टीवी के लिटिल चैम्पस (Zee TV Little Champs) पर खुद आशा ताई पधारी थीं। पूरे कार्यक्रम में लड़कियों को आशा जी और लड़कों को पंचम के गाने गाने थे। अब पंचम की भारी आवाज़ और उनकी उर्जात्मक शैली को दस बारह साल के बच्चों द्वारा निभा पाना टेढ़ी खीर थी। फिर भी सब प्रतिभागियों ने अच्छा प्रयास किया, पर ज़माने को दिखाना है फिल्म में पंचम द्वारा गाए गीत दिल लेना खेल है दिलदार का, भूले से नाम ना लो प्यार का... की हेमंत द्वारा प्रस्तुति इतनी दमदार थी कि आशा ताई तक को कहना पड़ गया कि "आपने तो बर्मन साहब से भी बेहतर तरीके से इस गीत को निभाया"।

पूरे कार्यक्रम में एक और बात कमाल की थी वो थी गायकों को जबरदस्त सपोर्ट ‍‍देता हुआ मनभावन आरकेस्ट्रा। वैसे भी जी टीवी के संगीत कार्यक्रमों में कई सालों से मँजे हुए साज़कारों को बजाते देखता रहा हूँ और पंचम की धुनों में तो इनकी विशेष भूमिका हमेशा ही रहा करती थी। पंचम के संगीतबद्ध गीतों का पार्श्व संगीत उनकी अनूठी शैली की गवाही देता है। दरअसल तरह तरह की आवाज़ों को पारंपरिक और गैर पारंपरिक वाद्य यंत्रो से निकालने में राहुल देव बर्मन का कोई सानी नहीं था।


तो लौटें अपने इस सुरीले बालक की ओर। हेमंत की दमदार प्रस्तुति यादगार तब बन गई जब उसने गीत के बाद आशा जी को बुल्लेशाह के लिखे सूफ़ियत में रँगे पंजाबी लोकगीत का वो टुकड़ा सुनाया।

चरखा दे मिट्टा दियाँ दूरियाँ...........
हो..मैं कटि जावाँ तेरी होर पिया दूरियाँ
गद सखरी रा गद सखरी रा ...
गद.. सख...रीरा..
गद सखरी रा वरण दिए कुड़िए...........
मैं पैया और सिपहयिए


सच मानिए हेमंत ने उन चंद पंक्तियों में ली गई हरक़तों ने ऐसा समा बाँधा कि हजारों दर्शकों के साथ-साथ आशा जी की भी आँखें गीली हो गईं और वे कह उठीं

हेमंत अगर सबसे बड़ी कला कोई मानी जाती है तो वो कला है संगीत कला। संगीत कला भगवान के नज़दीक होती है। और तुम्हारा जो गाना है वो भगवान के बहुत नज़दीक है।

नौ साल की आयु से अपने पिता और गुरु हुकुमचंद बृजवासी से संगीत सीखना शुरु करने वाले हेमंत को शास्त्रीय और सूफ़ीयाना नग्मे गाने में महारत हासिल है। मात्र दो साल संगीत की शिक्षा लेने के बाद ये बालक गीतों में अपनी और से जोड़ी हुई विविधताओं का इस तरह समावेश करता है मानों गीत से खेल रहा है। हेमंत की आवाज़ और उच्चारण एक शीशे की तरह साफ और स्पष्ट है पर उसके साथ दिक्कत यही है कि वो अपनी शैली के गीतों से अलग तरीके के गीतों में वो कमाल नहीं दिखला पाता। पर शायद आज के युग में इसकी जरूरत भी नहीं है। हर गाने के पहले अपनी जिह्वा को बाँके बिहारी लाल की जयकार से पवित्र कराने वाला ये बालक नुसरत और आशा जी को अपना आदर्श मानता है। गीत संगीत के आलावा क्रिकेट भी खेलता है और मौका मिले तो शाहरुख और करीना की फिल्में देखना भी पसंद करता है।

तो अगर आपने उस दिन इस प्रसारण का आनंद नहीं लिया तो अब ले लीजिए..






वैसे इस सूफ़ी लोकगीत को पूरा सुनने की इच्छा आप के मन में भी हो रही होगी। दरअसल इस लोकगीत को सबसे पहले लोकप्रिय बनाया था सूफ़ी के बादशाह नुसरत फतेह अली खाँ साहब ने और फिर इस गीत को नई बुलंदियों पर ले गए थे जालंधर के पंजाबी पुत्तर सलीम शाहजादा। बादशाह और शहज़ादे द्वारा इस लोकगीत की प्रस्तुति को आप तक पहुँचाने की शीघ्र ही कोशिश करूँगा।

Related Posts with Thumbnails

10 comments:

राज भाटिय़ा on September 22, 2009 said...

बहुत ही सुंदर,
धन्यवाद

रंजना on September 22, 2009 said...

वाह वाह वाह !! सचमुच अद्भुत ...........

मैं तो सुन ही न पायी थी...सुनवाकर बड़ा उपकार किया आपने....

बालक के लिए मन से स्वतः ही दुआएं निकल रही है....

रंजना on September 22, 2009 said...

एकदम रोंगटे खड़े हो गए....क्या कहूँ...वाह !!

दिलीप कवठेकर on September 22, 2009 said...

गीत तो बढिया है, मगर आपने यहां सुनवा दिया बालक क आवाज़ में तो बस मज़ा आ गया.

वाकई में बडी ही सुरीली प्रस्तुति है, इसके बावजूद कि इस गाने में बेसुरा होनें की कई जगह थी.खासकर स्थाई पर लौटते हुए .

बधाई ,

नीरज गोस्वामी on September 23, 2009 said...

मनीष जी कोटिश धन्यवाद इस प्रस्तुति को पुनः सुनवाने दिखाने के लिए...आनंद आ गया...
नीरज

महफूज़ अली on September 23, 2009 said...

bahut hi badhiya.........

navratri ki shubhkaamnaayen.......

अभिषेक ओझा on September 24, 2009 said...

जहाँ से ये पोस्ट पढ़ी थी वहां विडियो चल नहीं पाया था. आज देखा तो... गाना तो गया ही बच्चे ने. लेकिन उसके बाद सेंटी देख मैं भी सेंटी हो गया. खास कर उसके पिता को.
किताब पढने के साथ-साथ टीवी देखने की भी जरुरत नहीं है अब तो. बस आपके ब्लॉग पर नियमित आना है !

naveentyagi on September 24, 2009 said...

ese bachchon ka youn hi hoslaa badhaate rahen.

"अर्श" on October 01, 2009 said...

hemant ko sunaa hai maine bahut hi surila hai bahut mehnati bhi hai sangeet ke prati... bahut bhut badhaayee aur duaayen is baalak ke liye..

arsh

शरद कोकास on October 03, 2009 said...

यह एपिसोड मैने भी देखा था और मुझे भी इस बालक मे कुछ बात नज़र आई थी

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie