Tuesday, December 29, 2009

वार्षिक संगीतमाला 2009 का आगाज़ और एक नज़र पिछली संगीतमालाओं पर....

वार्षिक संगीतमाला 2009 में आप सबका स्वागत है। जैसा कि मैं पहले भी इस चिट्ठे पर कह चुका हूँ कि वार्षिक संगीतमालाएँ मेरे लिए नए संगीत में जो कुछ भी अच्छा हो रहा है उसको आप तक संजों लाने की कोशिश मात्र है। बचपन से रेडिओ सीलोन की अमीन सयानी की बिनाका और फिर विविधभारती पर नाम बदल कर आने वाली सिबाका गीतमाला सुनता रहा। उसका असर इतना था कि जब 2005 के आरंभ में अपने रोमन हिंदी ब्लॉग की शुरुआत की तो मन में एक ख्वाहिश थी कि अपने ब्लॉग पर अपनी पसंद के गीतों को पेश करूँ।

तो आइए एक नज़र डालें पिछले चार साल की संगीतमालाओं की तरफ। मैंने अपनी पहली संगीतमाला की शुरुआत 2004 के दस बेहतरीन गानों से की जिसे 2005 में 25 गानों तक कर दिया। 2006 में जब खालिस हिंदी ब्लागिंग में उतरा तो ये सिलसिला इस ब्लॉग पर भी चालू किया जो कि आज अपने चौथे साल में है।

वार्षिक संगीतमाला 2004 में मेरी गीतमाला के सरताज गीत का सेहरा मिला था फिर मिलेंगे में प्रसून जोशी के लिखे और शंकर अहसान लॉए के संगीतबद्ध गीत "खुल के मुस्कुरा ले तू" को जबकि दूसरे स्थान पर भी इसी फिल्म का गीत रहा था कुछ खशबुएँ यादों के जंगल से बह चलीं। ये वही साल था जब कल हो ना हो, रोग, हम तुम, मीनाक्षी और पाप जैसी फिल्मों से कुछ अच्छे गीत सुनने को मिले थे।

वार्षिक संगीतमाला 2005 में बाजी मारी स्वानंद किरकिरे और शान्तनु मोइत्रा की जोड़ी ने जब परिणिता फिल्म का गीत 'रात हमारी तो चाँद की सहेली' है और हजारों ख्वाहिशें ऍसी के गीत 'बावरा मन देखने चला एक सपना' क्रमशः प्रथम और द्वितीय स्थान पर रहे थे।

वार्षिक संगीतमाला 2006 में ओंकारा और गुरु के गीत छाए रहे पर बाजी मारी 'उमराव जान' के संवेदनशील गीत 'अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो' ने। इस गीत और दूसरे नंबर के गीत 'मितवा ' को लिखा था जावेद अख्तर साहब ने

वार्षिक संगीतमाला 2007 में एक बार फिर प्रसून जोशी के लिखे और शंकर अहसान लॉए के संगीतबद्ध, 'तारे जमीं पर' के गीतों के बीच ही प्रथम और द्वितीय स्थानों की जद्दोजहद होती रही। पर माँ...जैसे नग्मे की बराबरी भला कौन गीत कर सकता था


वार्षिक संगीतमाला 2008 का सरताज गीत बना आमिर फिल्म का संवेदनशील नग्मा इक लौ इस तरह क्यूँ बुझी मेरे मौला ने।

इसकी मुख्य वज़ह थी इस गीत में संगीत, बोल और गायिकी का अद्भुत समनव्यन। ये कमाल था संगीतकार अमित त्रिवेदी, गायिका शिल्पा राव और गीतकार अमिताभ की बेमिसाल तिकड़ी का।


आमिर फिल्म के जबरदस्त संगीत की बदौलत गर अमित त्रिवेदी ने विजेता का आसन सँभाला तो रनर्स अप गीत कहने को जश्न-ऐ-बहारा है की मदद से संगीतकार ए आर रहमान ने पिछले साल की संगीतमाला पर अपनी बादशाहत कायम रखी।

जोधा अकबर, युवराज, जाने तू या जाने ना, गज़नी की बदौलत २००८ की वार्षिक संगीतमाला में उनके गीत दस बार बजे। रहमान के आलावा इस साल के अन्य सफल संगीतकारों में विशाल शेखर, सलीम सुलेमान और अमित त्रिवेदी का नाम लिया जा सकता है।

वार्षिक संगीतमाला 2008 में अमिताभ वर्मा, जयदीप साहनी, अशोक मिश्रा, इरफ़ान सिद्दकी, मयूर सूरी, कौसर मुनीर,अब्बास टॉयरवाला और अन्विता दत्त गुप्तन जैसे नए गीतकारों ने पहली बार अपनी जगह बनाई। इतने सारे प्रतिभाशाली गीतकारों का उभरना फिल्म संगीत के लिए शुभ संकेत है। वहीं गायक गायिकाओं में विजय प्रकाश, जावेद अली, राशिद अली, श्रीनिवास और शिल्पा राव जैसे नामों ने पहली बार संगीत प्रेमी जनता का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।

इस साल हिंदी फिल्म संगीत में पिछले साल की अपेक्षा फीके पकवान ही परोसे गए हैं। फिर भी मेरी कोशिश रहेगी कि इस शोर के बीच उन सुरीले गीतों को आपके सामने लाऊँ जो शायद आपकी नज़रों से गुजरे बिना निकल गए हों। हमेशा मित्र ये प्रश्न करते रहे हैं कि गीतमाला में कोई गीत मैंने इतनी ऊपर या नीचे क्यूँ रखा?

अब ये स्पष्ट कर दूँ कि इस गीतमाला का सीधे सीधे पॉपुलरटी से लेना देना नहीं है। गायिकी, संगीत, बोल और इनके सम्मिलित प्रभाव इन सभी आधारों को बराबर वज़न दे कर मैं अपनी पसंद के गीतों का क्रम तैयार करता हूँ। कई बार ये स्कोर्स लगभग बराबर होते हैं और तब गीतों को ऊपर नीचे करना बड़ा दुरुह होता है। हाँ, गीत से जुड़ी पोस्ट में मेरी पसंद के कारणों का जिक्र आप हमेशा की तरह पढ़ेंगे। प्रस्तुत गीत के बारे में पाठकों की राय भिन्न हो सकती है और उस बारे में आप अपना मंतव्य बेहिचक दें।

सवाल ये है कि वर्ष 2009 की इस संगीतमाला में क्या कोई नया सितारा सामने आएगा या फिर पुराने दिग्गज ही छाए रहेंगे? ये तो आप तभी जान पाएँगे जब आप अगले 2 महिनों तक संगीत के इस सफ़र में मेरे साथ होंगे। संगीतमाला में आप गीत तो सुनेंगे ही। साथ ही हर साल की तरह मेरी कोशिश रहेगी उन नए उभरते कलाकारों से आपको रूबरू कराने की जो इस साल के संगीत पटल पर तेजी से उभरे हैं। तो तैयार है ना आप हिंदी ब्लागिंग की सबसे पुरानी गीतमाला की उलटी गिनती यानि 25 वीं सीढ़ी से लेकर पहली सीढ़ी तक चढ़ने के लिए...

Related Posts with Thumbnails

10 comments:

हिमांशु । Himanshu on December 29, 2009 said...

बिलकुल तैयार हैं जी ! बहु-प्रतीक्षित है यह तो !

उस दृष्टि की खासियत है जिससे चयनित होते हैं गीत, और फिर वजहें बेमिसाल !
प्रतीक्षा कर रहा हूँ । आभार ।

कंचन सिंह चौहान on December 30, 2009 said...

December aate hi taiyar ho jate hain ji

अफ़लातून on December 31, 2009 said...

आँकड़े कहते हैं कि गीतमाला उन्हें अत्यन्त आराम से दो लाख के ऊपर ले जायेगी । हार्दिक शुभ कामना।
सप्रेम,
अफ़लातून

Anoop Bhargava said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Anoop Bhargava said...

"Thanks for doing it over the years .... look forward to reading/listening ...."

Poonam Misra said...

"A much awaited countdown on .....have been enjoying the songs and your analysis of them over the years ! Please keep doing it !"

Alapana on December 31, 2009 said...

And i promise, i will check each song, back after a long time but glad i did come:)

Devendra on December 31, 2009 said...

-बढ़िया पोस्ट..
--नववर्ष मंगलमय हो।

दिलीप कवठेकर on December 31, 2009 said...

नूतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें..

गौतम राजरिशी on January 01, 2010 said...

बिल्कुल तैयार हूँ मनीष जी! आप कितनी मेहनत करते हैं ना...सलाम आपको!

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie