Friday, December 31, 2010

जोर का ठुमका हाए जोरों से लगा : आइए साल को विदा करें इस साल के झुमाने वाले गीतों के साथ

साल का आखिरी दिन और मसला साल के सबसे ज्यादा थिरकने वाले गीतों को याद करने का। आज जश्न और मस्ती के माहौल को आप तक पहुँचाने के लिए लाया हूँ इस साल के छः लोकप्रिय गीत जो लोगों को ठुमका लगवाने पर मजबूर करते रहे।सच पूछिए तो झूमने- झुमाने के मामले में ये साल पिछले साल से फीका जरूर रहा है। पिछले साल प्रीतम के ट्विस्ट, चोरबाजारी और विशाल के ढैन टणान के आलावा पीयूष मिश्रा ने राजनीतिक मुज़रा पेश कर जिस तरह हमारा तन मन हिलाया था वो उन्माद इस साल के शुरुआत के गीत पैदा नहीं कर सके।

इस साल गीतों में मस्ती का दौर शुरु हुआ इब्नबतूता की वज़ह से जो अपनी कब्र से अचानक ही जूता चरमराते हुए निकले। इब्नबतूता के जूते की चुरचुराहट सर्वैश्वर दयाल सक्सेना के प्रशंसकों के दिल की किरकिरी बन गई। तरह तरह के आरोप लगे पर हमारे गुलज़ार साहब बड़े इत्मिनान से इब्न बतूता से फुर्र फुर्र चिड़िया उड़वाते रहे। तो आइए एक बार फिर से आनंद उठाइए इस चुरमुराते और फुरफुराते से गीत का...




इब्न बतूता तो जनवरी की आखिर में आकर निकल गए। इसके बाद की कमान सँभाली शंकर एहसान लॉए ने फिल्म 'कार्तिक कालिंग कार्तिक में। कुछ और विकल्प ना होने की वज़ह से लोग उनकी इस अदा पे कुछ दिन ही सही पर झूमने के लिए विवश हुए.



यानि साल का पहला उत्तरार्ध सूखा सूखा ही गया। जुलाई में आई फिल्म आई हेट लव स्टोरीज़। अब इस फिल्म को देखने से लोग प्रेम कथाओं से कितने विमुख हुए ये तो पता नहीं पर कुछ लोगों को तो सिनेमा हॉल में जाकर फिल्म देखने से विरक्ति जरूर हो गई। विशाल शेखर का संगीत जरूर युवाओं में खासा लोकप्रिय हुआ। खासकर फिल्म का ये शीर्षक गीत...




पर हिंदी फिल्म संगीत में इस साल सब से ज्यादा धमाल मचाया 'मुन्नी' ने। ललित पंडित ने बदनाम हुई का मुखड़ा तो पहले बन चुके गीतों से उठाया पर गीत के अंतरों में ऐसे ऐसे झटके दिये कि आम जनों ने इसे हाथों हाथ लिया। क्या दिल्ली क्या राजस्थान, क्या बिहार क्या यूपी हर जगह मुन्नी की बदनामी के चर्चे आम हो गए। शिल्पा व बेबो तो धन्य हो गयीं कि अभिनय के लिए ना सही पर अपनी अदाओं से ही किसी फिल्मी गीत में उनका नाम आ तो गया। और झंडू ब्रांड नेम वालों की तो लॉटरी ही खुल गई। बिना पैसा लगाए ही ऐसा प्रचार मिला कि इस पीढ़ी को अपने ब्रांडनेम की याद दिलाने की उन्हें आगे जरूरत ही नहीं पड़ेगी।

मुन्नी कुछ ज्यादा यश बटोरने लगी तो साल के आखिर में विशाल शेखर की जोड़ी ने शीला को आगे खड़ा कर दिया। 'शीला की जवानी' का मैं तो कायल नहीं हुआ पर इस गीत के बाजार में आने का समय ऐसा है कि वर्ष के अंत में होने वाली पार्टियों में ये गीत फिलहाल अपने नयेपन की वज़ह से  लोगों की पसंदीदा लिस्ट में आएगा ही।


पर जब साल का अंत करीब आ रहा है तो मैं आपको एक ऐसे गीत के साथ छोड़ता हूँ  जो आपको ले जाएगा अगले साल में दलेर मेंहदी और ॠचा शर्मा के दिए गए एक जोर के झटके के साथ ..




चलते चलते एक शाम मेरे नाम के सभी पाठकों और मित्रों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ। अगले साल में मिलेंगे वार्षिक संगीतमाला 2010 के गीतों के साथ...

Sunday, December 26, 2010

वार्षिक संगीतमाला 2010 का आगाज़ और एक नज़र पिछली संगीतमालाओं पर...

वार्षिक संगीतमाला 2010 में आप सबका स्वागत है। जैसा कि मैं पहले भी इस चिट्ठे पर कह चुका हूँ कि वार्षिक संगीतमालाएँ मेरे लिए नए संगीत में जो कुछ भी अच्छा हो रहा है उसको आप तक संजों लाने की कोशिश मात्र है। बचपन से रेडिओ सीलोन की अमीन सयानी की बिनाका और फिर विविधभारती पर नाम बदल कर आने वाली सिबाका गीतमाला सुनता रहा। उसका असर इतना था कि जब 2005 के आरंभ में अपने रोमन हिंदी ब्लॉग की शुरुआत की तो मन में एक ख्वाहिश थी कि अपने ब्लॉग पर अपनी पसंद के गीतों को पेश करूँ।

तो आइए एक नज़र डालें पिछली तीन साल की संगीतमालाओं की तरफ। मैंने अपनी पहली संगीतमाला की शुरुआत 2004  के दस बेहतरीन गानों से की जिसे 2005 में 25 गानों तक कर दिया। 2006 में जब खालिस हिंदी ब्लागिंग में उतरा तो ये सिलसिला इस ब्लॉग पर भी चालू किया जो कि आज अपने पाँचवे साल में है।

वार्षिक संगीतमाला 2004 में मेरी गीतमाला के सरताज गीत का सेहरा मिला था फिर मिलेंगे में प्रसून जोशी के लिखे और शंकर अहसान लॉए के संगीतबद्ध गीत "खुल के मुस्कुरा ले तू" को जबकि दूसरे स्थान पर भी इसी फिल्म का गीत रहा था कुछ खशबुएँ यादों के जंगल से बह चलीं। ये वही साल था जब कल हो ना हो, रोग, हम तुम, मीनाक्षी और पाप जैसी फिल्मों से कुछ अच्छे गीत सुनने को मिले थे।


वार्षिक संगीतमाला 2005 में बाजी मारी स्वानंद किरकिरे और शान्तनु मोइत्रा की जोड़ी ने जब परिणिता फिल्म का गीत 'रात हमारी तो चाँद की सहेली' है और हजारों ख्वाहिशें ऍसी के गीत 'बावरा मन देखने चला एक सपना' क्रमशः प्रथम और द्वितीय स्थान पर रहे थे।


वार्षिक संगीतमाला 2006 में ओंकारा और गुरु के गीत छाए रहे पर बाजी मारी 'उमराव जान' के संवेदनशील गीत 'अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो' ने। इस गीत
और दूसरे नंबर के गीत 'मितवा ' को लिखा था जावेद अख्तर साहब ने



वार्षिक संगीतमाला 2007 में एक बार फिर प्रसून जोशी के लिखे और शंकर अहसान लॉए के संगीतबद्ध, 'तारे जमीं पर' के गीतों के बीच ही प्रथम और द्वितीय स्थानों की जद्दोजहद होती रही। पर माँ...जैसे नग्मे की बराबरी भला कौन गीत कर सकता था




वार्षिक संगीतमाला 2008  में सरताज गीत का  का सेहरा बँधा युवा संगीतकार अमित त्रिवेदी के सर पर। सरताज गीत था शिल्पा राव के गाए और अमिताभ द्वारा लिखे इस बेहद संवेदनशील नग्मे के बोल थे इक लौ इस तरह क्यूँ बुझी मेरे मौला !.


बतौर संगीतकार ए आर रहमान ने 2008 की संगीतमाला पर अपनी बादशाहत कायम रखी थी। जोधा अकबर, युवराज, जाने तू या जाने ना, गज़नी की बदौलत उस साल की संगीतमाला में उनके गीत दस बार बजे। रहमान के आलावा 2008  के अन्य सफल संगीतकारों में विशाल शेखर, सलीम सुलेमान और अमित त्रिवेदी का नाम लिया जा सकता है। उसी साल संगीतमाला में अमिताभ वर्मा, जयदीप साहनी, अशोक मिश्रा, इरफ़ान सिद्दकी, मयूर सूरी, कौसर मुनीर,अब्बास टॉयरवाला और अन्विता दत्त गुप्तन जैसे नए गीतकारों ने पहली बार अपनी जगह बनाई।  वहीं गायक गायिकाओं में विजय प्रकाश, जावेद अली, राशिद अली, श्रीनिवास और शिल्पा राव जैसे नामों ने पहली बार संगीत प्रेमी जनता का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।

साल 2009  में पहली बार मेरे चहेते गीतकार गुलज़ार पहली पायदान पर कमीने फिल्म के लिए विशाल भारद्वाज के संगीतबद्ध गीत इक दिल से दोस्ती के सहारे कब्जा जमाया। वार्षिक संगीतमाला 2009 में  संगीतकार शंकर-अहसान-लॉय और प्रीतम ने  अपनी जोरदार उपस्थिति रखी। जहाँ शंकर-अहसान-लॉय के छः गीत इस संगीतमाला में बजे वहीं प्रीतम ने अजब प्रेम की गजब कहानी, लव आज कल एवम् बिल्लू में बेहद कर्णप्रिय संगीत देकर चार पॉयदानों पर अपना कब्जा जमाया।

पर साल 2009 किसी एक संगीतकार का नहीं बल्कि मिश्रित सफलता का साल रहा। रहमान, विशाल भारद्वाज, शांतनु मोइत्रा जैसे संगीतकार जो साल में चुनिंदा फिल्में करते हैं, का काम भी बेहतरीन रहा। इसलिए लोकप्रियता में दिल्ली ६ , कमीने और थ्री इडियट्स भी पीछे नहीं रहे। अमित त्रिवेदी को देव डी और वेक अप सिड के लिए जहाँ शाबासी मिली वहीं सलीम सुलेमान द्वारा संगीत निर्देशित कुर्बान और रॉकेट सिंह जैसी फिल्में भी चर्चा में रहीं। वैसे जहाँ साल २००९ के गीतकारों की बात आती है तो पीयूष मिश्रा का नाम सबसे पहले आता है। ना केवल उन्होंने फिल्म गुलाल के गीतों को अपने बेहतरीन बोलों से सँवारा पर साथ ही गीतों में कुछ अभिनव प्रयोग करते हुए फिल्म संगीत के बोलों को एक नई दिशा दी।

अब ये स्पष्ट कर दूँ कि इस गीतमाला का पॉपुलरटी से कोई लेना देना नहीं है। गायिकी, संगीत , बोल और इनका सम्मिलित प्रभाव इन सभी आधारों को बराबर वज़न दे कर मैं अपनी पसंद के गीतों का क्रम तैयार करता हूँ। कई बार ये स्कोर्स लगभग बराबर होते हैं इसलिए गीतों को ऊपर नीचे करना बड़ा दुरुह होता है। 

साल 2010 की संगीतमाला का स्वरूप क्या होगा इसका अंदाजा तो आप अगले साल जनवरी के पहले सप्ताह से लगा सकेंगे जब वार्षिक संगीतमाला की 25 वीं सीढ़ी से पहली सीढ़ी तक चढ़ने की उल्टी गिनती शुरु होगी। वैसे उसके पहले 31 दिसंबर को आना ना भूलिएगा क्यूँकि इस ब्लॉग पर वो शाम होगी साल के मस्ती भरे गीतों के साथ आपको झूमने झुमाने की ...

Sunday, December 19, 2010

मित्रो मरजानी : एक अनूठे नारी व्यक्तित्व की दास्तान...

ज़िंदगीनामा पढ़ने के बाद मित्रों ने याद दिलाया था कि आपको कृष्णा सोबती की लिखी किताब मित्रो मरजानी भी पढ़नी चाहिए। मित्रो के किरदार से बहुत पहले एक मित्र ने अपनी ब्लॉग पोस्ट के ज़रिए मिलाया था। पर ज़िदगीनामा के मिश्रित अनुभव ने मित्रो.. को पढ़ने की इच्छा फिर से जगा दी थी। कुछ महिने पहिले जब पुस्तक मेले में राजकमल द्वारा प्रकाशित इसका सौ पेजों का पेपरबैक संस्करण देखने को मिला तो तत्काल मैंने इसे खरीद लिया। वैसे भी आजकल पतली किताबों को देखकर ज्यादा खुशी होती है क्यूँकि ये भरोसा तो रहता है कि एक बार पढ़ने बैठा तो ख़त्म कर के ही उठूँगा।

मित्रो मरजानी एक मध्यमवर्गीय संयुक्त व्यापारी परिवार की लघु कथा है जिसकी केंद्रीय किरदार 'मित्रो' यानी घर की मँझली बहू है। मित्रो को भगवान ने अनुपम सौंदर्य बख़्शा है और मित्रो इस बात पर इतराती भी है। अपने इस यौवन को वो पूरी तरह जीना चाहती है। पति सरदारी लाल से संपूर्ण शारीरिक सुख न मिलने पर वो कुढ़ती रहती है। अपनी कुढ़न को वो सास और देवरानी के सामने बिना किसी लाग लपेट के निकालती भी रहती है। कृष्णा सोबती की मित्रो उन औरतों में से नहीं है जो सरदारीलाल जैसे पुरुष को अपनी नियति मान कर, रोज़ के पूजा पाठ और चूल्हा चक्की में मन रमाकर अपनी शारीरिक सुख की अवहेलना कर सके। वो अपनी इस भूख की तृप्ति को अपना वाज़िब हक़ समझती है। सो पति की अनुपस्थिति में वो उसके मित्र प्यारों सै नैन मटक्का करने में परहेज़ नहीं करती। सरदारीलाल को अपनी कमी का अहसास है। पत्नी की रंगीन तबियत उसकी बौखलाहट को और बढ़ा देती है। वो अपनी पत्नी के चरित्र पर सवाल उठाता है। मार कुटौवल के बाद जब ससुर के सामने पंचायत जुड़ती है तो मित्रो अपनी सफाई बड़ी बेबाकी से कुछ यूँ देती है।

"सज्जनो मेरे पति की बात सच भी है और झूठ भी।........ अब आप ही कहो सोने सी अपनी देह झुर झुरकर जला लूँ या गुलजारी देवर की घरवाली की न्याय सुई सिलाई के पीछे जान खपा लूँ? सच तो यूँ जेठ जी कि दीन दुनिया बिसरा मैं मनुक्ख की जात से हँस खेल लेती हूँ। झूठ यूँ कि खसम का दिया राजपाट छोड़ कर मैं कोठे पर तो नहीं जा बैठी।"

पुरुष कालांतर से स्त्री को उसके शरीर से मापता तौलता आया है। पुरुष की इस लोलुपता को उसके स्वाभाव का अभिन्न अंग मान लिया गया। पर स्त्री अगर ऍसा रूप धारण कर ले तो क्या हो इस प्रश्न को कम ही लेखकों ने उपन्यास का विषय बनाया है। पर कृष्णा सोबती ने 1967 में गढ़े इस उपन्यास में एक ऐसे स्त्री चरित्र का निर्माण किया जिसे अपने शरीर और उसकी जरूरतों का ना सिर्फ ख्याल है पर उसे वो हर कीमत पर पाना भी चाहती है। कृष्णा जी ने इस किताब के अंग्रेजी अनुवाद To hell with Mitro के प्रकाशित होने के पूर्व अपने इस उपन्यास के बारे में कहा था कि तब का हिंदी इलाकों का समाज बेहद रुढ़िवादी था। इसके प्रकाशन के समय इस विषय को काफी उत्तेजक कहा गया पर लोगों ने उपन्यास के अंदर के तत्त्व को पहचाना और उसे उसी तरह लिया।

मित्रो मरजानी की उत्पत्ति के बारे में कृष्णा जी का कहना था
एक सुबह मैंने मन ही मन एक दृश्य देखा कि कमरे में छाता लटका हुआ है और एक वृद्ध व्यक्ति नीचे पलंग पर लेटा हुआ है। संयुक्र परिवार के घर की इसी छवि से इस उपन्यास की शुरुआत हुई। मेरी एक बड़ी कमज़ोरी है। कहानी का अगर खाका मेरे मन में हो तो मैं नहीं लिख सकती। मैं चरित्रों को टोहती हूँ, परखती हूँ और आगे बढ़ती हूँ। चरित्रों की सोच पर मैं अपनी सोच नहीं लादती। मित्रो की अतृप्त इच्छाएँ जिस ठेठ भाषा में निकल कर आई हैं वो निहायत उसकी हैं।

कुछ मिसाल देखें
"जिन्द जान का यह कैसा व्यापार? अपने लड़के बीज डालें तो पुण्य, दूजे डालें तो कुकर्म.."
"मेरा बस चले तो गिनकर सौ कौरव जन डालूँ पर अम्मा, अपने लाडले बेटे का भी तो आड़तोड़ जुटाओ! निगोड़े मेरे पत्थर के बुत में भी तो कोई हरकत हो !.."

लेखिका  सिर्फ मित्रो की सोच को सामने नहीं रखती पर साथ साथ परिवार की मर्यादित बड़ी बहू के माध्यम से नारी के लिए बनाए गए सामाजिक मापदंडों का जिक्र करना नहीं भूलती। बड़ी बहू के अब इस कथन की ही बानगी लीजिए

"स कुलबोरन की तरह जनानी को हया न हो, तो नित-नित जूठी होती औरत की देह निरे पाप का घट है।"
 
कृष्णा सोबती जी की भाषा शैली एक बार फिर विलक्षण है। सास बहुओं के झगड़े, जेठानी देवरानी के आपसी तानों, मित्रों की बेलगाम जुबान को कृष्णा सोबती ने जिस शैली में लिखा है उसे पढ़कर आप सीधे अपने आपको इन चरित्रों के बीच पाते हैं। जिंदगीनामा की तरह यहाँ भी आंचलिकता का पुट है पर पंजाबी के भारी भरकम शब्दों का बोझ नहीं। ख़ैर वापस चले मित्रों के चरित्र पर...

सोबती जी ने मित्रो के चरित्र के कई रंग दिखाए हें जो श्वेत भी हैं और श्याम भी। मित्रो मुँहफट जरूर है पर उसकी बातों की सच्चाई सामने वाले को अंदर तक कँपा देती है। मित्रो अपनी छोटी देवरानी की तरह काम से जी नहीं चुराती पर अगर उसका मूड ना हो तो उसे उसके शयन कक्ष से बाहर निकालना मुश्किल है। सास के सामने उनके बेटे की नामर्दी के ताने देने से वो ज़रा भी नहीं सकुचाती पर साथ ही छोटी बहू द्वारा सास का अपमान होते देख वो उसकी अच्छी खबर लेती है। साज श्रृंगार में डूबी रहने वाली मित्रो छोटे देवर के गबन से आई मुसीबत को दूर करने के लिए अपने आभूषण देने में एक पल भी नहीं हिचकती। हर रात पति के आने की प्रतीक्षा में घंटो बाट निहारती है तो दूसरी तरफ़ गैर मर्दों से अपनी हसरतों को पूरा करने के स्वप्न भी देखा करती है।

मित्रो की ये चारत्रिक विसंगतियाँ पाठकों के मन में उसके प्रति आकर्षण बनाए रखती हैं। मित्रो अपनी जिंदगी से क्या चाहती है ये तो लेखिका शुरु से ही विश्लेषित करती चलती हैं। पर मित्रों अपनी देवरानियों से अलग अनोखी क्यूँ हुई इसका संकेत उपन्यास के आखिर में जा कर मिलता है जब लेखिका पाठकों को मित्रों की माँ से मिलवाती हैं । जिंदगी भर अपने यौवन का आनंद उठाने वाली और उन्हीं कदमों पर अपनी बेटी को बढ़ावा देने वाली माँ का एक नया रूप मित्रो के सामने आता है जो उसे भीतर तक झकझोर देता है। उपन्यास के अंत में आया ये नाटकीय मोड़ बड़ी खूबी से रचा गया है।

आज जब नारी की आजादी को शारीरिक और मानसिक दोनों नज़रिए से देखने की बहस तेज हो चुकी है ये उपन्यास एक स्त्री के चरित्र की उन आंतरिक परतों को टटोलता है जिस पर हमारा समाज ज्यादातर चुप्पी साध लेता है।मात्र पचास रूपये के पेपरबैक संस्करण को अगर आपने नहीं पढ़ा तो जरूर पढ़ें। मित्रो का चरित्र आपको जरूर उद्वेलित करेगा।

Monday, December 13, 2010

रंजीत रजवाड़ा : ग़ज़ल गायिकी में पारंगत एक अद्भुत युवा कलाकार...

पिछले दो हफ्तों से मैं सा रे गा मा पा के अपने पसंदीदा प्रतिभागियों के बारे में लिखता आ रहा हूँ। स्निति और सुगंधा के बाद आज बारी थी इस साल के मेरे सबसे चहेते गायक रंजीत रजवाड़ा की। रंजीत के बारे में सोचकर मन में खुशी और दुख दोनों तरह के भाव आ रहे हैं। खुशी इस सुखद संयोग के लिए कि जब रंजीत की गायिकी के बारे में ये प्रविष्टि लिख रहा था तो मुझे पता चला कि आज ग़ज़लों के राजकुमार कहे जाने वाले इस बच्चे का अठारहवाँ जन्मदिन भी है। और साथ ही मलाल इस बात का भी कि रंजीत को सा रे गा मा पा में सुनने का सौभाग्य अब आगे नहीं मिलेगा क्यूँकि पिछले हफ्ते संगीत के इस मंच से उसकी विदाई हो गई।



पर इस बात का संतोष है कि हिंदी फिल्म संगीत के पार्श्वगायकों को मौका देने वाले सा रे गा मा पा के मंच ने एक ख़ालिस ग़ज़ल गायक को भी अपनी प्रतिभा हम तक पहुँचाने का मौका दिया। आज के मीडिया की सबसे बड़ी कमी यही है कि वे हमारी शानदार सांगीतिक विरासत और विभिन्न विधाओं में महारत हासिल किए हुए कलाकारों को सही मंच प्रदान नहीं करती। शास्त्रीय गायिकी हो या सूफ़ी संगीत, लोकगीत हों या भक्ति संगीत, ग़ज़लें हों या कव्वालियाँ इन्हें भी टीवी और रेडिओ के विभिन्न चैनलों में उतनी ही तवज़्जह की दरक़ार है जितने पुराने नग्मों और आज के हिंदी फिल्म संगीत को। पर मीडिया के संगीत व अन्य चैनल शीला की जवानी और मुन्नी की बदनामी से ही इतने परेशान है कि इस ओर भला उनका ध्यान कहाँ जा पाता है? जब तक संगीत की हमारी इस अनमोल विरासत को फ़नकारों के माध्यम से नई पीढ़ी तक नहीं पहुँचाया जाएगा ये उम्मीद भी कैसे की जा सकती है कि उनकी तथाकथित सांगीतिक अभिरुचि बदलेगी?

इसीलिए जब रंजीत को आडिशन के वक़्त ये दिल ये पागल दिल मेरा ....गाने पर भी चुन लिया गया तो मुझे बेहद खुशी हुई। सा रे गा मा पा में उनका सफ़र और उम्दा हो सकता था अगर माननीय मेन्टरों ने उनकी प्रतिभा से न्याय करते हुए उन्हें सही गीत या ग़ज़लें दी होतीं। आज का युग विशिष्टताओं का युग है। गायिकी के इस दौर में रफ़ी, किशोर , मन्ना डे जैसे हरफ़नमौला गायक आपको कम ही मिलेंगे। पिछले दशक के जाने माने गायकों जैसे सोनू निगम, अभिजीत, उदित नारायण, कुमार शानू, अलका याग्निक, कविता कृष्णामूर्ति फिल्मों में कम और स्टेज शो में ज्यादा सुने जाते है। आज तो हालात ये हैं कि हर नामी संगीतकार खुद ही गायक बन बैठा है। विशाल भारद्वाज, विशाल, शेखर, सलीम,शंकर महादेवन इसकी कुछ जीती जागती मिसालें हैं। इन कठिन हालातों में सिर्फ उन गायकों के लिए पहचान बनाने के अवसर हैं जिनकी गायन शैली विशिष्ट है। सूफ़ियत का तड़का लगाना हो तो राहत फतेह अली खाँ, शफ़क़त अमानत अली, कैलाश खेर, रेखा भारद्वाज,ॠचा शर्मा सरीखी आवाज़ों का सहारा लिया जाता है। ऊँचे सुरों वाले गीत हों तो फिर सुखविंदर और दलेर पाजी अपना कमाल दिखला जाते हैं। मीठे सुर तो श्रेया घोषाल और हिप हॉप तो सुनिधि चौहान। जो जिस श्रेणी में अव्वल है उससे वैसा ही काम लिया जा रहा है।

सा रे गा मा पा के मंच से जब रंजीत रजवाड़ा ने गुलाम अली की तीन चार ग़ज़लें बड़ी काबिलियत से गा लीं तो हमारे मूर्धन्य संगीतकार विशाल जी को लगा कि उनके गायन में कोई विविधता नहीं है। बताइए विविधता की बात वो शख़्स कर रहा है जो खुद सिर्फ हिप हॉप वाले वैसे गीतों को गाता रहा है जिसमें खूब उर्जा (बहुत लोगों को लगेगा कि शोर सही शब्द है) की आवश्यकता होती है। अगर रजवाड़ा से विविधता के नाम पर गुलाम अली के अलावा अन्य मशहूर ग़ज़ल गायकों या पुरानी हिंदी फिल्मों की ग़ज़लें गवाई जाती तो ये फ़नकार समा बाँध देता पर उन्हें कहा गया कि हारमोनियम छोड़ कर कुछ दूसरी तरह का गीत चुनिए। लिहाज़ा रंजीत ने कुछ फिल्मी गीतों पर भी मज़बूरन हाथ आज़माया। नतीजा सिफ़र रहा। वो तो उनकी ग़ज़ल गायिकी से मिल रही लोकप्रियता थी जो उन्हें इतनी साधारण प्रस्तुति के बाद भी बचा ले गई।

रंजीत राजस्थान के एक निम्न मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते हैं। पिता को संगीत का शौक था पर संगीत के क्षेत्र में कुछ करने की ललक को वो फलीभूत ना कर सके। पर बेटे में जब उनको वो प्रतिभा नज़र आई तो उन्हें लगा कि जो वो अपनी ज़िदगी में ना कर पाए शायद बेटा कर दे। रंजीत ने भी होटल में काम करने वाले अपने पिता को निराश नहीं किया। चिरंजी लाल तनवर से संगीत सीख रहे रंजीत ने पहले छोटी मोटी प्रतियोगिताएँ जीती और फिर 2005 में तत्कालीन राष्ट्रपति से बालश्री का खिताब पाया। अगले साल आल इंडिया रेडियो द्वारा भी सर्वश्रेष्ठ गायक का ईनाम भी जीता। लता दी और सोनू निगम जैसे माने हुए कलाकार उन्हें यहाँ आने से पहले सुन चुके हैं। अगर आपने अभी तक रंजीत को गाते देखा सुना नहीं तो ये काम अवश्य करें।

दिखने में दुबले पतले और दमे की बीमारी से पीड़ित जब रंजीत गाते हैं तो एक ओर तो हारमोनियम पर उसकी ऊँगलियाँ थिरकती हैं तो दूसरी तरफ़ ग़ज़ल की भावनाओं के अनुरूप उसकी आँखों की पुतलियाँ। रंजीत ने ग़ज़ल गायिकी के पुराने स्वरूप को बड़े सलीके के साथ इन चंद हफ्तों में संगीत प्रेमी जनता तक पहुँचाने का जो काम किया है, उसके लिए उनकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है। आज अंतरजाल पर जगह जगह लोग रंजीत रजवाड़ा की गायिकी की मिसालें देते नहीं थक रहे हैं और खुशी की बात ये है कि इसका बहुत बड़ा हिस्सा वैसे युवाओं का है जिन्होंने ग़ज़ल को कभी ठीक से सुना ही नहीं।

सा रे गा मा पा के इस सफ़र में रंजीत ने ज्यादातर अपने पसंदीदा ग़ज़ल गायक गुलाम अली की ग़ज़लें गायीं। हंगामा हैं क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है...., चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है..., ये दिल ये पागल दिल मेरा.... , आज जाने की जिद ना करो... इन सब की प्रस्तुतियों में उन्होंने खूब तालियाँ बटोरी पर मुझे उनकी सबसे बेहतरीन प्रस्तुति तब लगी जब उन्होंने याद पिया की आए गाया। रघुबीर यादव के सम्मुख गाए इस गीत में रंजीत को दीपक पंडित की वॉयलिन और बाँसुरी पर पारस जैसे नामी साज़कारों के साथ गाने का मौका मिला और उन्होंने इस अवसर पर अपने सुरों में कोई कमी नहीं होने दी। तो सुनिए रंजीत की ये प्रस्तुति




रंजीत आपको एक बार फिर से अपने अठारहवें जन्मदिन की बधाई। मेरी शुभकामना है आप ग़ज़ल गायिकी में जिस मुकाम पर इतनी छोटी उम्र में पहुँचे हैं उसमें आप खूब तरक्की करें और रियाज़ के साथ साथ अपने स्वास्थ का भी ध्यान रखें।

Monday, December 06, 2010

सुगंधा मिश्रा और उनका गाया वो यादगार पंजाबी टप्पा..

सा रे गा मा पा पर उभरती प्रतिभाओं के बारे में बात करते हुए पिछले हफ्ते आपसे बात हुई स्निति मिश्रा के बारे में। पर आज की ये प्रविष्टि है सुगंधा मिश्रा के बारे में। स्निति की तरह ही सुगंधा भी शास्त्रीय संगीत की उभरती हुई गायिका हैं। सा रे गा मा पा के इस साल के प्रतिभागियों में सुगंधा ही एक ऐसी प्रतिभागी हैं जो यहाँ आने के पहले ही टीवी के दर्शकों के बीच अपनी पहचान बना चुकी हैं। पर ये पहचान उन्हें अपनी गायिकी की वज़ह से नहीं बल्कि स्टार वन में आने वाले कार्यक्रम लॉफ्टर चैलेंज में मिमिकरी करने की वजह से मिली है।


बहुमुखी प्रतिभा की धनी सुगंधा साल दर साल विभिन्न युवा महोत्सवों में शास्त्रीय गायन में ढेर सारे पुरस्कार बटोरने के साथ साथ वेस्टर्न सोलो श्रेणी में भी पुरस्कृत हो चुकी हैं। पर वो आज मेरी इस पोस्ट की केंद्र बिंदु में हैं तो अपने लाजवाब शास्त्रीय गायन की वज़ह से।

पच्चीस वर्षीय सुगंधा के पिता संतोष मिश्रा दूरदर्शन के जालंधर केंद्र में स्टेशन डॉयरेक्टर के पद पर कार्यरत हैं। बहुत छोटी उम्र से उन्होंने अपने दादा पंडित शंकर लाल मिश्रा से संगीत की शिक्षा लेनी शुरु की। सुगंधा का पूरा परिवार संगीत से जुड़ा है। चाचा अरुण मिश्रा सितार वादक हैं। दादा जी इंदौर के उस्ताद अमीर खाँ के शिष्य रहे है। उन्हें सुगंधा का मिमकरी करना और पाश्चात्य संगीत में दखल देना अच्छा नहीं लगता। पर सुगंधा शास्त्रीय संगीत को अपनाते हुए इन विधाओं में भी अपने हुनर को बिखेरते रहना चाहती हैं। आज के युवाओं की तरह सुगंधा के लिए भी शोहरत और पैसे की अहमियत है और वो मात्र शास्त्रीय संगीत का दामन पकड़ कर गुमनामी की जिंदगी नहीं जीना चाहती। मेरे ख्याल से इस तरह की सोच में कोई बुराई नहीं बशर्ते ये उनकी शास्त्रीय गायन की प्रतिभा को प्रभावित नहीं करे।

सुगंधा की मिमकरी के साथ गाने की कई झलकें मैं पहले भी देख चुका था। पर वो शास्त्रीय संगीत में इतनी प्रवीण है इसका अंदाज़ा मुझे पहली बार तब हुआ जब उन्होंने सा रे गा मा के आडिशन में एक पंजाबी टप्पा गा कर सुनाया। टप्पे के बोल थे यार दी मैनूँ तलब...। टप्पे के उस टुकड़े को सुन कर मुझे जिस आनंद की अनुभूति हुई उसका वर्णन करना मुश्किल है। बस इतना ही कहूँगा की आज भी मैं उस छोटी सी रिकार्डिंग को बार बार बार रिवाइंड कर सुनता रहता है और मन में एक गहन शान्ति का अहसास तारी होता रहता है।

वैसे पूरे टप्पे को ग्वालियर घराने के नामी शास्त्रीय गायक लक्ष्मण कृष्णराव पंडित ने गाया है। शास्त्रीय संगीत के समीक्षक मानते हैं कि टप्पा गाना कठिन भी है और द्रुत गति से गाने के लिए इसमें काफी उर्जा भी लगानी पड़ती है पर सुगंधा ने जब इसे सुनाया तो ऐसा लगा कि उनके लिए तो ये बड़ा ही सहज था।



सा रे गा मा में सुगंधा का सफर मिश्रित रहा है। उन्होंने पूरे कार्यक्रम में अलग अलग कलाकारों के गाए गीतों को अपनी आवाज़ दी है। कुछ को उन्होंने बड़ी बखूबी निभाया तो कुछ में उनका प्रदर्शन खास नहीं रहा। पर जब जब उन्होंने शास्त्रीय संगीत पर आधारित गीतों को चुना है तब तब सुनने वालों को उनकी सबसे सशक्त प्रस्तुति देखने को मिली है। मिसाल के तौर पर दिल्ली 6 के गीत भोर भई तोरी बाट तकत पिया जो राग गुजरी तोड़ी पर आधारित है को सुगंधा ने बड़ी मेहनत से निभाया। तो आइए एक बार फिर सुनें सुगंधा को





सुगंधा मिश्रा फिलहाल सा रे गा मा पा के अंतिम पाँच में हैं। वो प्रतियोगिता में अंत तक रहेंगी या नहीं, ये तो वक़्त ही बताएगा। हाँ इतना तो तय है कि अपनी बहुआयामी प्रतिभा को सँजोते हुए अगर वो शास्त्रीय गायिकी में अपनी निष्ठा और लगन को बनाए रखने में सफल हो पाती हैं तो अवश्य सफलता के उस मुकाम तक पहुँचेगी जिसकी उनको तलाश है।
 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie