Saturday, January 28, 2012

वार्षिक संगीतमाला 2011 पॉयदान संख्या 12 : Te amo...किसी को सपना लगे तू, किसी को बहती हवा

गीतों में नवीनता लाने के लिए अक़्सर संगीतकार गीतकार कुछ खास जुमले गीतों में डालने की कोशिश करते हैं। कभी ये जुमले आंचलिक भाषा की देन होते हैं तो कभी किसी विदेशी भाषा के। सुननेवाले को ये जुमले एकबारगी तो समझ नहीं आते पर सुनते सुनते वो इनका इतना अभ्यस्त हो जाता है कि मतलब ना जानते हुए भी वो उसी धुन में गीत गुनगुनाता चला जाता है। पंजाबी जुमले कतिया करूँ की बात तो हम पहले ही कर चुके हैं। पर आज जिस गीत का जिक्र है उसके मुखड़े में पिरोया शब्द देश के अंदर से नहीं पर स्पैनिश भाषा से लिया गया है। जी हाँ, मैं बात कर रहा हूँ संगीतकार प्रीतम के फिल्म 'दम मारो दम' के लिए रचे गीत टी एमो मी थी एमो की.. जिसका अर्थ होता है मैं तुमसे प्यार करता हूँ, क्या तुम मुझसे प्यार करती हो ?


प्रीतम पर भले ही बीच बीच में इधर उधर से धुनों के उठाए या प्रेरित होने के आरोप लगते रहे हैं पर उनके गीतों की फेरहिस्त देखी जाए तो उनकी प्रतिभा का लोहा मानना ही पड़ता है। इस गीत का सबसे मजबूत पक्ष गिटार पर बजती सुरीली धुन है जिसे जयदीप साहनी ने अपने बोलों में रूमानियत का रस घोल कर और मधुर बना दिया है। जयदीप की कलम द्वारा सपने में प्रियतम के स्पर्श को भी चोरी क़रार देने की सोच नई और अच्छी लगती है

कभी लगे छूऊँ तुम्हें यूँ ही ख़यालों में ही
कभी लगे नहीं नहीं चोरी नहीं

इस युगल गीत में पहली बार इस संगीतमाला में प्रवेश किया है सुनिधि चौहान और ऐश किंग ने। सुनिधि के लिए ये साल पिछले कुछ वर्षों की तरह उतना सफल नहीं रहा। पर इस गीत में ऐश किंग का साथ उन्होंने बखूबी दिया है।

पर इससे पहले कि आप ये गीत सुनें कुछ बातें पार्श्व गायक ऐश किंग के बारे में। ऐश किंग का वास्तविक नाम आशुतोष गाँगुली है। पर ब्रिटेन में जन्मे इस पॉप गायक ने 'जैसा देश वैसा भेष' वाली कहावत का अनुसरण करते हुए अपने नाम में बदलाव कर लिया। ऐश किंग को संगीत विरासत में मिला है। उनके पिता खुद एक संगीतकार थे और उन्होंने अपने समय के मशहूर संगीतकार अनिल विश्वास और सलिल चौधरी के सहायक के रूप में भी काम किया था।

ब्रिटिश पॉप चार्टों में अपने गीतों से धमाल मचाने वाले ऐश को हिंदी फिल्मों में गाने का सबसे पहला मौका 'दिल गिरा दफ्फतन..' के रूप में रहमान ने अपनी फिल्म दिल्ली 6 में दिया। पिछले साल उनके गाए फिल्म 'आयशा' के गीत 'सुनो आयशा' और इस साल बाडीगार्ड के गीत 'I love you...' ने खासी लोकप्रियता अर्जित की है। टी एमो में उनकी आवाज़ मन में प्रेम का अहसास जगाने में पूरी तरह सफल रही है।

प्रीतम अपने गीतों में हमेशा हिंदी के साथ अंग्रेजी के अंतरों का समावेश करते रहे हैं। तेरा होने लगा हूँ... और जाने क्या चाहे मन बावरा... जैसे गीत तो आपको याद ही होंगे। ये गीत भी उसी शैली का है। तो आइए गीत के बोलों के साथ गीत का आनंद उठाएँ..



किसी को सपना लगे तू, किसी को बहती हवा
किसी को बस बातों में, करे पल में यहाँ वहाँ
किसी के सौ झूठ सुन ले, किसी का सच भी गुनाह
किसी की बस यादों में, करे हलचल सारा ज़हाँ


Te Amo Me thi Amo, तू छाँव है तू धूप है

Te Amo Me thi Amo, तेरे हजारों रूप हैं
कोई समझा नहीं जो भी है बस खूब है,
Fallin so crazy in love..Te Amo ....


कभी लगे रातों में मैं ख़्वाबों से बाते करूँ
सुबह उन्हीं ख़्वाबों को काबू करूँ
कभी लगे तारों से भी ऊँची उड़ाने भरूँ
कभी लगे बादलों से मैं जेबें भरूँ


Te Amo Me thi Amo, तारे गिनूँ तेरे लिए
Te Amo Me thi Amo, सारे चुनूँ तेरे लिए
ख़्वाब सारे बुनूँ तेरे ही तेरे लिए
Fallin so crazy in love..Te Amo ....


कभी लगे मिली नहीं तुमसे मैं ख़्वाबों में भी
कभी लगे कहीं तो है रिश्ता कोई
कभी लगे छूऊँ तुम्हें यूँ ही ख़यालों में ही
कभी लगे नहीं नहीं चोरी नहीं
Te Amo Me thi Amo, तू पास है पर दूर है
Te Amo Me thi Amo, जाता नहीं ये नूर है


तेरी चोरी भी ये मंज़ूर मंज़ूर है
Fallin so crazy in love..Te Amo ....

Related Posts with Thumbnails

7 comments:

प्रवीण पाण्डेय on January 28, 2012 said...

कर्णप्रिय गीत, कर्णप्रिय संगीत..

***Punam*** on January 28, 2012 said...

Beautiful & amazzing song....
thanx for sharing....plz..send it to me on my gmail id (punamsinha@gmail.com) bcoz i have some problem in downloading this song....
thanx..

Archana on January 29, 2012 said...

सुनने मे बहुत मधुर..आभार..

Alok Kumar Tripathi on January 29, 2012 said...

Aapki is sundar aur maulik vevechna ke liye dhanyawad

Pallavi on January 29, 2012 said...

सुंदर और कर्ण प्रिय गीत लगता है यह यहाँ इस खूबसूरत और बढ़िया गीत कि विवेचना के लिए आभार

Manish Kumar on February 02, 2012 said...

जानकर प्रसन्नता हुई कि आप सबको मेरी तरह ही गीत मधुर लगता है. प्रविष्टि पसंद करने लिए पल्लवी जी और आलोक जी आपका शुक्रिया।

Amita Maurya on February 03, 2012 said...

love this song ... all my fav ones ..

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie