Thursday, January 12, 2012

वार्षिक संगीतमाला 2011 - पॉयदान संख्या 19 :तेरी मेरी मेरी तेरी प्रेम कहानी दो लफ़्ज़ों में बयाँ ना हो पाए.....

कभी कभी सीधे सहज बोल भी एक अच्छी धुन पर बेहतरीन गायकों द्वारा गाए जाएँ तो कानों को भले लगते हैं। वार्षिक संगीतमाला की 19 वीं पॉयदान पर भी एक ऐसा ही नग्मा है जिसे गाया है एक बार फिर राहत साहब ने, कोकिल कंठी श्रेया घोषाल के साथ। फिल्म बॉडीगार्ड का ये गीत संगीत रिलीज़ होने के कुछ ही दिन बाद लोगों की जुबाँ पर आ गया। गीत तो आप पहचान ही गए होंगे तेरी मेरी मेरी तेरी प्रेम कहानी दो लफ़्ज़ों में बयाँ ना हो पाए......। इस गीत को लिखा है गीतकार शब्बीर अहमद ने।

बॉडीगार्ड के साथ हीमेश रेशमिया ने फिल्म जगत से लिया अपना अस्थायी अवकाश खत्म कर दिया था। गायक और अभिनेता के किरदार की अपेक्षा वो संगीतकार के रूप में मुझे ज्यादा जँचे हैं। इस साल आई उनकी फिल्म दमादम में भी कुछ अच्छी धुनें थीं और बाडीगार्ड का गीत संगीत तो लोकप्रिय हुआ ही है। पर जहाँ तक हीमेश के इस गीत की बात आती है तो इसे एक प्रेरित यानि inspired कम्पोजीशन कहना ही उचित होगा। गीत में राहत का आलाप और बीच का अंतरा तो हीमेश का रचा हुआ है पर  मुखड़े की धुन, जो गीत में बार बार दोहरायी जाती है हूबहू इस रोमानियन ईसाई गीत La Betleem..से मेल खाती है।


इन प्रेरित धुनों के बारे में अपना नज़रिया मैं पहले भी अपने एक लेख में स्पष्ट कर चुका हूँ
भारतीय संगीतकार अपनी धुनों के साथ साथ पाश्चात्य धुनों को भारतीयता के रंग में ढाल कर उसे भारतीय श्रोताओं के सामने प्रस्तुत करते रहे और वाह वाही और निंदा दोनों लूटते रहे। मुझे इस तरह विदेशी धुनों पर हिंदी गीत बनाने में कोई आपत्ति नहीं है बशर्ते धुन के वास्तविक रचनाकार के नाम को पूरे क्रेडिट के साथ फिल्म और उसके एलबम में दिखाया जाए। पर पता नहीं क्यूँ हमारे नामी संगीतकार भी ऐसा करने से कतराते रहे हैं। कई बार ये संगीतकार गीतकारों की मदद से गीत को उसके आरिजनल से भी बेहतर बना देते हैं। पर उनकी ये मेहनत उसके मूल रचनाकार से बिना अनुमति व बिना क्रेडिट के धुल जाती है।
गीत पर पूरी वाह वाही लूटने के बाद जब हीमेश से इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैंने गीत के कुछ अंश जरूर सलमान की बताई एक लोक धुन पर आधारित किए पर बाकी तो मेरा खुद की संगीतबद्ध रचना है। हीमेश जी, अगर गीत के क्रेडिट्स में ही इस बात का उल्लेख होता तो इससे आपका कद बढ़ता ही। ख़ैर चलिए विवादों को परे रख ये प्रेम गीत सुनते हैं।



.
Related Posts with Thumbnails

9 comments:

S.N SHUKLA on January 12, 2012 said...

सार्थक प्रस्तुति, आभार.
कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधार कर अपना स्नेहाशीष प्रदान करें, आभारी होऊंगा.

प्रवीण पाण्डेय on January 12, 2012 said...

यह धुन बड़ी अच्छी लगी थी पर दुख हुआ कि यह भी चोरी की थी।

babanpandey on January 13, 2012 said...

पहली बार आपके ब्लॉग पर आया ...... बहुत ही अच्छा लगा..... मेरे भी ब्लॉग पर एक दृष्टि डाले
नव वर्ष की मंगल कामना

Mrityunjay Kumar Rai on January 13, 2012 said...

very sweet song and deserve to be on Top five chart. I can't understand why have u picked it at Number 19.You should do proper justice with these kind of song. Lets wait for your top five and then i will comment on the merit of the songs.

Manish Kumar on January 13, 2012 said...

मृत्युंजय आपने अपने दिल की बात कही पढ़कर अच्छा लगा। पर ये तो आप मानेंगे कि कौन सा गीत किस स्थान पर रहेगा ये व्यक्ति की निजी पसंद का मामला है। आपकी राय कुछ और होगी और बाकियों की कुछ और। ये गीत कर्णप्रिय है गायिकी मधुर है इसीलिए मेरी गीतमाला में स्थान बना पाया। पर ना इस गीत की धुन आरिजनल है ना इसके बोल मुझे प्रभावित करते हैं। आप अपनी पसंद के गीतों की फेरहिस्त बना कर रखें और गीतमाला के सारे गीतों को सुनने के बाद अंत में ये बताएँ कि आप के साल के दस पसंदीदा गीत कौन से रहे ? आपकी पसंद जानकर मुझे खुशी होगी।

Mihir Jha on January 13, 2012 said...

kitna khubsurat

Abhishek Ojha on January 14, 2012 said...

ओह ! तो ये भी इंस्पायर्ड है.

dr.mahendrag on January 16, 2012 said...

copy aur chori mai hamari vishehgyata hai, koe bhi field kyon na ho.Chalo phir bhi jo kuch kiya hai achha hai.

dr.mahendrag on January 16, 2012 said...

copy aur chori mai hamari vishehgyata hai, koe bhi field kyon na ho.Chalo phir bhi jo kuch kiya hai achha hai.

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie