Sunday, June 30, 2013

किताबों से कभी गुजरो तो यूँ किरदार मिलते हैं...

किताब पढ़ने का शौक मुझे अपने माता पिता से मिला है। बचपन में वे अक्सर कहा करते थे कि किताबें हमारी भाषा को समृद्ध करती हैं, हमारे विचारों को विस्तार देती हैं और हमें दूसरे नज़रिए से सोचने को मजबूर करती हैं। उनकी बातों ने पुस्तकें पढ़ने की आदत डलवा दी। हाँ ये जरुर हुआ कि पढ़ाई लिखाई, नौकरी की भाग दौड़ में पुस्तकें पढ़ने की बारम्बारता कम ज्यादा होती रही।



आजकल तो पुस्तकें पढ़ना और वो भी हिंदी पुस्तकों को पढ़ना प्रचलन में नहीं रह गया है या यूँ कहूँ कि आउट आफ फैशन हो गया है। ऍसे में पुस्तक ना पढ़ने वालों को गुलज़ार साहब की ये पंक्तियाँ याद दिलाना चाहता हूँ

किताबों से कभी गुजरो तो यूँ किरदार मिलते हैं
गये वक्तों की ड्योढ़ी पर खड़े कुछ यार मिलते हैं
जिसे हम दिल का वीराना समझ छोड़ आए थे
वहीं उजड़े हुए शहरों के कुछ आसार मिलते हैं
 

पर मैंने अपने में ये प्रवृति बनाई रखी है और जब कार्यालयी दौरों में रहता हूँ तो यात्रा के दौरान अपने साथ किताब जरूर रखता हूँ। जब से चिट्ठाकारी शुरु की है समय समय पर आपको उन किताबों के बारे में अपनी राय से अवगत कराता रहा हूँ।

पिछले सालों से इस पृष्ठ को बार बार अपडेट करता रहा हूँ। आज इस साल पढ़ी गई पुस्तकों की लिंक भी इसमें जोड़ दी है...

इस चिट्ठे पर आप इन पुस्तकों के बारे में भी पढ़ सकते हैं
  1. असंतोष के दिन o
    Asantosh Ke Din by Dr. Rahi Masoom Raza 
  2. टोपी शु्क्ला**
    Topi Shukla by Dr. Rahi Masoom Raza 
  3. पीली छतरी वाली लड़की**
    Peeli Chhatri Wali Ladki by Uday Prakash
  4. और एक युधिष्ठिर o
    Aur Ek Yudhisthir by Bimal Mitra
  5. उर्दू की आख़िरी किताब     भाग :1    भाग :2 ***1/2
    Urdu Ki Aakhri Kitaab by Ibne Insha
  6. मैं बोरिशाइल्ला **
    Main Borishailla by Mahua Maji
  7. जल्लाद की डॉयरी **
    Jallad Ki Diary by Shashi Warior
  8. गुनाहों का देवता ****
    Gunahon Ka Devta by Dharmveer Bharti
  9. जालियाँवाला बाग त्रासदी **
    Massacre at Jallianwala Bagh by Stanley Wolpert
  10. कसप ****
    Kasap by Manohar Shyam Joshi
  11. गोरा ***
    Gora by Ravindra Nath Tagore
  12. महाभोज ***
    Mahabhoj by Mannu Bhandari
  13. क्याप  o
    Kyap by Manohar Shyam Joshi
  14. एक इंच मुस्कान, *
    Ek Inch Muskaan by Rajendra Yadav and Mannu Bhandari
  15. लीला चिरंतन, *
    Leela Chirantan by Ashapoorna Devi
  16. क्षमा करना जीजी **
    Kshama Karna Jiji by Narendra Kohli
  17. मर्डरर की माँ *
    Murderer ki Maan by Mahashweta Devi
  18. दो खिड़कियाँ ***
    Do Khidkiyan by Amrita Preetam
  19. हमारा हिस्सा **1/2
    Stories on Women Empowerment
  20. मधुशाला ****
    Madhushala by Harivansh Rai Bachchan
  21. मुझे चाँद चाहिए  ***
    Mujhe Chand Chahiye by Surendra Verma
  22. कहानी एक परिवार की
    Kahani Ek Pariwaar Kee by Gurucharan Das
  23. सूरज का सातवाँ घोड़ा 1/2*
    Suraj Ka Saatvan Ghoda by Dharamveer Bharti
  24. दौरान -ए- तफ़तीश भाग १ भाग २ भाग ३ ***
    Douran - E - Tafteesh by Satish Chandra Pandey
  25. तस्वीर जिंदगी के (भोजपुरी ग़ज़ल संग्रह) भाग १ भाग २ ***
    Tasweer Zindagi Ke... (Bhojpuri Ghazal Collection) by Manoj Bhawuk
  26. ज़िंदगीनामा **
    Zindaginama by Krishna Sobti
  27. तीन भूलें जिंदगी की *
    Three Mistakes of My Life by Chetan Bhagat
  28.  शादीशुदा मगर उपलब्ध o
    Married but Available by Abhijit Bhaduri
  29. मित्रो मरजानी ***
    Mitro Marjani by Krishna Sobti
  30. वरुण के बेटे **
    Varun Ke Bete by Nagarjun
  31. घर अकेला हो गया, भाग १ , भाग २ ***
    Ghar Akela Ho Gaya by Munnawar Rana
  32. तुम्हारे लिए *
    Tumhare Liye by Himanshu Joshi
  33.  जाने भी दो यारों ***
    Jaane Do Bhi Yaaro
    by Jai Arjun Singh

वैसे बहुत सारी किताबें ऐसी हैं जिन्हैं मैंने अपने स्कूल या कॉलेज के दिनों में पढ़ा था और उस वक़्त उनकी सूची भी बनाई थी। उनमें से अपनी पसंदीदा किताबों की फेरहिस्त भी यहाँ डाल रहा हूँ ताकि पुस्तक प्रेमियों को सहूलियत रहे। कभी वक़्त मिला तो इनके बारे में अलग से लिखने का प्रयास जरूर करूँगा।


मेरी पसंदीदा किताबें

  1. सुवर्णलता ***** Suwarnlata by Ashapurna Devi
  2. बकुल कथा **** Bakul Katha by Ashapurna Devi
  3. प्रथम प्रतिश्रुति *** Pratham Pratishruti by Ashapurna Devi
  4. आपका बंटी ****  Aapka Bunty by Mannu Bhandari
  5. राग दरबारी **** Rag Darbari by Srilal Shukla
  6. सुरसतिया *** Sursatiya by Bimal Mitra
  7. अग्निगर्भा *** Agnigarbha by Amritlal Nagar
  8. झरोखे **** Jharokhe by Bhishma Sahni
  9. घातक *** Ghatak by Baren Gangopadhyay
  10. मिट्टी की कसम ***  Mitti Ki Kasam by Manhar Chouhan
  11. किसका अपराध ? *** कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी  Kiska Apradh by K.M. Munshi
  12.  मेरे यादों के चिनार*** Meri Yadon ke Chinar by Krishna Chander
  13. रथचक्र *** Rathchakra by Narayan Pendse
  14. प्रारब्ध*** Prarabdha by Ashapoorna Devi
  15. मैला आँचल *** Maila Aanchal by Phaneeswar Nath Renu
  16.  दृश्य से दृश्यांतर *** Drishya Se Drishyantar by Ashapurna Devi
  17. आधा गाँव *** Adha Gaanv by Dr. Rahi Masoom Raza
  18.  Freedom at Midnight by Larry Collins & Dominique Lapierre*****
  19. Great Expectation by Charles Dickens ***
  20. Between the Lines by Kuldeep Nayyar ***
  21. Where Angels Fear to Tread by E.M. Forester *** 
  22. Mrs Craddock by W.Somerset Maugham ***
  23. Lolita by Vladimir Nabokov ***
  24. An English August : An Indian Story by Upmanyu Chatterji****
  25. The Pakistani Bride by Bapsi Sidhwa ***
  26. Call the Next Witness by Philip Mason ***
  27. City of Joy by Dominique Lapierre   ****
  28. Midnight Children by Salman Rushdie ***
  29. The Far Pavilions by M. M.Kaye ***
  30. God of Small Things by Arundhati Roy ***  
  31. Five Point Someone by Chetan Bhagat ***
  32. Jaane Do Bhi Yaaro by Jai Arjun Singh ***

किताबें जो टुकड़ों में पसंद आईं

  1. आधे सफ़र की पूरी कहानी ** Aadhe Safar ki Poori Kahani by Krishna Chander
  2. सीमाबद्ध ** Seemabadh by Shankar
  3. कृष्णकली** Krishnakali by Shivani
  4. करवट ** Karvat by Amritlal Nagar
  5. चतुरंग ** Chaturang by Bimal Mitra
  6. सीमाएँ टूटती हैं ** Seemayein Tootti Hain by Srilal Shukla
  7. पचपन खंभे लाल दीवारें ** Pachpan Khambhe Laal Deewarein by Usha Priyambda
  8. और मौत मर गई ** Aur Maut Mar Gayi by Usha Seth
  9. अभिषेक ** Abhishek by Krishna Agnihotri
  10. आज़ादी **  Azaadi by Chaman Nahal
  11. महाश्वेता * Mahashweta by Tarashankar Bandopadhyay
  12. बड़ी बड़ी आँखें* Badi Badi Aankhein by Upendra Nath Ashq
  13. चॉकलेट * Chocolate by Pandit Bechan Sharma Ugra
  14. पाहीघर * Pahighar by Kamalkant Tripathi
  15. एक गधे की वापसी* Ek Gadhe ki Wapsi by Krishna Chander
  16. गरम राख * Garam Rakh by Upendra Nath Ashq
  17. एक सड़क सत्तावन गलियाँ * Ek Sadak Sattavan Galiyan by Kamleshwar
  18. जुलूस* Juloos by Phaneeswar Nath Renu
  19. ना जुनूँ रहा ना परी रही * Na Junoon Raha Na Pari Rahi by Zahida Hina
  20. प्रोफेसर ता ता * Professor Ta Ta by Manohar Shyam Joshi
  21. किशनुली * Kishnuli by Shivani
  22. तीसरा आदमी * Teesra Aadmi by Kamleshwar
  23. अमरबेल * Amarbel by Vrindavan Lal Verma
  24. शेष संवाद * Shesh Samvad by Sumati Aiyar
  25. राहु केतु * Rahu Ketu by Shravan Kumar Goswami
  26. A Passage to India ** by E. M. Forester
  27. Anna Karenina** by Leo Tolestoy
  28. The Romantics ** by Pankaj Mishra
  29. The Other Side of Midnight** by Sidney Sheldon
  30. Spouse the Truth About Marriage ** by Shobha De
  31. Guide** by R.K. Narayan
  32. Emma* by Jane Austen
  33. First Lady Chatterley * by D.H. Lawrence
  34. The Heart of India * by Mark Tully
  35. Difficult Daughters * by Manju Kapoor
  36. Inside Haveli* by Rama Mehta 
  37. Distant Drum* by Manohar Malgonkar
  38. A Train to Pakistan * by Khushwant Singh
  39. Love Story* bi Eric Seigal
  40. Once is Not Enough* by Jacqueline Susanne
  41. My Story * by Kamla Das
  42. The Man Who was Magic* by P Galico
  43. Confession of an Indian Woman Eater* by Shasthi Brata
  44. Interpreter of Maladies * by Jhumpa Lahiri

किताबें जो मुझे रास नहीं आईं 

  1. जब प्रकाश ही ना हो 1/2* Jab Prakash Hi Na Ho by Ashapurna Devi
  2. कड़ियाँ  1/2* Kadiyan by Bhishma Sahani
  3.  अनित्य   1/2*Anitya by Mridula Garg
  4. आजीवन कारावास 1/2*   Aajeewan Karawas
  5. काग़ज़ की नाव,  1/2* Kagaz ki Naav by Krishna Chander
  6. कितने चौराहे, 1/2* Kitne Chourahe by Phaneeswar Nath Renu
  7. गूँगे सुर बाँसुरी के, 1/2* Goonge Sur Bansuri Ke by Pannalal Patel
  8. लज्जा, 1/2*  Lajja by Tasleema Nasreen
  9. आदमखोर, 1/2* Adamkhor by Shravan Kumar Goswami
  10. भूत का भविष्य o  Bhoot ka Bhavishya by Ilachandra Joshi
  11. सोने का मृग  o Sone Ka Mrig by Bhikhu
  12. नरमेध o  Narmedh by Achaya Chatursen
  13. कुरु कुरु स्वाहा o Kuru Kuru Swaha by Manohar Shyam Joshi
  14. वो अपना चेहरा o Woh Apna Chehra by Govind Miishra
  15. रेत की इक मुठ्ठी o  Ret ki Ek Muththi by Gurudayal Singh
  16. फ़ागुन के दिन चार o Phagun ke Din Chaar by pandey Bechan Sharma Ugra
  17. एक करोड़ की बोतल o , Ek Crore Ki Botal by Krishna Chander
  18. प्रोफेसर o Professor by Rangey Raghav
  19. नया इंसान o Naya Insan by Himanshu Srivastava
  20. धरती मेरा घर o Dharti Mera Ghar by Rangey Raghav
  21.  Disgrace 1/2* by J M Coetzee
  22. India's Carrebian Adventure 1/2* by Kishore Bhimani
  23. I Shall Not Hear the Nightangle 1/2* by Khushwant Singh

आप इस जाल पृष्ठ पर मुख पृष्ठ (होम पेज) के सब हेडर 'बातें किताबों की' को भी क्लिक कर पहुँच सकते हैं।

Wednesday, June 26, 2013

जलते हैं जिस के लिए, तेरी आँखों के दीये..

कुछ गीत ज़िंदगी में कभी भी सुने जाएँ, कितनी बार भी सुने जाएँ वही तासीर छोड़ते हैं। कुछ दिनों से ऐसा ही एक सदाबहार नग्मा होठों पर जमा हुआ है। 1959 में आई फिल्म सुजाता के इस गीत को गाया था तलत महमूद ने। 

हिंदी फिल्म जगत में तलत महमूद एक ऐसे गायक थे जो फिल्म संगीत में छाने के पहले ही ग़ज़लों की दुनिया में अपना एक अलग नाम बना चुके थे। मात्र सोलह साल की उम्र में आकाशवाणी लखनऊ से दाग़, मीर, ज़िगर मुरादाबादी जैसे नामचीन शायरों की ग़ज़लों को गाकर तलत ने श्रोताओं का दिल जीत लिया था। सन 1944 में उनका गैर फिल्मी गीत तसवीर तेरी दिल मेरा बहला ना सकेगी इतना लोकप्रिय हुआ कि उन्हें बंगाल की फिल्मों में काम करने के लिए कोलकाता में बुलाया गया। पर मुंबई फिल्म जगत में उनका पदार्पण 1949 में फिल्म आरजू के लिए गाए गीत ऐ दिल मुझे ऐसी जगह ले चल.... से हुआ। पचास और साठ के दशक में तलत ने ऐसे बेशुमार नग्मे दिये जिन्हें संगीतप्रेमी शायद कभी ना भूल पाएँ।
 
तलत एक आकर्षक नौजवान थे। इसी वज़ह से वो गायिकी के साथ अभिनय में भी कूद पड़े। तलत महमूद को अगर फिल्मों में पार्श्व गायन के साथ साथ हीरो बनने का चस्का नहीं लगा होता तो शायद पचास और साठ के दशक में गाए उनके गीतों की सूची और लंबी होती। वैसे तलत महमूद द्वारा की गई गलती बाद में तलत अजीज़ और सोनू निगम ने भी दोहराई और उसका ख़ामियाजा भुगता। साठ के दशक के बाद फिल्म संगीत में आया बदलाव ग़ज़लों के इस बादशाह को नागवार गुजरा और तलत ने फिल्मों में गाना लगभग छोड़ ही दिया।

यूँ तो उनके सदाबहार गीतों की फेरहिस्त में में तुमसे आया ना गया..., शाम - ए - ग़म की कसम..., तसवीर बनाता हूँ..., जाएँ तो जाएँ कहाँ...., दिल ए नादाँ तुझे हुआ क्या है... आदि का अक्सर जिक्र आता है पर अगर अपनी पसंद की बात करूँ तो मुझे मेरी याद में तुम ना आँसू बहाना..., इतना ना मुझसे तू प्यार बढ़ा.., फिर वही शाम वही ग़म वही तनहाई है...को  गुनगुनाना बेहद पसंद है। पर इनसे भी अच्छा मुझे उनका वो गीत लगता है जिसकी बात मैं आज करने जा रहा हूँ।

फिल्म सुजाता का ये गीत अपने लाजवाब बोलों की वज़ह से दिल से कभी दूर नहीं होता। क्या मुखड़ा और अंतरा लिखा था मजरूह सुल्तानपुरी साहब ने। एक ऐसे गीत की कल्पना जिसकी भावनाओं की उष्मा से प्रियतमा की आँखे जल उठें। भई वाह ! एक ऐसा नग्मा जो दो दिलों की बेचैनी को इतने बेहतरीन अंदाज़ में परिभाषित करता है  
दर्द बन के जो मेरे दिल में रहा ढल ना सका..
जादू बन के तेरी आँखों में रुका चल ना सका 
.....जिसे महसूस कर सुनने वालों की आँखें नम हो जाएँ। सचिन देव बर्मन की बाँसुरी और तलत की थरथराती आवाज़ के साथ मज़रूह के शब्द जब कानों में पड़ते हैं तो मन इस गीत में बहुत देर यूँ ही डूबा रह जाता है।

फिल्म सुजाता में सुनील दत्त और नूतन पर ये गीत फिल्माया था। नूतन के चेहरे की सजीव भाव भंगिमाओं इस गीत की खूबसूरती को बयाँ कर देती हैं..



जलते हैं जिस के लिए, तेरी आँखों के दीये
ढूँढ लाया हूँ वही, गीत मैं तेरे लिए

दर्द बन के जो मेरे दिल में रहा ढल ना सका
जादू बन के तेरी आँखों में रुका चल ना सका
आज लाया हूँ वही गीत मैं तेरे लिए

दिल में रख लेना इसे हाथों से ये छूटे ना कही
गीत नाजुक हैं मेरा शीशे से भी टूटे ना कही
गुनागुनाऊँगा यही गीत मैं तेरे लिए

जब तलक ना ये तेरे रस के भरे होठों से मिले
यूँ ही आवारा फिरेगा ये तेरी जुल्फों के तले
गाये जाऊँगा यही गीत मैं तेरे लिए..


वैसे तलत महमूद के गाए गीतों में अगर एक गीत का चुनाव करना हो तो आपकी वो पसंद क्या होगी?

Tuesday, June 18, 2013

खड़ीबोली के सरदार : अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध' की कविताओं से मेरा पहला परिचय बोर्ड की हिंदी पाठ्य पुस्तकों के माध्यम से हुआ था। छायावादी कवियों की तुलना में हरिऔध मुझे ज्यादा भाते थे। अपने सहज शब्द चयन के बावज़ूद उनकी कविताएँ मानव जीवन के गूढ़ सत्यों को यूँ बाहर निकाल लाती थीं कि मन अचंभित हो जाता था। उनके व्यक्तित्व की एक बात और थी जो उन्हें अन्य कवियों से अलग करती थी और वो थी उनकी छवि । यूँ तो उनके नाम के आगे 'उपाध्याय' लगा हुआ था पर उनके चित्रों में उन्हें पगड़ी लगाए देख मैं असमंजस में पड़ जाता था कि वे सरदार थे या ब्राह्मण ? स्कूल के दिनों में अपने शिक्षकों से ना ये मैं पूछ पाया और ना ही उन्होंने इस बारे में कुछ बताया। बाद में द्विवेदी युग के कवियों के बारे में पढ़ते हुए मुझे पता चला कि हरिऔध वैसे तो ब्राह्मण खानदान से थे पर उनके पुरखों ने सिक्ख धर्म स्वीकार कर लिया था।


सिपाही विद्रोह के ठीक आठ साल बाद जन्मे हरिऔध आजमगढ़ जिले के निजामाबाद से ताल्लुक रखते थे। मिडिल की परीक्षा पास करने के बाद सरकार में कानूनगो के पद पर रहे। सेवा मुक्त होने के बाद 1923 में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में गए और वहाँ दो दशकों तक हिंदी पढ़ाते रहे। हरिऔध ने कविता ब्रजभाषा के कवि बाबा सुमेर सिंह की छत्रछाया में शुरु की थी। ब्रजभाषा से शुरु हुई उनकी काव्य साधना उन्हें कुछ वर्षों में खड़ी बोली के शुरुआती कवियों की अग्रिम पंक्ति में खड़ा कर देगी ये किसे पता था। हरिऔध ने अपने जीवन काल में पैंतालीस किताबें लिखी जिनमें उनका महाकाव्य 'प्रिय प्रवास' और खंड काव्य 'वैदही वनवास' सबसे प्रसिद्ध है।

पर आज मैं उनके भारी भरकम ग्रंथों की चर्चा करने नहीं आया बल्कि उनकी उन दो कविताओं को आपके सम्मुख लाना चाहता हूँ जिन्हें बार बार बोल कर पढ़ने के आनंद से अपने आप को दो चार करता आया हूँ। 

जीवन में बदलाव हममें से कितनों को अच्छा लगता है? अपना शहर, मोहल्ला, घर, स्कूल, कॉलेज और यहाँ तक बँधी बंधाई नौकरी को छोड़ने का विचार ही हमारे मन में तनाव ले आ देता है। जीवन की हर अनिश्चितता हमारे मन में संदेह के बीज बोती चली जाती है। पर उन से गुजर कर ही हमें पता चलता है कि हम ने अपनी ज़िदगी में क्या नया सीखा और पाया। तो चलिए मन में बैठी जड़ता को दूर भगाते हैं हरिऔध की इस आशावादी रचना के साथ..


ज्यों निकल कर बादलों की गोद से
थी अभी एक बूँद कुछ आगे बढ़ी
सोचने फिर-फिर यही जी में लगी,
आह ! क्यों घर छोड़कर मैं यों कढ़ी ?

देव मेरे भाग्य में क्या है बदा,
मैं बचूँगी या मिलूँगी धूल में ?
या जलूँगी फिर अंगारे पर किसी,
चू पडूँगी या कमल के फूल में ?

बह गयी उस काल एक ऐसी हवा
वह समुन्दर ओर आई अनमनी
एक सुन्दर सीप का मुँह था खुला
वह उसी में जा पड़ी मोती बनी ।

लोग यों ही हैं झिझकते, सोचते
जबकि उनको छोड़ना पड़ता है घर
किन्तु घर का छोड़ना अक्सर उन्हें
बूँद लौं कुछ और ही देता है कर ।



बूँद की कहानी तो आपने सुन ली और ये समझ भी लिया कि जीवन में एक जगह बँध कर हम अपने भविष्य के कई स्वर्णिम द्वारों को खोलने से वंचित रह जाते हैं। पर चलते चलते हरिऔध की एक और छोटी पर बेहद असरदार रचना सुनते जाइए जिसमें वो अहंकार में डूबे व्यक्तियों को एक तिनके के माध्यम से वास्तविकता का ज्ञान कराते हैं...

मैं घमंडों में भरा ऐंठा हुआ
एक दिन जब था मुँडेरे पर खड़ा
आ अचानक दूर से उड़ता हुआ
एक तिनका आँख में मेरी पड़ा

मैं झिझक उठा, हुआ बेचैन सा
लाल होकर आँख भी दुखने लगी
मूँठ देने लोग कपड़े की लगे
ऐंठ बेचारी दबे पाँवों भगी

जब किसी ढब से निकल तिनका गया
तब 'समझ' ने यों मुझे ताने दिये
ऐंठता तू किसलिए इतना रहा
एक तिनका है बहुत तेरे लिए


 वैसे आप हरिऔध की कविताएँ कितनी पसंद करते हैं?

Wednesday, June 05, 2013

उर्दू की आख़िरी किताब : इंशा जी की नज़रों से देखिए भारत का इतिहास और सुनिए एक मज़ेदार कहानी !

पिछली पोस्ट में मैंने आपसे इब्ने इंशा के व्यंग्य संग्रह 'उर्दू की आख़िरी किताब' के कुछ पहलुओं पर चर्चा की थी। आज इस सिलसिले को ज़ारी रखते हुए  बात करेंगे इतिहास, गणित, विज्ञान, व्याकरण और नीति शिक्षा से जुड़ी इब्ने इंशा की कुछ दिलचस्प व्यंग्यात्मक टिप्पणियों पर। इंशा जी ने 154 पृष्ठों की किताब के करीब एक तिहाई हिस्से में भारत के इतिहास और उसके अहम किरदारों और उनसे जुड़ी घटनाओं को एक अलग दृष्टिकोण देने की कोशिश की है। जरूरी नहीं कि पाठक उनके व्यंग्य से हमेशा सहमत हो पर उनका अंदाजे बयाँ कुछ ऐसा है जो आपको इतिहास के उस चरित्र या घटना पर दोबारा सोचने पर मज़बूर करता है।


अब शहंशाह अकबर के क़सीदे तो पढ़ पढ़ कर ही आपने हाई स्कूल की परीक्षा पास की होगी। इसी सम्राट अकबर का परिचय इंशा जी कुछ यूँ देते हैं।

आपने बीरबल के मलफ़ूतात (लतीफ़ों) में इस बादशाह का नाम सुना होगा। राजपूत मुसव्वरी (चित्रकला) के शाहकारों में इसकी तसवीर देखी होगी। इन तहरीरों और तसवीरों से ये गुमान होता है कि ये बादशाह सारा वक़्त दाढ़ी घुटवाए, मूँछें तरशवाए उकड़ूँ बैठा फूल सूँघता रहता था, या लतीफ़े सुनता रहता था।.......ये बात नहीं, और काम भी करता था।

अकबर और उनके नवरत्नों के बारे में तो हम सब जानते हैं। इंशा नवरत्नों और अकबर के संबंधों को आज के राजनीतिज्ञों और अफ़सरों के कामकाज़ से जोड़ते हुए एक बेहद उम्दा बात कह जाते हैं

अकबर अनपढ़ था । बाज़ लोगों को गुमान है कि अनपढ़ होने की वज़ह से इतनी हुकूमत कर गया। उसके दरबार में पढ़े लिखे नौकर थे। नवरत्न कहलाते थे। यह रिवायत उस ज़माने से आज तक चली आती है कि अनपढ़ लोग पढ़े लिखों को  नौकर रखते हैं और पढ़े लिखे इस पर फख्र करते हैं।

अब मुगलिया खानदान का जिक्र हो और औरंगजेब का उल्लेख ना हो ये कैसे हो सकता है! किसी की तारीफ़ करते हुए कैसे चुपके से चपत जड़ी जाती है इसका हुनर कोई इंशा जी से सीखे...

शाह औरंगजेब आलमगीर बहुत ही लायक और मुतदय्यन (धार्मिक) बादशाह था। दीन और दुनिया दोनों पर नज़र रखता था। उसने कभी कोई नमाज कज़ा नहीं की और किसी भाई को ज़िंदा नहीं छोड़ा। हालांकि ये जरूरी था। उसके सब भाई नालायक थे, जैसे कि हर बादशाह के होते हैं। नालायक ना हों तो खुद पहल करके बादशाह को कत्ल ना कर दें।

मुसलमान शासकों का जिक्र करते समय उनसे जुड़ी घटनाओं को आज के परिदृश्य से जोड़ने का काम, एक कुशल व्यंग्यकार के नाते इंशा सहजता से करते हैं। देखिए इन पंक्तियों में किस तरह महमूद गजनवी का जिक्र करते हुए आज के प्रकाशकों को उन्होंने आड़े हाथों लिया है

महमूद पर इलजाम लगाया जाता है कि उसने फिरदौसी से शाहनामा लिखवाया और उसकी साठ हजार अशर्फियाँ नहीं दी बल्कि साठ हजार रुपये देकर टालना चाहा। भला एक किताब की साठ हजार अशर्फियाँ कैसे दी जा सकती हैं? बजट भी तो देखना पड़ता है। महमूद की हम इस बात की तारीफ़ करेंगे कि फिर भी साठ हजार की रकम फिरदौसी को भिजवाई। ख्वाह उसके मरने के बाद ही भिजवाई। आजकल के प्रकाशक तो मरने के बाद भी लेखक को कुछ नहीं देते। साठ हजार तो बड़ी चीज हैं उनसे साठ  रुपये ही वसूल हो जाएँ तो लेखक अपने आप को खुशकिस्मत समझते हैं।
व्याकरण की बातें करते हुए इंशा जी की लेखनी आज के उन तमाम कवियों और शायरों को अपनी चपेट में ले लेती है जो छन्दशास्त्र के ज्ञान के बिना ही छंद पर छंद रचते जाते हैं
लफ़्ज़ों के उलट फेर को ग्रामर कहते हैं। शायरी की ग्रामर को 'अरूज़' (छन्दशास्त्र) कहते हैं। पुराने लोग अरूज़ के बगैर शायरी नहीं किया करते थे। आजकल किसी शायर के सामने अरूज़ का नाम लीजिए तो पूछता है, "वह क्या चीज होती है"? हमने एक शायर के सामने इज़ाफ़ात (कारकों) का नाम लिया, बोले खुराफ़ात? खुराफ़ात मुझे पसंद नहीं। बस मेरी ग़ज़ल सुनिए और जाइए।

इंशा जी ने गणित के मोलिक सिद्धान्तों यानि जोड़, घटाव, गुणा और भाग के माध्यम से समाज की थोथी नैतिकता और भ्रष्ट अलगाववादी राजनिति पर निशाना साधा है। वहीं विज्ञान के पाठ में गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांतों की विवेचना इंशा कुछ यूँ करते हैं..

यह न्यूटन ने दरयाफ़्त की थी। ग़ालेबन उससे पहले नहीं होती थी। न्यूटन उससे दरख़्तों से सेब गिराया करता था। आजकल सीढ़ी पर चढ़कर तोड़ लेते हैं। आपने देखा होगा कि कोई शख़्स हुकूमत की कुर्सी पर बैठ जाए तो उसके लिए उठना मुश्किल हो जाता है। लोग जबरदस्ती उठाते हैं। यह भी कशिशे सिक़्ल के बाइस  (गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत का उदाहरण) है

किताब के हर पाठ के बाद इंशा जी पाठ्यपुस्तक शैली में विद्यार्थियों से सवाल पूछते हैं जो पाठ से कम दिलचस्प नहीं हैं।  भाषिक व्यंग्य सौंदर्य बाधित ना हो इसलिए अनुवादक अब्दुल बिस्मिल्लाह ने इंशा की किताब का लिप्यांतरण भर किया है। एक तरह से ये सही है पर सारे कठिन उर्दू शब्दों के मायने नहीं दिये जाने की वज़ह से उर्दू में उतना दखल ना रखने वाले पाठकों को बार बार शब्दकोश का सहारा लेना पड़ सकता है।

किताब के आख़िरी हिस्से में इंशा जी ने नीति शिक्षा के दौरान बचपन में पढ़ाई गई कहानियों मसलन चिड़े और चिड़िया, कछुआ और ख़रगोश, एकता ही बल है को एक अलग ही अंदाज़ में पेश किया है जिसे पढ़कर आप आनंदित हुए बिना नहीं रहेंगे। यकीन नहीं आ रहा तो सुनिए इंशा जी की एक कहानी मेरी जुबानी..
एक शाम मेरे नाम पर इब्ने इंशा
 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie