Sunday, September 21, 2008

जाने है वो कहाँ, जिसको ढूँढती है नज़र : सुनिए श्रेया घोषाल की आवाज मे ये मधुर गीत

हफ्ते का आखिरी दिन यानि रविवार। एक ऍसा दिन जब हमारे यहाँ सुबह की शुरुआत दस बजे से पहले नहीं होती। यानि घर के सारे लोग पूरे हफ्ते की थकान इसी दिन निकालते हैं। पर ब्लागिंग जो न करवाए सो अब सुबह के अनलिमिटेड घंटों का प्रयोग करने के लिए यही दिन मिलता है। और जब आज उठ ही गए हैं तो सोचा कि क्यूँ ना आप सब को एक हल्का फुल्का प्यारा सा गीत ही सुनवा दिया जाए।

ये गीत है फिल्म 'हनीमून ट्रैवल्स प्राइवेट लिमिटेड' का जिसके एक गीत हल्के हल्के रंग छलके ने पिछले साल की मेरी वार्षिक संगीतमाला में अपनी जगह बनाई थी। पर इसी फिल्म के एक और नग्मे को मैं समय रहते सुन नहीं पाया था। बाद में जब भी इसे सुना मन को हल्का फुल्का महसूस किया। और इसका मुख्य श्रेय मैं संगीतकार विशाल शेखर और गायिका श्रेया घोषाल को देना चाहता हूँ। एक खूबसूरत धुन और उस पर श्रेया की इतनी सुरीली आवाज सामान्य शब्दों में भी मोहब्बत से लबरेज एक खुशनुमा अहसास पैदा कर देती है।

तो आइए सुनें श्रेया और शान के गाए इस गीत को जिसकी शब्द रचना की है जावेद अख्तर साहब ने..

जाने है वो कहाँ, जिसको ढूँढती है नज़र
मैं ये दिल मैं ये जाँ, दे दूँ वो मिले जो अगर

हर पल वो चेहरा, रहता है इन आँखों में
जिसे मैंने नहीं देखा, पर देखा है ख्वाबों में
पाउँगी कहाँ मैं उसको, ये तो ना जानूँ
पर कहता है दिल मेरा
संग मेरे वो बोलेगा
चुपके से वो बोलेगा
देखो मुझे....


जाने है वो कहाँ........ अगर

खोया खोया सा कबसे फिरता था मैं राहों में
तुम्हें कहीं मैं छुपाऊँ तो भर लूँ इन बाहों में
मिलोगी मुझे तुम इक दिन, मुझको यकीं था
हम आज ही मिल गए
सच कर दो मेरा सपना
तुम ही तो ज़रा अपना
कह दो मुझे...


जाने है वो कहाँ........ अगर
Related Posts with Thumbnails

13 comments:

Udan Tashtari on September 21, 2008 said...

आनन्द आ गया, मनीष भाई...वाह!! क्या प्रस्तुति है!!

Ghost Buster on September 21, 2008 said...

श्रेया घोषाल आज बौलीवुड का सबसे मधुर महिला स्वर हैं. बढ़िया पोस्ट के लिए आभार.

शोभा on September 21, 2008 said...

मनीष जी,
श्रेया जी मेरी प्रिय गायिका हाँ. उनकी आवाज मैं और भी गीत यहाँ सुनवाएं. आभार.

परमजीत बाली on September 21, 2008 said...

बहुत बढिया!! आभार।

रंजना [रंजू भाटिया] on September 21, 2008 said...

बहुत सुंदर है यह ..इसको सुनवाने का शुक्रिया

डॉ. अजीत कुमार on September 21, 2008 said...

पढ़ कर ही आनंद उठा रहा हूँ. मनीष भाई मौका मिला तो प्लेयर पर जरूर सुनूँगा.

अभिषेक ओझा on September 21, 2008 said...

श्रेया घोषाल ने हाल के दिनों में कमाल के गाने गाये हैं. अच्छी प्रस्तुति.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` on September 21, 2008 said...

श्रेया की आवाज़ हमेँ भी बहुत पसँद है शुक्रिया इस गीत का !

SA RE GA on September 22, 2008 said...

WAH! REALLY YOU ARE GIVING AS REFINED MATERIAL FOR OUR SOUL ENRICHMENT. THANKS FROM THE CORE OF HEART.
RAMESH SACHDEVA
HARYANA PUBLIC SCHOOL, MANDI DABWALI (HARYANA)

अफ़लातून on September 22, 2008 said...

मधुर , मनोहर ,अतीव सुन्दर । पुरुष स्वर भी बताइए ,किसका है?

डॉ .अनुराग on September 22, 2008 said...

shukriya manish.....is geet ko sunvaane ke liye..

pallavi trivedi on September 22, 2008 said...

ये गीत उतना चला नहीं लेकिन बहुत सुन्दर गीत है....

Manish Kumar on September 22, 2008 said...

@Afloo Bhai Post mein likha hai shayad highlight nahin kiya isliye aapse miss ho gaya hoga. Shaan ne gaya hai ise shreya ke sath

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie