Friday, January 02, 2009

वार्षिक संगीतमाला 2008 :पायदान संख्या 24 - जाने क्यूँ दिल जानता है...

तो चलिए आज आपको ले चलते हैं वार्षिक संगीतमाला की एक चौबीसवीं सीढ़ी पर जहाँ गाना वो जिसे लिखा अन्विता दत्त गुप्तन ने, तर्ज बनाई विशाल शेखर की जोड़ी ने और जिसे आवाज़ दी इसी संगीतकार जोड़ी के सदस्य विशाल ददलानी ने। ये भी नहीं है कि इस गीत के बोल कुछ खास गहराई लिए हों। पर जब आप इस गीत को सुनते हैं तो गीत में कही गई बात सीधे दिल पर असर करती है। विशाल शेखर ने अंग्रेजी जुमलों को हिंदी के साथ इस तरह संगीतबद्ध किया है कि दोनों भाषाएँ एक दूसरे में घुलती मिलती सी दिखती हैं।



लौटते हैं गीत की भावनाओं की ओर। हम सभी की जिंदगी में कोई तो कोई तो होता ही है ना जिसके आस पास होने से हम अपने आप को निश्चिंत सा महसूस करते हैं। उसकी एक नज़र मन को तसल्ली देती है, उसकी एक मुस्कुराहट दिन को खुशगवार बना देती है। अभी हाल ही में साथी चिट्ठाकार कंचन चौहान ने लिखा था

जिंदगी
कुछ नही......! बस ये अहसास .....!
कि तुम हो मेरे गिर्द....!"


अन्विता दत्त गुप्तान भी यही बात अपने इस हिंगलिश गीत से कहने की कोशिश की है और सच मे जब भी इस गीत को सुनता हूँ तो बरबस मुखड़ा गुनगुनाने से अपने आप को रोक नहीं पाता जाने क्यूँ दिल जानता है तू है तो I'll be allright


तू है तो टेढ़ी मेढ़ी राहें
उलटी पुलटी बातें, सीधी लगती हैं
तू है तो झूठे मूठे वादे
दुश्मन के इरादे सच्चे लगते हैं
जो दिल में तारे वारे दे जगा, वो तू ही है, तू ही है
जो रोते रोते दे हँसा, तू ही है वही
जाने क्यूँ दिल जानता है तू है तो I'll be allright
I'll be allright I'll be allright

सारी दुनिया इक तरफ है, इक तरफ हैं हम
हर खुशी तो दूर भागे, मिल रहे हैं गम
But When U Smile For Me, World Seems All Right

ये मेरी जिंदगी, पल में ही खिल जाए जाने क्यूँ
जाने क्यूँ दिल जानता है तू है तो I'll be allright

छोटे छोटे कुछ पलों का ये दोस्ताना ये
जाने क्यूँ अब लग रहा है ये जाना माना ये
Cos When Smile For Me, World Seems All Right
ये सारे पल यहीं, यूँही थम से जाएँ जाने क्यूँ.
जाने क्यूँ दिल जानता है तू है तो I'll be allright

तो विशाल ददलानी की आवाज़ में सुनिए ये प्यारा सा हल्का फुलका नग्मा




Related Posts with Thumbnails

8 comments:

Phoenix Rises on January 05, 2009 said...

I like this song a lot!
And you are right, this song is sooo apt for those people who light up our lives by just being around us... :)
It's a v energetic song!

Phoenix Rises on January 05, 2009 said...

BTW, 'Kuch Kum' is my favorite song from 'Dostana'.

अभिषेक ओझा on January 05, 2009 said...

ओह तो इधर शमां बंधा हुआ है... चलिए हम भी सैर-सपाटे से वापस आ ही गए. अब साथ चल रहे हैं.

कंचन सिंह चौहान on January 06, 2009 said...

:) :) :) धन्यवाद

Manish Kumar on January 06, 2009 said...

Urvi...nice to hear that. That song is also in my top 10.

AbhishekThx abhishek for joining in. Waise kahan se ghoom aay bhai :)

Kanchan Jab countdown taiyar kar raha tha tabhi is song ko sunkar aapki post yaad aa gayi.

广西休闲游戏中心 on January 07, 2009 said...

Very rich and interesting articles, good BLOG!

PrincessJasmine on January 28, 2009 said...

pehle samajh mein nahin aa raha tha ki aap kaun se gaane ke baare mein baat kar rahe ho...sun ne ke baat yaad aaya...nice song! Not one of my favs...but good to see it on ur list.

www.jsfishnet.com on February 17, 2009 said...
This comment has been removed by a blog administrator.
 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie