Saturday, January 16, 2016

वार्षिक संगीतमाला 2015 पायदान # 18 : दिल की मान के, सीना तान के इश्क़ करेंगे, इश्क़ करेंगे Ishq karenge

कुछ संगीतकार, गीतकार व गायक ऐसे होते हैं जिनकी हर नई प्रस्तुति का हम सभी को बड़ी बेसब्री से इंतज़ार होता है। गुलज़ार, स्वानंद किरकिरे, प्रसून जोशी जिस फिल्म में हों उनसे ये उम्मीद हमेशा रहती है कि उनके शब्द जाल से कोई काव्यात्मक सा नग्मा निकलेगा । अमित त्रिवेदी, सचिन जिगर, प्रीतम के कुछ नए से संगीत संयोजन व रहमान, विशाल शेखर और एम एम करीम सरीखे संगीतकारों से कुछ मधुर गीतों की अपेक्षा तो रहती ही है। अगर गायिकी की बात करूँ तो सोनू निगम, राहत फतेह अली खाँ, अरिजित सिंह व श्रेया घोषाल भी ऐसी आशा जगाते हैं। पर इन गायकों के साथ एक और नाम है एक शख़्स का जिनकी आवाज़ का जादू ऐसा है कि उनके गीतों का इंतज़ार मुझे हमेशा होता है। ये आवाज़ है सोना महापात्रा की। 

सोना हिंदी फिल्मों में ज्यादातर अपने पति संगीतकार राम संपत की फिल्मों में ही गाती दिखाई पड़ती हैं। सत्यमेव जयते में उनके गाए गीतों को तो खासी लोकप्रियता मिली ही, पिछली संगीतमालाओं में उनके गाए गीत मन तेरा जो रोग है, अम्बरसरियानैना नूँ पता भी काफी सराहे गए। पिछले साल MTV के  कोक स्टूडियो में भी उन्होंने धमाल मचाया। पर इतना सब होते हुए भी मुझे हमेशा लगता है उनमें जितना हुनर है उस हिसाब से उनके और गाने हम संगीतप्रेमियों को सुनने को मिलने चाहिए।

इस साल उनका गाया जो गीत इस संगीतमाला में दाखिल हुआ है वो एक समूह गीत है। ये गीत है फिल्म बंगिस्तान का । अब जिस फिल्म का नाम इतना अटपटा हो उसके गीतों में हास्य की झलक तो मिलेगी ना। बंगिस्तान फिल्म का ये गीत लोगों को इश्क़ करने को बढ़ावा देता है और वो भी एक अलग और अनूठे अंदाज़ में।


इस गीत को लिखा है नवोदित गीतकार और मेरठ के बाशिंदे पुनीत कृष्ण ने। पुनीत को बचपन से ही कविता लिखने का शौक़ था। पहली नौकरी मुंबई में मिली तो अंदर ही अंदर फिल्म इंडस्ट्री में काम का सपना और तेजी से पैर फैलाने लगा। पहली बार तबादला होने पर पुनीत ने नौकरी ही छोड़ दी और दूसरों को नौकरी लगाने के लिए एक फर्म खोल ली। साथ ही वे फिल्म उद्योग के लोगों से भी मेल जोल बढ़ाते रहे। अपने दोस्तों के साथ मिलकर उन्होंने बंगिस्तान की कहानी लिखी जो निर्माता फरहान अख़्तर को पसंद आ गई। पटकथा के बहाने उन्हें गीत लिखने का भी मौका मिला और अब उसका नतीज़ा अब आपके सामने है। गीत में प्रयुक्त उनके दो भाव गीत को सुनने के बाद भी  याद रह जाते हैं। एक तो  तब जब वो रूमानी अंदाज़ में वो इश्क की चाशनी से दिल के कुओं से  भरने की बात करते हैं और  दूसरी ओर अपनी उन का हाथ पकड़ने से लाइफ के बैकग्राउंड स्कोर मे, सेंटी वायलिन बजने की बात होठों पर एक मुस्कुराहट छोड़ जाती है।

इस गीत में सोना मोहापात्रा का साथ दिया है अभिषेक नैलवाल और शादाब फरीदी की तिकड़ी ने। गीत को जिस जोश खरोश की जरूरत थी वो अपनी उर्जा से इस तिकड़ी ने उसमें भर दी है। राम संपत ने गीत का अंदाज़ कव्वालियों वाला रखा है। मुखड़े और इंटल्यूड्स में राम हारमोनियम का खूबसूरत प्रयोग करते हैं खासकर तीसरे मिनट के बाद आने वाले टुकड़े में। तो आप भी थोड़ा इश्क़ कर लीजिए ना इस गीत से..




चढ़ के ऊँची दीवारों पे, हम ऍलान करेंगे
दिल की सुनने वालो से ही, हम पहचान करेंगे
और नहीं कुछ पढना हमको, हम तो हीर पढेंगे
इश्क चाशनी से हम, अपने दिल के कुएँ भरेंगे
अरे और नहीं कुछ पढना हमको, हम तो हीर पढेंगे
इश्क चाशनी से हम, अपने दिल के कुएँ भरेंगे
जब भी उसका हम हौले से, हाथ ज़रा पकड़ेंगे
लाइफ के बैकग्राउंड स्कोर मे, सेंटी वायलिन बजा करेंगे
दिल की मान के, सीना तान के इश्क़ करेंगे, इश्क़ करेंगे
अरे दिल की मान के, सीना तान के इश्क़ करेंगे, इश्क़ करेंगे
हो इश्क़ करेंगे, इश्क़ करेंगे इश्क़ करेंगे

ख्वाब आँखों से यूँ छलके, हो साथी बन के दो पल के
हाँ तू भी देख ले यारा, हाँ मेरे साथ मे चलके
हो ऐसा आएगा एक दिन, हर कोई गायेगा एक दिन
जो तुझसे रूठ के बैठा, वो दर पे आएगा एक दिन
जिन गलियों से वो गुजरेगा, दिल अपना रख देंगे
रेड कार्पेट पे फ्लैश बल्बस ले, उसकी राह तकेंगे
दिल की मान के सीना तान के इश्क़ करेंगे....

तू राँझा हैं, तू मजनूँ हैं, जिधर देखू हाँ बस तू हैं
तू मिले तो झूम के नाचूँ, ख़ुशी का आलम हरसू हैं
ये तेरे हाथो की नरमी, ये तेरे बातो की नरमी
गले तेरे जो लग जाऊँ, तो मई और जून की गर्मी
हर जाड़ो मे हम थोड़ी सी, धूप ज़रा सेकेंगे
हैप्पी सा दि एंड होगा, सनसेट संग देखेंगे
दिल की मान के सीना तान के इश्क़ करेंगे....

ना तेरा हैं, ना मेरा हैं, ये जग तो रैन बसेरा हैं
ये काली रात जो जाए, तो फिर उजला सवेरा हैं
ये तेरे हाथ में प्यारे, कि बंधन तोड़ दे सारे
कि तू आज़ाद हो जाए, वो तेरे चाँद और तारे
सच कहते हैं हम तो, जब भी कोशिश ज़रा करेंगे
स्लो मोशन मे विद इमोशन, लाखो फूल झडेंगे
हम बन्दे हैं बंगिस्तान के, इश्क करेंगे, इश्क करेंगे
अरे दिल की मान के सीना तान के इश्क़ करेंगे....

वार्षिक संगीतमाला 2015

Related Posts with Thumbnails

8 comments:

प्रवीण पाण्डेय on January 17, 2016 said...

औरों से अलग, गुरुता से कही बातें।

Puneet Krishna on January 17, 2016 said...

इतनी सरलता से इतनी प्यारी बात कहने और इतना प्यार देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया मनीष... उम्मीद करता हूँ कि आगे भी जो लिखूंगा वो आपको खुशी देगा।

Manish Kumar on January 17, 2016 said...

Puneet आलेख आपको पसंद आया जानकर प्रसन्नता हुई। आशा है भविष्य में आपको अलग अलग प्रकृति की फिल्में मिलें जिसके माध्यम से आप अपनी कूची के सभी रंगों को श्रोताओं तक पहुँचा सकें।

कंचन सिंह चौहान on January 21, 2016 said...

सुना तो था ये गीत मगर ध्यान नहीं दिया था. बीट्स अच्छी हैं, पाँव थिरकाने वाला :)

Manish Kumar on January 21, 2016 said...

बिल्कुल !

Sumit on January 23, 2016 said...

Aapka isqe jaahir hai yahan!! Nice to know about Puneet who seems a good talent. Your write up about the song is better than the song.

Sumit on January 23, 2016 said...

Aapka isqe jaahir hai yahan!! Nice to know about Puneet who seems a good talent. Your write up about the song is better than the song.

Manish Kumar on January 26, 2016 said...

हा हा मुझे तो गीत जैसा लगा वैसा लिखा..सोना की आवाज़ और मस्ती का माहौलो रचती गीत की रिदम :)

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie