Tuesday, May 28, 2019

यादें रवींद्र जैन की : घुँघरू की तरह, बजता ही रहा हूँ मैं.. Ghunghroo Ki Tarah

अक्सर हम अपने मूड के हिसाब से गीतों को सुनते हैं पर कई दफ़ा ऐसा होता है कि चाहे हम किसी भी मूड में हों कोई गीत अचानक बज कर हमें अपने रंग में रंग लेता है। मेरे साथ पिछले हफ्ते ऐसा ही हुआ। कार्यालय जाने की तैयारी करते वक़्त सारेगामा कारवाँ से घुँघरू की तरह....ये गीत गूँजा और फिर दिन भर मेरे साथ ही रह गया। कॉलेज के ज़माने में किशोर दा के गीतों को हम थोक में सुनते थे। फिल्म चोर मचाए शोर का ये गीत भी उस दौर में मुझे काफी पसंद था। आजकल जब किशोर दा को सुनना पहले से काफी कम हो गया है तो अचानक इन गीतों को सुनकर वो पुराना वक़्त सामने आ जाता है।


1974 में रिलीज़ हुई इस फिल्म के संगीतकार थे रवींद्र जैन साहब। यूँ तो इस फिल्म के तीन गीत बहुत चले थे पर उनमें से एक की तकदीर इतनी अच्छी रही कि वो साल दर साल शादी विवाह के मौसम में बारहा बजता रहा। जी हाँ वही ले जाएँगे ले जाएँगे दिलवाले दुल्हनिया ले जाएँगे.. रह जाएँगे रह जाएँगे पैसे वाले देखते रह जाएँगे। जानते हैं इस कालजयी गीत को किसने लिखा था? इसे लिखने वाले थे पंजाब के प्रसिद्ध कवि इंद्रजीत सिंह तुलसी जिन्हें अपने पंजाबी, उर्दू और हिंदी में रचे काव्य के लिए पंजाब के राजकवि से लेकर पद्मश्री सम्मान तक मिला। इस फिल्म के गीत एक डाल पर तोता बोले एक डाल पर मैना  भी तुलसी जी की ही रचना थी।

रवींद्र जैन ने अपनी किताब सुनहरे पल में ले जाएँगे ले जाएँगे का जिक्र करते हुए लिखा है
"चोर मचाए शोर के एक गीत के लिए मैंने ढेर सारी  धुनें बनाई। कोई सिप्पी साहब को पसंद नहीं आती तो कोई अशोक राय जी को नहीं जँचती। तंग आकर मैंने सोचा की इस फ़िल्म से नाता तोड़ लिया जाए। सिटिंग से उठते उठते एक धुन यूँ ही हारमोनियम पर बजाई। सारे सुनने वाले एक सुर में, एक मत होकर कहने लगे - इसी धुन की तो तलाश थी। स्वरों को शब्दों का जमा पहनाया गया, तब प्रकट हुवा ' ले जाएँगे, ले जाएँगे दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे। जिस गाने के बिना आज भी कोई बारात नहीं निकलती।"
फिल्म के बाकी गीत ख़ुद संगीतकार रवींद्र जैन ने लिखे थे। मुझे नहीं लगता कि हिंदी फिल्म संगीत में रवींद्र जैन के आलावा कोई और संगीतकार हुआ हो जिसने बतौर गीतकार भी अपनी अमिट छाप छोड़ी हो। घुँघरू की तरह, बजता ही रहा हूँ मैं  सुनकर ऐसा लगता है मानो उनके जीवन में सहे गए कष्टों की प्रतिध्वनि मिल गयी हो। 


अलीगढ़ के एक पढ़े लिखे परिवार से ताल्लुक रखने वाले रवींद्र जैन बचपन से ही दृष्टिहीन थे। बड़े भाई स्कूल में प्राध्यापक थे। रवींद्र तो किताबें पढ़ नहीं पाते थे। ऐसी स्थिति में उनके भाई साहित्यकारों की रचनायें उन्हें पढ़ कर सुनाते थे। साहित्य से इस तरह पनपा उनका अनुराग गीतों के माध्यम से उनकी लेखनी में उतर आया। फिल्मी दुनिया से दूर रहकर भी उन्होंने लेखनी का दामन नहीं छोड़ा। 'दिल की नज़र से' नाम से उनका ग़ज़ल संग्रह छपा। अपनी आत्मकथा 'सुनहरे पल' के आलावा उन्होंने भक्ति लेखन में अपने झंडे गाड़े। ना केवल उन्होंने गीता का सरल हिंदी में अनुवाद किया बल्कि रवींद्र रामायण नाम से एक पुस्तक भी लिख डाली।

ये गीत राग झिंझोटी पर आधारित है। राग झिंझोटी रात्रि के दूसरे पहर में गाया जाने वाला राग है। किशोर के कई उदास करने वाले लोकप्रिय गीत कोई हमदम ना रहा, कोरा  कागज था ये मन मेरा, तेरी दुनिया से हो कर मजबूर चला  राग झिंझोटी की स्वरलहरियों के ताने बाने में बुने गए हैं। 

बाँसुरी के मधुर स्वर से गीत का प्रील्यूड शुरु होता है। इंटरल्यूड्स में भी वही मधुरता कायम रहती है। जिसने जीवन में दर दर ठोकरें खाई हों, भाग्य के खिलाफ लड़ा हो वो इस सहज पर दिल से लिखे गीत से जरूर मुत्तासिर होगा। इस गीत में रवी्द्र जी ने घुँघरू जैसे रूपक का कितना प्यारा और भावनात्मक प्रयोग किया  जिसे किशोर दा की आवाज़ एक अलग मुकाम पर ले गयी। फिल्म में इस गीत के पहले दो अंतरों का इस्तेमाल हुआ है जबकि मुझे तीसरा अंतरा इस गीत का सबसे भावनात्मक हिस्सा लगता है। तो आइए सुनते हैं इस गीत को.. 

घुँघरू की तरह, बजता ही रहा हूँ मैं
कभी इस पग में, कभी उस पग मैं
बँधता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह, बजता ही रहा हूँ मैं 

कभी टूट गया, कभी तोड़ा गया
सौ बार मुझे फिर जोड़ा गया
यूँ ही लुट लुट के और मिट मिट के
बनता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह, बजता ही रहा हूँ मैं...

मैं करता रहा, औरों की कही
मेरी बात मेरे, मन ही में रही
कभी मंदिर में, कभी महफ़िल में
सजता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह, बजता ही रहा हूँ मैं... 

अपनों में रहे, या गैरों में
घुँघरू की जगह तो है पैरों में
फिर कैसा गिला, जग से जो मिला
सहता ही रहा हूँ मैं
घुँघरू की तरह, बजता ही रहा हूँ मैं


 

इस गीत को फिल्माया गया था शशि कपूर पर

Tuesday, May 14, 2019

कैसे बना अराधना का सदाबहार नग्मा 'रूप तेरा मस्ताना'? Story Behind 'Roop Tera Mastana'

इस साल सितंबर में राजेश खन्ना व शर्मिला टैगोर की कालजयी फिल्म अराधना को पचास साल हो जाएँगे। इस फिल्म ने हिंदी सिनेमा के दो महान कलाकारों की किस्मत बदल कर रख दी थी। फिल्म के नायक राजेश खन्ना इसी फिल्म की बदौलत स्टारडम की सीढियाँ चढ़ते हुए सुपरस्टार बन गए वहीं इस फिल्मों के गीतों की वज़ह से किशोर कुमार का सितारा ऐसा चमका कि वे सत्तर के दशक में सबसे लोकप्रिय गायक का मुकाम हासिल करने में सफल हुए। इन दोनों को शोहरत की बुलंदियों तक पहुँचाने में पर्दे के पीछे दो किरदार थे। फिल्म के निर्देशक शक्ति सामंत और संगीतकार सचिन देव बर्मन।

आज भी इस फिल्म के सारे गाने उतने ही प्यार से सुने जाते हैं जितने दशकों पहले सुने जाते थे। मेरे सपनों की रानी, कोरा काग़ज़ था ये मन मेरा, सफल होगी तेरी अराधना, बागों में बहार है, गुनगुना रहे हैं भँवरे, चंदा है तू मेरा सूरज है तू जैसे तमाम गीत आज भी रेडियो के विविध चैनलों में अक्सर सुनाई दे जाते हैं।


इसी फिल्म का एक और मस्ती से भरा गीत था रूप तेरा मस्ताना जिसकी बीट्स पर शायद ही कोई ऐसा हो जिसने ठुमके ना लगाए हों।  फिल्म सचिन दा की झोली में कैसे आई? ये गीत कैसे अपनी अंतिम शक्ल में आया? इन सब के पीछे एक रोचक दास्तां छिपी है। तो चलिए आज इस गीत की याद दिलाने के साथ इन किस्सों से भी आप सबको रूबरू करा दूँ

अराधना के रिलीज़ होने के दो साल पहले शक्ति सामंत की फिल्म An evening in Paris रिलीज़ हुई थी। फिल्म में शंकर जयकिशन का संगीत जबरदस्त हिट हुआ था तो ये ज़ाहिर सी बात लग रही थी कि अगली फिल्म में भी शक्ति दा शंकर जयकिशन का ही दामन थामेंगे। इसीलिए जब एक सुबह अपने सहयोगियों के साथ शक्ति दा सचिन देव बर्मन के घर पहुँचे तो दादा उन्हें देख कर चकित हुए। खागेश देव बर्मन सचिन दा पर लिखी अपनी किताब The world of his music में लिखते हैं कि

"शक्ति सामंत ने सचिन दा से कहा कि मैं इक कम बजट की फिल्म बना रहा हूँ। शंकर जयकिशन को रखना इस बजट में मेरे लिए मुश्किल है इसलिए आप के पास आया हूँ कि अगर आप...
सचिन दा बिफर उठे कि तुम मुझसे कम पैसों में काम कराना चाहते हो? बजट कम है  इसलिए मेरे पास आए हो, ऐसा सुनकर मुझे अच्छा लगेगा क्या? ये सब कहने के बजाए इतना नहीं कह सकते थे कि मुझसे संगीत निर्देशन करवाना चाहते हो?
सचिन दा पैसों के बारे में बात नहीं करते थे। पैसों का मोलभाव करना उन्हें राजसी परिवेश में पले बढ़े होने की वजह से अपनी शान के खिलाफ लगता था। पर उस दिन वो बोल उठे।
चलो ठीक है पिछली फिल्म में तुमने मुझे 75000 रुपये दिए थे। इस बार मैं 80000 रुपये लूँगा।
शक्ति सामंत ने पूरी विनम्रता से उन्हें उत्तर दिया - सर इस मद में फिल्म में एक लाख का प्रावधान है।
सचिन दा एकदम से प्रफुल्लित हो उठे। बोले एक लाख! तुम देखना इस फिल्म का संगीत ख़ुद अपनी आवाज़ बनेगा, सारे रिकार्ड तोड़ देगा।"
सचिन दा, शक्ति सामंत, राजेश खन्ना और पंचम के साथ
जैसा सचिन दा ने कहा था वैसा बाद में हुआ भी। फिल्म तो सचिन दा ने ले ली और उसके गीत बनने शुरु हुए।रूप तेरा मस्ताना गीत किस तरह अपने अस्तित्व में आया इसके पीछे दो अलग अलग मत हैं। एक तो वो जो किशोर कुमार के पुत्र अमित कुमार, संगीत से जुड़े कार्यक्रमों में बताते रहे हैं और दूसरा ब्रजेन विश्वास का कथ्य जो सचिन की टीम के तबला वादक रहे। ब्रजेन विश्वास की बात का जिक्र खागेश देव बर्मन ने भी अपनी किताब में भी किया है। खागेश जी  ने ब्रजेन विश्वास के हवाले  इस प्रसंग की चर्चा अपनी किताब में कुछ यूँ की है

एक बार जब सचिन दा मुंबई से कोलकाता आए तो अपने घर में हारमोनियम बजाते हुए बोल उठे कि जानते हो शक्ति ने मुझे अपनी फिल्म में संगीत  निर्देशन की जिम्मेदारी सौंपी है। उसमें मुझे एक सेक्सी नंबर भी करना है। 
उसी के बारे में सोच रहा था कि मुझे ख्याल आया कि एक बार मैं अपने मित्र के घर गया था। बहुत देर तक दरवाजा खटखटाने के बाद वो निकला तो उसने कहा कि क्षमा करें दादा मैं अपने बेटे की शादी कर रहा हूँ इसीलिए उसे धोती पहना रहा था । वहीं एक छोटी लड़की मिट्टी के चूल्हे से खेल रही थी। जब उसने शादी वाले बालक को देखा तो जोर से हँस पड़ी और बोली तुम इस छोटे बच्चे की शादी करोगे? लड़के के  पिता ने कहा कि हाँ अभी इसलिए कर रहा हूँ कि आगे जा के ये बिगड़ न जाए। ये सुनकर वो लड़की हँसी और गाने लगी 
कालके जाबो ससुर बाड़ी, आजके खाइ गारा गरी
(यानी कल ससुराल जाना है इसलिए मैं आज खुशी से झूम रही हूँ) 
शक्ति दा की बात सुनकर मुझे यही गाना याद आ गया। मैं इसी गीत का टेंपो कम करके किशोर को गाने को कहूँगा। रही सेक्सी बनाने की बात तो गीत के बीच किशोर को गहरी साँसों के साथ आहें भरने को बोलूँगा।

सचिन दा ने जो धुन बनाई उसका कलेवर आंचलिक था। अमित कुमार के हिसाब से वो भटियाली था। गीत की परिस्थितियों से ये धुन जम नहीं रही थी। किशोर दा और पंचम दोनों ही ये महसूस कर रहे थे। अंत में हिम्मत बाँध कर पंचम ने अपने स्टाइल में कालके जाबो ससुर बाड़ी को संगीतबद्ध किया और पिता को सुनाया। सचिन दा को भी वो धुन पसंद आई और  आनंद बक्षी के बोलों की मदद से ये गीत अपना अंतिम स्वरूप ले पाया।

अमित कुमार इस प्रसंग का जिक्र कुछ दूसरी तरह से करते हैं पर उनके कथन से ज्यादा विश्वसनीयता ब्रजेन विश्वास की बातों में लगती है। बहरहाल अमित किस तरह सचिन दा की मूलधुन का जिक्र करते हैं वो देखने लायक है।

 

गायक भूपेंद्र का कहना है कि रूप तेरा मस्ताना की धुन सचिन दा की ही थी। अमित कुमार भी यही कहते हैं। धुन भले ही सचिन दा की हो पर जिस तरह के संगीत संयोजन के लिए पंचम जाने जाते थे उसकी स्पष्ट झलक इस गीत के प्रील्यूड और इंटरल्यूड में सुनाई देती है।

कॉलेज के ज़माने में किशोर कुमार के गाए चुनिंदा गीतों को मैंने कैसेट में रिकार्ड करवाया था। ये गीत साइड A का पहला गीत हुआ करता था। किशोर दा की आवाज़ और पश्चिमी वाद्यों की सुरीली धमक युवा मनों को मस्ती के रंग में ऐसी तरंगित कर देती थी कि आगे के गाने सुनने के बजाए इसी गाने को रिपीट मोड में बारहा बजाया जाता था। तो चलिए एक बार और सुनते हैं ये गीत..

रूप तेरा मस्ताना, प्यार मेरा दीवाना 
भूल कोई हमसे ना हो जाये

रात नशीली मस्त समा है 
आज नशे में सारा जहाँ है
आए शराबी मौसम बहकाए  
रूप तेरा मस्ताना....

आँखों से आँखें मिलती हैं ऍसे 
बेचैन हो के तूफ़ाँ में जैसे
मौज कोई साहिल से टकरा
रूप तेरा मस्ताना...

रोक रहा है हमको ज़माना 
दूर ही रहना पास ना आना
कैसे मगर कोई दिल को समझाए ...
रूप तेरा मस्ताना...
 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie