Monday, January 20, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 15 : ओ रे चंदा बेईमान . बेईमान..बेईमान O Re Chanda

अक्सर लोगों को शिकायत रहती है कि आजकल के गीतों में पुराने गीतों सी ना मिठास है और ना ही उनके शब्दों में भावनाओं का आवेग झलकता है। वार्षिक संगीतमाला की चौदहवीं पायदान पर फिल्म 72 hours का ये गीत आप की इन दोनों शिकायतों को दूर करेगा ऐसा मुझे विश्वास है। 

इस गीत की मधुरता आप तक पहुँचेगी श्रेया घोषाल  की आवाज़ में और गीत के बेहद प्यारे बोलों को लिखने वाली हैं सीमा सैनी। भारत चीन युद्ध के अमर शहीद राइफल मैन जसवंत सिंह रावत पर बनाई गयी फिल्म ठीक एक साल पहले जनवरी 2019 में रिलीज़ हुई थी। फिल्म तो बॉक्स आफिस पर ज्यादा कमाल नहीं दिखा पाई पर फिल्म के लिए बने गीतों में से एक गीत ओ रे चंदा जरूर अपनी पहचान छोड़ गया।


सीमा सैनी कितनी प्रतिभाशाली  कवयित्री है ये मुझे पहली बार वर्ष 2011 में उनके फिल्म लंका के लिए लिखे गीत शीत लहर को सुन कर लग गया था। तब उन्होंने एक दबंग नेता द्वारा अपहृत लड़की की वेदना को कुछ इन शब्दों में व्यक्त किया था

शीत लहर है, भीगे से पर हैं... थोड़ी सी धूप माँगी है
आँखो भर है नीला गगन और...ठहरा हुआ कुछ पानी है..."

उसी गीत में उन्होंने आगे लिखा था

तिनका तिनका रात उधेड़ो, दिन आज़ाद है कह दो ना
भीतर भीतर कितनी उमस है, थोड़ी साँसें दे दो ना

सीमा किस तरह सिविल इंजीनियरिंग के पेशे से निकल कर मायावी मुंबई में अपनी किस्मत आजमाने पहुँची ये दास्तान तो पहले यहाँ लिखी थी। सीमा ने पिछले आठ सालों में गीत लिखने के साथ साथ वेब सिरीज और मास्टर शेफ की मास्टर क्लास जैसे शोज़ के लेखन का काम भी सँभाला है। आगे उनका अपने लिखे गानों को संगीत देने का इरादा है। जब भी वो कोई गीत लिखती हैं तो मन ही मन में उसका मीटर भी बन रहा होता है। उनका मानना है कि उन्हें अपने अंदर के संगीतकार को भी बाहर निकलने का मौका देना चाहिए। देखते हैं मेरे जैसे श्रोताओं को उनका संगीतबद्ध गीत कब तक सुनने को मिलता है?

सीमा की ये झोली में ये गीत तब गिरा जब एक मित्र ने उनकी मुलाकात संजय बोस से करवाई। संजय इस फिल्म के लिए एक काव्यात्मक गीत की तलाश में थे। उन्होंने सीमा का लिखा शीत लहर सुना था इसलिए बात जल्दी ही बन गयी।  
श्रेया घोषाल व सीमा सैनी
शीत लहर के  गीत में एक गहरी पीड़ा थी पर 72 hours के इस गीत में एक मीठी सी उलाहना है। फौजी की प्रेमिका के पास शिकायत करने के आलावा चारा ही क्या है। प्रियतम हैं कि देश की सेवा में सरहद पर जाकर बैठे हैं।  ये भी तो पता नहीं है कि किस हाल में हैं?  ना कोई संदेश ना कोई खबर ही। पर नायिका शिकायत करे तो किससे? 

अब ये सीमा की लेखनी का कमाल है कि इस गीत में उन्होंने चाँद को अभियुक्त बना कर कटघरे में खड़ा कर दिया। वैसे मजरूह साहब ने चाँद फिर निकला, मगर तुम ना आए  लिखते हुए चाँद से प्रियतम की याद को जरूर जोड़ा था पर सीमा ने तो एक कदम आगे बढ़कर उसे बेईमान ही बता दिया। बेईमान यूँ कि इधर नायिका की आँखें प्रियतम की बाट जोह रही हैं और ये मुआ चंद्रमा उसके प्रेमी पर नज़र रखते हुए भी उधर की खबर इधर नहीं पहुँचा रहा। उसके इंतज़ार की पीड़ा जब सुबह ओस रूपी आँसू बन कर निकलती है तो उसमें भी चंद्रमा का मुस्कुराता प्रतिबिंब उसे कचोटता रहता है। इसीलिए सीमा लिखती हैं... 

ओ रे चंदा बेईमान रे..ओ रे चंदा बेईमान रे
ऐ सुबह तू संदेशा देना, हम अधूरे हैं उनसे कहना
ना साँस आए ना राम रे, ओ रे चंदा बेईमान रे

तरसे जिसको मोरे नैन चंदा, तू दिखे उसे सारी रैन चंदा
मैं जल जाऊँ तुझसे ओ चंदा, हाय लगाऊँ तुझपे ओ चंदा

एहसास तेरा ले के आए, छू के तुझे आए हवाएँ
सुबह बूँद बन के पलकों पे आई, तू ओस में मुस्कुराए
ओ रे चंदा बेईमान बेईमान बेईमान


शीत लहर के गीत की तरह ही इस गीत को भी श्रेया ने गाया है और क्या गजब गाया है। सीमा का शिकायती लहजा उनकी आवाज़ में जीवंत हो उठा है। गीत की धुन संजय बोस ने बनाई जो श्रेया के हिस्से तक अत्यंत मधुर लगती है।  नायक के मनोभावों को व्यक्त करता गीत का अंतिम हिस्सा खुद संजय बोस ने गाया है।

ना मुलाकात, ना तुझसे कोई बात है
मैं जानता हूँ इन दिनो जो तेरे मेरे हालात हैं
एक सपना आँखों में दस्तक दे रहा
फिर मिले वो वादियाँ और तू साथ है
फिर मिलेंगे हम फिर गिरेगी बर्फ


इस गीत से जुड़ी बातें शेयर करने के लिए सीमा ने एक शाम मेरे नाम के लिए वक़्त निकाला उसके लिए मैं उनका हार्दिक आभारी हूँ।

Saturday, January 18, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 15 : ओ राजा जी, नैना चुगलखोर राजा जी Rajaji

एक शाम मेरे नाम की वार्षिक संगीतमाला अब उस हिस्से में पहुँच गयी है जहाँ से ऊपर बजने वाला हर एक गीत मेरे दिल के बेहद करीब है। मेरा यकीन है कि इन पन्द्रह गीतों में से आधे गीत ऐसे होंगे जिनको आपने शायद पिछले साल सुना ही नहीं होगा। ऊपर की इन पन्द्रह पायदानों में जो पहला गीत है वो है फिल्म मणिकर्णिका से। 


आप तो जानते ही हैं कि इस फिल्म के गीत लिखे हैं प्रसून जोशी ने और साल के इस बेहतरीन एलबम के संगीतकार हैं शंकर एहसान लॉय! ये हस्तियाँ तो इतनी नामी हैं कि उनके बारे में आज ना बात करते हुए मैं आपको मिलवाना चाहूँगा इस गीत की गायिका प्रतिभा सिंह बघेल से। प्रतिभा की बहुमुखी प्रतिभा की झलकियाँ मैं पिछले एक दशक से देख रहा हूँ पर बतौर पार्श्व गायिका उन्हें इतना बड़ा ब्रेक मिलता देख मुझे दिल से खुशी हुई।

मध्यप्रदेश के शहर रीवाँ से ताल्लुक रखने वाली प्रतिभा भी सा रे गा मा पा के मंच की ही खोज हैं। वर्ष 2008 के चैलेंज में सा रे गा मा पा लक्ष्य घराने से अंतिम पाँच में जगह बनाने वाली प्रतिभा पिछले एक दशक से बतौर पार्श्व गायिका अपना मुकाम बनाने के लिए प्रयत्नशील हैं। ऐसा नहीं हैं कि उन्हें फिल्मों में इसके पहले गाने के अवसर नहीं मिले। आपने उनके गाए गीत इसक, शोरगुल, बॉलीवुड डायरीज़, हम्पटी शर्मा की दुल्हनिया जैसी फिल्मों में सुने होंगे पर सा रे गा मा पा के अपने पहले गुरु शंकर महादेवन द्वारा दिया गया अवसर इस पुलिस इंस्पेक्टर की बेटी के लिए एक विशेष मायने रखता है। 

कंगना रणावत जैसी अभिनेत्री और भारतीय इतिहास की वीर नायिका रानी लक्ष्मी बाई की आवाज़ बनना उनके कैरियर के लिए एक अहम पड़ाव होगा ऐसा मुझे लगता है। प्रतिभा एक ऐसे परिवार में पली बढ़ी हैं जहाँ गाने और बजाने का शौक तो सबको था पर इसे बतौर कैरियर अपनाने का काम अपने काका के बाद प्रतिभा ने ही किया।

शास्त्रीय संगीत में पारंगत प्रतिभा जिस सहजता से ठुमरियाँ गाती हैं उतने ही मनोयोग से गुलाम अली, मेहदी हसन और हरिहरण की ग़ज़लों को भी गुनगुना लेती हैं। पिछले साल से उन्होंने संगीत नाटिका मुगलेआज़म और उमराव जान के मंचन में गायिका के साथ साथ अभिनय पर भी हाथ आजमाया है। आने वाले दिनों में आप उनकी ग़ज़ल का एक एलबम भी सुन पाएँगे।

तो चलिए लौटते हैं  इस गीत की तरफ। मणिकर्णिका के इस गीत के लिए शंकर ने उन्हें इतना ही कहा कि तुम गाओ..  टेंशन नहीं लेना। रिकार्डिंग के समय प्रतिभा थोड़ी नर्वस थीं और उन्होंने शंकर जी से जाकर कहा भी कि सर अगर अच्छा नहीं हुआ हो तो मैं दुबारा गा लूँगी पर उसकी नौबत ही नहीं आई। उन्होंने इसी फिल्म के लिए एक लोरी भी गायी है 'टकटकी' जो भले ही इस संगीतमाला का हिस्सा ना हो पर है एक प्यारा गीत।

मुखड़े के पहले का संगीत मन को शांत कर देता है और उसी के बीच प्रतिभा की मीठी आवाज़ अपने राजाजी को पुकारती हुई उभरती है। प्रसून मन की रुनझुन को खनकते, चितचोर, चुगलखोर नैनों से प्रकट करते हुए जब दिल का हाल कुछ यूँ बताते हैं ...सिंदूरी भोर, नहीं ओर-छोर....बाँधी कैसी ये डोर...धड़कन बेताल, सपने गुलाल....किया कैसा हाल, राजा जी...तो उनके शब्दों के इस कमाल पर शाबासी देने की इच्छा होती है। शंकर अहसान लॉय की संगीतकार त्रयी ने गीत में कोरस और बाँसुरी का बेहतरीन इस्तेमाल किया है। प्रतिभा के गाए इस गीत की अंतिम पंक्तियों में साथ दिया है रवि मिश्रा ने।

ओ राजा जी, ओ महाराजा जी
नैना चुगलखोर राजा जी

मन की रुनझुन छुप ना पाए
खनक-खनक खनके नैना
बड़ी अजब है रीत प्रीत की
बिन बोले सब कुछ कहना
कुनकुनी-सी धूप बिखरी
जाए रे मनवा कुहू-कुहू बौराये रे
ओ राजा जी, नैना चुगलखोर, राजा जी
ओ महाराजा जी, नैना हैं चितचोर, राजा जी

सिंदूरी भोर, नहीं ओर-छोर
बाँधी कैसी ये डोर
धड़कन बेताल, सपने गुलाल
किया कैसा हाल, राजा जी

तेरा ध्यान भी छैल-छबीला
लचक-मचक के आए रे
मन ख़ुद से ही बातें करके
मन ही मन मुस्काए रे
कुनकुनी-सी धूप बिखरी...राजा जी

मन-अँगना कोई आया
शीतल छैयाँ बन छाया
इक चंचल नदिया को रस्तों से मिलाया
इक बहती हवा ने कानों में कहना सीखा
कल-कल जल ने इक पल रुकके रहना सीखा
पगडंडी को रस्ते मिल गये
धीरे-धीरे राहें नयी खुलती जाएँ रे


ये गीत गाने में इतना आसान भी नहीं हैं पर प्रतिभा ने गीत के उतार चढ़ावों को भली भांति निभाया हैं। ये गीत उन गीतों में से है जो धीरे धीरे आपके मन में बसता है और एक बार बस जाए तो फिर निकलने का नाम नहीं लेता। 😊

Thursday, January 16, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 20 : ऐरा गैरा नत्थू खैरा Aira Gaira

हिंदी फिल्मी गीतों का मुखड़ा किसी मुहावरे या लोकोक्ति पर हो ऐसा आपको कभी याद आता है। मुझे तो ये लिखते हुए ऐसा कुछ याद नहीं पड़ रहा है पर इस साल इस कमाल को कर दिखाया है अमिताभ भट्टाचार्य ने कलंक के इस चटपटे और झुमाने वाले गीत में जो कि गीतमाला की सोलहवीं सीढ़ी पर विराजमान है। 

इस साल संगीतमाला में शामिल होने वाला ये इकलौता मस्ती भरा गीत है जिसे आप समूह में गुनगुनाते हुए थिरक सकते हैं। आजकल डांस नंबर का मतलब जब उल्टे सीधे शब्दों से भरे पंजाबी मिश्रित रैप और रिमिक्स किये हुए गीतों को बनाना हो गया है, तो ऐसे गीत एक ताज़ी हवा की तरह मन को प्रफुल्लित कर देते हैं। चाहे प्रीतम का मस्त संगीत संयोजन हो, अमिताभ के शब्द हों, अंतरा की शुरुआती चुहल भरी गायिकी हो या फिर जावेद अली और तुषार जोशी की गीत के मध्य में अद्भुत जुगलबंदी.. सुनकर आय हाय करने का जी कर उठता है।

मुखड़े के पहले और अंतरों के बीच की सांगीतिक व्यवस्था में  प्रीतम और उनकी लंबी चौड़ी टीम का काम सुनने लायक है। गीत की शुरुआत के आधा मिनट में बजते तार वाद्य और अंतरों के बुलबुल तरंग के साथ बजते ताल वाद्य आपको गीत के मूड में ले आते हैं। प्रीतम द्वारा रचे इस कर्णप्रिय संगीत को रचने में दर्जन भर वादकों की मेहनत शामिल है। 

गीत का विषय तो ख़ैर वही पुराना है यानी नाच की महफिल में दो मसखरे आशिकों को अपना रंग ज़माना है। नाच वाली तो उन्हें ऍरा गैरा नत्थू खैरा कह कर बिना किसी गत का बता चुकी है। अमिताभ को तो बाजी दोनों ओर से खेलनी थी। नचनिया के वार को सँभालते हुए अमिताभ ने आशिकों का रंग कुछ इन शब्दों में जमाया है

फूल सा चेहरा ईरानी, और लहजा हिंदुस्तानी
झील सी तेरी आँखों में, एक हलचल है तूफानी
देख महफिल में आए हैं, जान की देने कुर्बानी
एक महबूबा की खातिर, आज दो दो दिलबर जानी

मुझे गीत सुनते समय गायिकी के लिहाज़ से मजा तब आता है जब जावेद अली तुषार के साथ आए हाए हाए कहते हुए ये अंतरा गाते हैं

रात ले के आई है, जश्न तारी आए हाए हाए
ग़म गलत करने की है, अपनी बारी आए हाए हाए
आज नाचे गाएँ, ज़रा इश्क़ विश्क फरमाएँ
और जान जलाने वाली भाड़ में जाए सारी
दुनिया दारी आए हाए हाए




बिल्लौरी निगाहों से करे है सौ इशारे
खिड़की के नीचे नासपीटा सीटी मारे
बिल्लौरी निगाहों से...
इश्क में हुआ है थोड़ा अंधा थोड़ा बहरा
सैयां मेरा ऐरा गैरा नत्थू खैरा
ऐरा गैरा नत्थू खैरा 

फूल सा चेहरा ईरानी
और लहजा हिंदुस्तानी
झील सी तेरी आँखों में
एक हलचल है तूफानी
देख महफिल में आए हैं
जान की देने कुर्बानी
एक महबूबा की खातिर
आज दो दो दिलबर जानी

जिनके दिल का इंजन तेरे
टेसन पे है ठहरा
हो जिनके दिल का इंजन तेरे
टेसन पे है ठहरा
समझे काहे ऐरा गैरा नत्थू खैरा...

रात लेके आई है
जश्न तारी आए हाए हाए
ग़म गलत करने की है
अपनी बारी आए हाए हाए
ओ रात ले के आई है...
आज नाचे गाएं
ज़रा इश्क विश्क फरमाएँ
और जान जलाने वाली भाड़ में जाए सारी
दुनिया दारी आए हाए हाए
हो दिल के आईने में झाँके सुंदरी का चेहरा
हो दिल के आईने में झाँके सुंदरी का चेहरा
इश्क में हुआ है थोड़ा अंधा थोड़ा बहरा
सैयां मेरा ऐरा गैरा नत्थू खैरा
सैयां मेरा ऐरा गैरा नत्थू खैरा
सैयां मेरा ऐरा गैरा नत्थू खैरा

तो आइए सुनते हैं कलंक का ये गीत 



Wednesday, January 15, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 20 : ये आईना है या तू है, जो रोज़ मुझको सँवारे Ye Aaina Hai..

वार्षिक संगीतमाला की सत्रहवीं पायदान पर वो नग्मा जिसके गीतकार और संगीतकार की उपस्थिति पिछले साल के गीतों में बेहद कम रही। जी हाँ मैं बात कर रहा हूँ अमाल मलिक और इरशाद कामिल की। याद कीजिए 2015 और 2016 के साल अमाल मलिक एम एस धोनी, एयर लिफ्ट, नूर व रॉय जैसी फिल्मों के साथ चर्चा में बड़ी तेजी से आए थे। पिछले तीन सालों में उन्होंने मात्र दर्जन भर गीत किए हैं। एक तो उनकी दिक्कत ये रही कि उन्हें अपना ज्यादा काम मल्टी कम्पोजर फिल्मों में मिला और दूसरे उनसे जिस विविधता की उम्मीद थी उसमें वो पूरी तरह सफल नहीं हुए।

इस साल उनके गीत दे दे प्यार दे और बदला में सुनाई दिए पर जिस गीत ने सबसे ज्यादा सुर्खियाँ बटोरीं वो था कबीर सिंह का ये आईना है या तू है। एक बड़ी ही मुलायम सी रचना जिसे इरशाद ने अपने प्यारे लफ्जों से एक अलग मुकाम पर पहुँचा दिया।


अमाल को इस गाने के लिए निर्देशक संदीप वांगा द्वारा यही कहा गया कि आपको मुझे कुछ बताना नहीं है बस आप फिल्म की परिस्थिति देख लीजिए जहाँ इस गाने को आना है। अमाल ने अर्जुन रेड्डी ने पहले भी देखी थी। ये गीत फिल्म में तब आता है जब कबीर सिंह का ब्रेक अप हो चुका रहता है और वो पशोपेश में हैं कि अपने प्यार से छिटक जाने के ग़म में डूबा रहे या फिर ज़िंदगी में आगे बढ़े। संदीप ने इतना जरूर कहा था कि तुम्हें ये गाना लिखते समय कबीर सिंह को भूल जाना है। याद रखना है तो उस लड़की को जिसके जीवन में कबीर आया है। उसके लिए प्यार के क्या मायने हैं ये सोचना।

अमाल कहते हैं कि वैसे तो लड़कियाँ बड़ी जटिल होती हैं पर मैंने ये चुनौती इरशाद भाई पर छोड़ दी बस उन्हें ये कहते हुए कि आपको प्यार, इश्क़, मोहब्बत जैसे शब्दों से हटकर अपनी बात रखनी है। इरशाद तो ख़ैर धुरंधर हैं ही खिलाड़ी हैं इस ज़मीं के। . रच दिया उन्होंने ये  मुखड़ा 

ये आईना है या तू है, जो रोज़ मुझको सँवारे?
इतना लगी सोचने क्यूँ मैं आज-कल तेरे बारे

पिछले साल लैला मजनूँ के गीतों से रिझाने वाले इरशाद कामिल भी अमाल की तरह इस साल कबीर सिंह के आलावा अपनी दूसरी फिल्म भारत में कुछ ज्यादा कमाल नहीं दिखा सके पर इस गीत में उन्हें मौका मिला अपनी लेखनी की धार दिखाने का और नतीजे में निकली ऐसी खूबसूरत पंक्तियाँ

तू झील खामोशियों की
लफ़्ज़ों की मैं तो लहर हूँ
एहसास की तू है दुनिया
छोटा सा मैं एक शहर हूँ

गीत का अंत भी बड़े मोहक अंदाज़ में किया है उन्होंने ये कहते हुए

सीने पे मुझको सजा के, जो रात सारी गुज़ारे
तो मैं सवेरे से कह दूँ "मेरे शहर तू ना आ, रे"

संगीतमाला के पिछले गीत की तरह ही इस गीत को गाया है श्रेया घोषाल ने। पिछले गीत जैसी शास्त्रीय बंदिश हो या इस गीत की विशुद्ध रूमानियत श्रेया की आवाज़ उसके साथ पूरा न्याय करती है। इस गीत की रिकार्डिंग ने श्रेया ने बीस मिनटों में ही खत्म कर दी। इस साल उनके तीन गीत इस संगीतमाला में हैं। दो गीत तो अब आपने सुन लिए। उनका गाया तीसरा गीत जरूर आपमें से बहुतों के लिए अनसुना होगा। तो इंतज़ार कीजिए उस गीत का और फिलहाल सुनिए कबीर सिंह का ये बोल प्रधान गीत जो अपनी लय में कम से कम संगीत के बीच कानों में बहता सा चला आता है।

पर्दे पर इस गाने को फिल्माया गया है शाहिद कपूर और निकिता दत्ता पर !


Monday, January 13, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 20 : घर मोरे परदेसिया Ghar More Pardesiya

वार्षिक संगीतमाला के दो हफ्तों का सफ़र मुझे पहुँचा लाया है अठारहवीं पायदान पर जहाँ है फिल्म कलंक का आप सब का चहेता ये नग्मा जिसका संगीत दिया है प्रीतम ने। संगीतकार प्रीतम पिछले कुछ सालों से लंबे ब्रेक ले रहे हैं। आख़िरी बार उनकी जानदार फिल्म जग्गा जासूस और जब हैरी मेट सेजल  में  उनका संगीत सुनाई पड़ा था जो ढाई साल पहले आई थी। इस साल  कलंक, छिछोरे और The Sky is Pink जैसी फिल्मों  में संगीतकार के रूप में उनका काम सुनने को मिला । 

कलंक भले आशा के अनुरूप नहीं चली पर उसका संगीत  काफी सराहा गया। इस संगीतमाला के प्रथम बीस गीतों में तीन गीत इस फिल्म से हैं और आज जो गीत यहाँ पर बज रहा है वो है घर मोरे परदेसिया। घर मोरे परदेसिया की ये शास्त्रीय बंदिश मुझे प्रीतम द्वारा रचे उनके गीत मेरे ढोलना सुन, मेरे प्यार की धुन... ..की याद दिला देती हैं। उस गीत में भी कमाल की सरगम थी जिसे एम. जी. श्रीकुमार के साथ श्रेया घोषाल ने बड़ी खूबसूरती से निभाया था। कलंक के इस गीत में भी श्रेया घोषाल हैं और उनके साथ हैं वैशाली म्हादे।


श्रेया घोषाल तो ख़ैर कमाल की गायिका हैं ही और इस तरह के शास्त्रीय  गीतों में तो उनका जो स्तर है वो और निखर के सामने आता है। वैशाली को मैंने पहले ज्यादा नहीं सुना और इस गीत के एक छोटे से हिस्से में ही उनकी आवाज़ सुनाई देती है। पुराने वक़्त पर आधारित फिल्मों में संगीत देना संगीतकारों के लिए चुनौती होता है। इन चुनौतियों पर की गयी मेहनत श्रोताओं के लिए विशेष अनुभूति बनकर आती है। प्रीतम के इस गीत में आप पिछली गीतमाला के स्टार नीलाद्रि कुमार का सितार भी सुन सकते हैं और सरोद पर रूपक नौगांवकर को भी । तबले पर अक्षय जाधव का कमाल पूरे गीत में दिखता है। 

ऐसी शास्त्रीय बंदिश वाले गीतों की एक खास संरचना होती है जिसमें गीतकार के लिए उस वक़्त का एक अहसास दिलाना ही मुख्य उद्देश्य होता है। अमिताभ यही ध्यान रखते हुए निर्मोही, सुध बुध, धनुर्धर, निहारना जैसे शब्दों का प्रयोग कर इस गीत की प्रकृति के साथ न्याय करने में सफल हुए हैं।

रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाए पर वचन न जाई
जय रघुवंशी अयोध्यापति, राम चन्द्र की जय
सियावर राम चन्द्र की जय, जय रघुवंशी अयोध्यापति
राम चन्द्र की जय, सियावर राम चन्द्र की जय
ता दी या ना धीम, दे रे ता ना दे रे नोम...ता दी या ना धीम,दे रे ता ना दे रे नोम...

रघुवर तेरी राह निहारे, रघुवर तेरी राह निहारे
सातों जन्म से सिया, घर मोरे परदेसिया
आओ पधारो पिया, घर मोरे परदेसिया
मैंने सुध-बुध चैन गवाके, मैंने सुध-बुध चैन गवाके
राम रतन पा लिया, घर मोरे परदेसिया..आओ पधारो पिया
धीम ता धीम ता ताना देरे ना, धीम ता धीम ता ताना देरे ना
धा नी सा मा, सा गा मा धा, नी धा मा गा पा
गा मा पा सा सा, गा मा पा नी नी
गा मा पा नी धा पा मा गा रे गा मा धा पा.... 


ना तो मईया की लोरी, ना ही फागुन की होरी
मोहे कुछ दूसरा ना भाए रे, जबसे नैना ये जाके
एक धनुर्धर से लागे, तबसे बिरहा मोहे सताए रे
दुविधा मेरी सब जग जाने, दुविधा मेरी सब जग जाने
जाने ना निरमोहिया
घर मोरे परदेसिया, आओ पधारो पिया
गई पनघट पर भरण भरण पनिया, दीवानी
गई पनघट पर भरण भरण पनिया
गई पनघट पर भरण भरण पनिया, दीवानी
गई पनघट पर भरण भरण पनिया
नैनो के नैनो के तेरे बान से, मूर्छित हुई रे हिरणनिया
झूम झना नन नन नन, झना नन नन नन

बनी रे बनी मैं तेरी जोगनिया, घर मोरे परदेसिया...आओ पधारो पिया


प्रीतम अब फिल्मों से हमेशा हमेशा के लिए अलविदा कहने के मूड में हैं पर दिक्कत ये है कि फिल्म उद्योग उन्हें जल्दी छोड़ना नहीं चाहता। अगले साथ ब्रहमास्त्र सहित चार पाँच फिल्मों में आप उनका संगीत सुन पाएँगे।

घर मोरे परदेशिया एक ऐसा गीत है जिसे पर्दे पे देखना भी अपने आप में एक अनुभव है। कत्थक का प्रयोग हिंदी फिल्मी गीतों में होता रहा है। देवदास में माधुरी और ऐश्वर्या द्वारा अभिनीत  डोला रे डोला.. और अब यहाँ माधुरी के साथ आलिया  के नृत्य की भाव भंगिमाएँ वैभवशाली महल की सुंदरता में चार चाँद लगा जाती हैं। तो आइए देखते हैं इस गीत को..



Friday, January 10, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 20 : अग्नि हो कर मँगनी हो गई पानी से Beimani Se

वार्षिक संगीतमाला की अगली सीढ़ी पर एक बार फिर है गॉन केश का एक और सुरीला नग्मा। फर्क सिर्फ इतना है कि इस बार संगीतकार की भूमिका  निभाई है बिशाख ज्योति ने और इसे गाया है महालक्ष्मी अय्यर ने। अगर आपको बिशाख ज्योति का नाम कुछ कुछ सुना हुआ लग रहा हो तो बता दूँ कि वे सा रे गा मा सिंगिंग सुपरस्टार्स में रनर्स अप रहे थे। ये वही कार्यक्रम था जिसमें सुगंधा मिश्रा, स्निति मिश्रा और रंजीत रजवाड़ा जैसे नाम पहली बार उभरे थे। 

फिल्म जगत में गायिकी की प्रतिस्पर्धा इतनी ज्यादा है कि बहुत सारे गायक फिल्मों में बतौर संगीतकार अपनी जगह को तलाशने में जुटे हुए हैं। अब इसी साल की संगीतमाला में देखिए सोनल प्रधान, पायल देव, अखिल सचदेव और अब बिशाख ज्योति इन सारे गायकों ने संगीतकार का किरदार कितने करीने से निभाया है।


गॉन केश के पिछला नग्मे नुस्खा तराना और अब बेईमानी से समानता बस इतनी है कि दोनों को ही अभिषेक मजाल ने ही लिखा है। दिल्ली के इस गीतकार का नाटकों सें जुड़ाव रहा है और अब इस साल इस फिल्म के गीतों में भी उनकी प्रतिभा का दूसरा रूप छलका है। शायरी में मजाज़ की शोहरत से तो आप वाक़िफ़  ही होंगे। शायद अभिषेक ने अपना तख़ल्लुस मजाल रखने में उनसे प्रेरणा ली होगी।

जिस तरह नुस्खा तराना में फिल्म की कहानी का मर्म बयाँ करती उनकी पंक्ति ढूँढ रहा है पक्षी को दाना, मन में चला के ये नुस्खा तराना  हृदय को छू गयी थी वैसे ही यहाँ भी विपरीत स्वभाव के आकर्षण को उनका अग्नि हो कर मँगनी हो गई पानी से  के रूप में व्यक्त करना दिल को बाग बाग कर देता है। प्रेम गीत हर साल सैकड़ों में लिखे जाते हैं पर उसी भाव को तरह तरह से कहने की अदा एक श्रोता के मन को पुलकित करती रहती है।


बिशाख ज्योति, अभिषेक मजाल व श्वेता त्रिपाठी
महालक्ष्मी अय्यर की आवाज़ हिंदी फिल्मों में कम ही सुनाई देती है। वैसे उन्होंने अपने लंबे कैरियर में हिंदी फिल्मों में गाहे बगाहे अच्छे गाने दिए हैं। अपनी पसंद की बात करूँ तो बंटी और बबली का छुप छुप के, टशन का फलक तक चल साथ मेरे और झूम बराबर झूम का बोल ना हल्के हल्के जैसे युगल गीत याद आते हैं। बिशाख ज्योति उनके साथ स्टेज शो भी किया करते हैं इसलिए अपनी इस बेहतरीन धुन के लिए उन्होंने उन्हें चुना होगा। मुझे ऐसा लगता है कि इस गीत में जो मेलोडी है वो श्रेया की आवाज़ में और ज्यादा जँचती। 

गीत की सांगीतिक व्यवस्था का दारोमदार इस गीत में शुभदीप सिंह ने सँभाला है। गीत की शुरुआत में गिटार पर आधारित संगीत का टुकड़ा मधुर है। बाँसुरी का भी अच्छा इस्तेमाल किया है उन्होंने इस गीत में। तो आइए सुनते हैं ये पूरा गीत..



बेईमानी से मनमानी से
हासिल किया दिल आसानी से
बेगानी सी कहानी में

दाखिल हुआ दिल आसानी से
गिरती मेहर (मोहब्बत) ठहर के पेशानी (माथे) से
मुस्का रही नज़र ये नादानी से
कोई पूछ ले अगर ये दीवानी से
दीवानगी है क्या कुछ तो बता
बेईमानी से मनमानी से
अग्नि हो कर मँगनी हो गई पानी से
बेगानी सी कहानी से
लो चली हो चली सपनों की सुरीली सदा

बेईमानी से, तूने साहिल पे रोका
बना लहरों का झोंका, छू गया
मेरी रूह जहाँ तक गई तू गया
इन रूहों की रूमानी से
अग्नि हो कर मँगनी हो गई पानी से
बेगानी सी कहानी से
लो चली हो चली सपनों की सुरीली सदा.. 
बेईमानी से मनमानी से

हासिल किया दिल आसानी से

बेइमानी से कोई वादा ना करना
जरा रुक के गुजरना साथिया
तेरी हर खामोशी पे मैंने हाँ किया
ख़ुद से मिलूँ, हैरानी से
अग्नि हो कर मँगनी हो गई पानी से
बेगानी सी कहानी से
लो चली हो चली सपनों की सुरीली सदा.. 
बेईमानी से मनमानी से

हासिल किया दिल आसानी से

फिल्म में गीत के दूसरे अंतरे का इस्तेमाल नहीं हुआ है पर आज के ज़माने में कोई गीत रिक्शे पर फिल्माया जाए तो देखना तो बनाता है ना ! गीत में आपको नज़र आएँगे श्वेता त्रिपाठी के साथ जितेंद्र कुमार।



Wednesday, January 08, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 20 : तू इतना ज़रूरी कैसे हुआ? Kaise Hua

साल के शानदार गीतों का ये सफ़र अब जा पहुँचा है शुरुआती बीस गीतों की ओर और यहाँ गीत एक बार फिर फिल्म कबीर सिंह का। कबीर सिंह के मुख्य चरित्र को लेकर हुए वाद विवाद के बाद भी ये फिल्म इस साल की सफल फिल्मों में एक रही। युवाओं ने इसे खासा पसंद किया और इसमें इसके संगीत की भी एक बड़ी भूमिका रही। संगीतमाला का पिछला गीत भी इसी फिल्म से था। इस गीत की धुन और गायिकी दोनों का दारोमदार विशाल मिश्रा ने सँभाला। पर बेख्याली और तुझे कितना चाहने लगे हम को पीछे छोड़ता ये गीत संगीतमाला में दाखिल हुआ है तो वो मनोज मुंतशिर के प्यारे बोलों की बदौलत।


जहाँ तक इस गीत के बनने की बात है तो संगीतकार विशाल मिश्रा ने इस गीत की धुन चंद मिनटों में बनाई। रातों रात गाना स्वीकृत हुआ और विशाल ने मनोज को काम पर लगा दिया। ये एक ऐसा गीत है जिसके बोलों को सुनकर आप उन दिनों की यादों में डूब सकते हैं जब पहले प्यार ने आपको अपनी गिरफ्त में लिया था। 

घर की बालकोनी हो या ट्यूशन की वो क्लास, कॉलेज का कैंटीन हो या फिर दोस्त की शादी का उत्सव...कॉलेज के हॉस्टल में पहले प्यार की कहानियाँ कुछ ऐसी ही जगहों से शुरु होती थीं। जिस लड़के में इस मर्ज के लक्षण दिखते उसे सँभालना ही मुश्किल हो जाता था। रात दिन सोते जागते ऐसे लोगों पर बस एक ही ख्याल तारी रहता था। मनोज ने भी शायद ऐसे ही वाकयों से प्रेरणा ली होगी ये कहने में कि "तू इतना ज़रूरी कैसे हुआ"? 


एक रोचक तथ्य ये भी है कि पहले इस पंक्ति की जगह मनोज ने लिखा था "जो ना होना था कैसे हुआ"। वो तो गीत को सुनते वक्त टी सीरीज़ के मालिक भूषण कुमार ने सलाह दी कि इसे थोड़ा डिफाइन करो कि क्या होना था, क्या नहीं हुआ ताकि वो पंक्ति अपने आप में पूर्ण लगे और इस तरह गीत की पंच लाइन तू इतना जरूरी कैसे हुआ अस्तित्व में आई। मनोज ने गीत के तीन अंतरे लिखे और उसमें एक विशाल ने पसंद किया।

अंतरे में जो बहती कविता है वो मुझे इस गीत की जान लगती है। बतौर संगीतकार मैंने देखा है कि विशाल की शब्दों की समझ बेहतरीन है। करीब करीब सिंगल में राजशेखर के गहरे बोलों वो जो था ख़्वाब सा, क्या कहें जाने दे पर संगीत रचने वाले भी वही थे। 

यहाँ मनोज का खूबसूरत बयाँ बारिश की बोली को समझने से ले के अस्त व्यस्त जीवन की आवारगी के बाद आते ठहराव को गीत के बोलों में  इस तरह उभारता है कि  उन दिनों के कई मंज़र स्मृतियों के आईने में उभर उठते हैं ।

हँसता रहता हूँ तुझसे मिलकर क्यूँ आजकल
बदले-बदले हैं मेरे तेवर क्यूँ आजकल
आँखें मेरी हर जगह ढूंढें तुझे बेवजह
ये मैं हूँ या कोई और है मेरी तरह
कैसे हुआ? कैसे हुआ?
तू इतना ज़रूरी कैसे हुआ?
कैसे हुआ? कैसे हुआ?
तू इतना ज़रूरी कैसे हुआ?

मैं बारिश की बोली समझता नहीं था
हवाओं से मैं यूँ उलझता नहीं था
है सीने में दिल भी, कहाँ थी मुझे ये खबर

कहीं पे हो रातें, कहीं पे सवेरे
आवारगी ही रही साथ मेरे
"ठहर जा, ठहर जा, " ये कहती है तेरी नज़र
क्या हाल हो गया है ये मेरा?
आँखें मेरी हर जगह ढूंढें तुझे बेवजह
ये मैं हूँ या कोई और है मेरी तरह?
कैसे हुआ? कैसे हुआ?

तो आइए सुनें शाहिद कपूर और कियारा आडवाणी पर फिल्माए गए इस गीत को


Tuesday, January 07, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 25 : तेरा बन जाऊँगा Tera Ban Jaunga

इस साल की संगीतमाला में छः फिल्में ऐसी है जिनका इस संगीतमाला की पचास फीसदी पायदानों पर कब्जा है यानि तीस में से पन्द्रह गीत इन्हीं फिल्मों के हैं। घोस्ट के दो गीतों से आप परिचित हो ही चुके हैं। ऐसा ही कमाल इस साल कबीर सिंह के गीतों ने भी रचा है।  

श्रोताओं की जो पसंद मुझे मिली है उसमें भी इस फिल्म के गीतों का अच्छा खासा दखल है। इस फिल्म के सारे तो नहीं पर कुछ गीत एक शाम मेरे नाम की इस वार्षिक संगीतमाला का हिस्सा बने हैं। वे गीत कौन से हैं वो बहुत जल्द ही आप जान जाएँगे। आज गीतमाला की इस सीढ़ी पर जो गीत है उसे संगीतबद्ध किया अखिल सचदेव ने और लिखा कुमार ने। इस युगल गीत को अखिल के साथ आवाज़ दी है तुलसी कुमार ने।


अब इस गीत की सफलता का श्रेय मैं सबसे ज्यादा अखिल सचदेव के मधुर धुन को देना चाहूँगा। तुलसी कुमार की आवाज़ का मैं शैदाई तो नहीं पर इस गीत में जब जब वो मेरी राहें गाती हैं तो उसे बार बार सुनने का दिल जरूर करता है। आदित्य देव नें फिर यहाँ संगीत की व्यवस्था सँभाली है और क्यू खूबसूरत टुकड़े दिए हैं अंतरों के बीच। रही कुमार साहब की बात तो कुमार के ऐसे गीतकार हैं जिन्हें सहज शब्दों के साथ जनता की नब्ज़ पकड़ने का हुनर मालूम है। उनके शब्दों में इस गीत के अंतरों में कोई खास गहराई नहीं हैं पर कुछ पंक्तियाँ जरूर बेहद प्यारी लगती हैं जैसे मुखड़े में मेरी राहें तेरे तक हैं, तुझपे ही तो मेरा हक़ है इश्क़ मेरा तू बेशक़ है..तुझपे ही तो मेरा हक़ है या फिर अंतरे की ये पंक्तियाँ लखाँ तों जुदा मैं हुई तेरे ख़ातिर..तू ही मंज़िल दिल तेरा मुसाफ़िर...रब नूँ भुला बैठा  तेरे करके..मैं हो गया काफ़िर।



मेरी राहें तेरे तक हैं
तुझपे ही तो मेरा हक़ है
इश्क़ मेरा तू बेशक़ है
तुझपे ही तो मेरा हक़ है
साथ छोड़ूँगा ना तेरे पीछे आऊँगा
छीन लूँगा या खुदा से माँग लाउँगा
तेरे नाल तक़दीरां लिखवाऊँगा

मैं तेरा बन जाऊँगा
मैं तेरा बन जाऊँगा

सोंह तेरी मैं क़सम यही खाऊँगा
कित्ते वादेया नूँ मैं निभाऊँगा
तुझे हर वारी अपणा बनाऊँगा
मैं तेरा बन जाऊँगा
मैं तेरा बन जाऊँगा
 शुक्रिया
दा रा रा रा .....

लखाँ तों जुदा मैं हुई तेरे ख़ातिर
तू ही मंज़िल दिल तेरा मुसाफ़िर
रब नूँ भुला बैठा तेरे करके
मैं हो गया काफ़िर
तेरे लिए मैं जहां से टकराऊँगा
सब कुछ खो के तुझको ही पाऊँगा
दिल बन के दिल धडकाऊँगा
मैं तेरा बन जाऊँगा, मैं तेरा बन जाऊँगा

सोंह तेरी मैं क़सम यही खाऊँगा
कित्ते वादेयाँ नूँ मैं निभाऊँगा
तुझे हर वारी अपणा बनाऊँगा
मैं तेरा बन जाऊँगा, मैं तेरा बन जाऊँगा
मेरी राहें तेरे तक हैं

आपमें से बहुतों के लिए ये प्रश्न होगा कि आख़िर ये अखिल सचदेव हैं कौन? मैं तो यही कहूँगा कि वो अभिनेत्री हुमा कुरैशी के सहपाठी  हैं। अब अगर आप ये पूछेंगे कि ये इस हुनरमंद संगीतकार का कैसा परिचय है तो उसके लिए मुझे एक कहानी सुनानी पड़ेगी आपको। आज से करीब एक दशक पहले अखिल ने जब गिटार अपने हाथों में लिया तो उन्हें लगा कि संगीत ही उनका असली प्रेम है। वर्ष 2011 में उन्होंने अपना एक रॉक सूफी बैंड नशा बनाया। 
अखिल सचदेव व  तुलसी कुमार
एक बार गिटार पर उन्होंने धुन बनाकर हुमा को सुनाई। हुमा ने धुन की तारीफ़ की और बात आई गयी हो गयी। एक दफ़ा जब अखिल मुंबई पहुँचे तो हुमा के घर खाने पर गए। वहाँ फिल्मी कलाकारों की महफिल जमीं थी। भोजन के पश्चात गाना बजाना शुरु हुआ तो हुमा ने अखिल को मिलवाते हुए कहा कि ये हैं हमारे असली संगीतकार। अखिल ने अपनी उसी धुन को सुनाया और सबने उसे खूब पसंद किया। शशांक खेतान भी वहीं मौज़ूद थे। वे उस वक़्त बद्रीनाथ की दुल्हनिया की पटकथा पर काम कर रहे थे। उन्होंने अखिल से कहा कि ये गाना उन्हें अपनी फिल्म के लिए चाहिए पर उसे बनने में अभी डेढ़ साल तक का वक़्त लग सकता है। 

अखिल तो वापस दिल्ली आ गए पर शशांक ने अपना वादा पूरा किया। लगभग साल भर बाद फिल्म की शूटिंग शुरु होते ही शशांक का फोन अखिल के लिए आ गया। यानी अपनी दोस्त की मदद से अखिल का हिंदी फिल्मों  में गायक व संगीतकार बनने का सपना एक साथ पूरा हुआ। वो गीत था हमसफ़र जो कि खासा लोकप्रिय भी हुआ। 

गीत की सफलता को देखते हुए इसका एक और वर्सन भी बना जिसे सिर्फ अखिल ने गाया है। इस गीत के इतने सारे श्रोता प्रेमी हैं तो मुझे लगा कि उपहार स्वरूप उन्हें गीत का ये रूप भी सुना देना चाहिए।

 

Sunday, January 05, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 25 : ये जो हो रहा है Ye Jo Ho Raha Hai

हिंदी फिल्मों में ऐसे बहुत सारे गीत होते हैं जो फिल्म के एलबम में तो होते हैं पर पूरी फिल्म बनते बनते संपादन के दौरान बाहर छिटक जाते हैं। आज का गीत एक ऐसा ही गीत है जिसे लिखा रश्मि विराग ने, धुन बनाई विनय राम तिवारी ने और गाया है ज्योतिका टांगरी ने। 


ये फिल्म थी घोस्ट जिसके बारे में मैं पहले ही कह चुका हूँ कि अलग अलग संगीतकारों द्वारा बनाए इस एलबम के कई गीत मधुर बन पड़े हैं। रश्मि विराग की जोड़ी अपने प्यारे बोलों से पहले भी मुझे प्रभावित करती रही है। किसी के लिए बढ़ रही नज़दीकियों को वो सहजता से कुछ यूँ बयाँ करते हैं कि  

ये जो हो रहा है, कुछ पता नहीं है
दिल धड़क रहा है, आँखों में नमी है
अगर प्यार है ये, तो होने दो इसको
अगर ख़्वाब है ये, तो सोने दो हमको

गीत के अंतरे भी प्रेम के मुलायम अहसासों से लबरेज़ हैं। इस साल का गुमनाम सा ये गीत अगर गीतमाला मैं है तो उसकी मुख्य वज़ह रश्मि विराग के रूमानी बोलों को विनय राम तिवारी की बेहद मधुर धुन का मिला साथ है। दो तीन बार सुन लेने के बाद इस गीत को बार बार गुनगुनाने की इच्छा करती है। मतलब ये कि विनय की धुन एक जल्दी मन में चढ़ने वाली धुन है। हिंदी फिल्म संगीत के लिए विनय एक नए नाम नहीं हैं। एक ज़माने में उन्होंने निखिल कामथ के साथ जोड़ी बनाकर दर्जनों फिल्मों में संगीत दिया था। पन्द्रह साल साथ काम करके ये जोड़ी टूट गयी। विनय अब लंदन में रहते हैं और इस साल उन्होंने आमेजन के लिए एक फिल्म  Forever भी निर्देशित की और उसके कुछ  गानों में संगीत भी दिया है ।

ज्योतिका टांगरी, असीस कौर और ध्वनि भानुशाली कुछ ऐसी गायिकाएँ हैं जिन्होंने पिछले साल काफी काम पाया है। पार्श्व गायन में हर साल मैं देखता हूँ कि कुछ नए नाम होते हैं जिन्हें बहुत सारी फिल्मों में काम मिलता है पर इनमें से बहुत कम ही बड़े बैनर की फिल्में होती हैं।

इस गीत की तरह ही ज्योतिका ने हॉफ गर्लफ्रेंड का मैं फिर भी तुझको चाहूँगी गाया था जो अंततः फिल्म में शामिल नहीं हुआ। हालांकि शादी में जरूर आना के गीत पल्लो लटके ने उन्हें ज़ी सिने एवार्ड जरूर दिला दिया। इस रूमानी गीत को भी उन्होंने भली भांति निभाया है। 

ये जो हो रहा है, कुछ पता नहीं है
दिल धड़क रहा है, आँखों में नमी है
ये जो हो रहा है...
अगर प्यार है ये, तो होने दो इसको
अगर ख़्वाब है ये, तो सोने दो हमको
ये जो हो रहा है...

तुम्हें देखते रहना, कुछ ना कहना
आदत बन गयी
जिस दिन ना दिखो तो जान की 
आफ़त बन गयी
राहें सब हमारी
तुम पे आ कर के थम गयी
ये जो हो रहा है...

इक चाँद का टुकड़ा आ गिरा है
पलकों पे मेरी
ये वक़्त मेहरबाँ हो गया है
हालत पे मेरी
जब से आ गये हो
रहने बाहों में तुम मेरी
ये जो हो रहा है...

इस गिटार प्रधान धुन में मुखड़े के पहले गिटार को साथ मिलता है सेक्सोफोन सदृश वाद्य का जबकि इंटरल्यूड में इलेक्ट्रिक गिटार का प्रयोग हुआ है। गीत में  गिटार (acoustic) की शब्दों के साथ होती टुनटुनाहट भली लगती है। सुनिए आज इस मधुर गीत को यहाँ..

वार्षिक संगीतमाला में अब तक

Saturday, January 04, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 25 : चलूँ मैं वहाँ, जहाँ तू चला Jahaan Tu chala

वार्षिक संगीतमाला की अगली पायदान पर गीत ऐसी फिल्म का जिसमें चार पाँच नहीं बल्कि डेढ़ दर्जन गाने थे और इसका एक गीत "अपना टाइम आएगा" तो देश की आशा का प्रतीक ही बन गया। इस फिल्म ने दिखा दिया कि रैपर्स अपने गीतों के माध्यम से समाज में एक आशा, जोश और जागरुकता जरूर पैदा कर सकते हैं। हालांकि रैप गीतों के साथ ये भी है कि वो जितनी जल्दी चढ़ते हैं उतनी जल्दी उतरते भी हैं। अब अठारह गाने सुनते सुनते मेरे दिल की सुई जहाँ रुकी वो गीत था जसलीन रॉयल का जहाँ तू चला। 

एलबम में इस गीत के दो रूप हैं। मैंने वो रूप चुना है जिसे मिडनाइट मिक्स का नाम दिया गया है। जसलीन की छवि एक रॉक स्टार की रही है। उनकी अधिकांश तस्वीरों में गिटार बराबर का साथी रहता है। उनके गाने का अंदाज़ भी इस छवि के अनुरूप ही है। पिछले साल मैंने जब उनकी फिल्म हिचकी के बारे में लिखा था तो आपको बताया था कि किस तरह पंजाब के लुधियाना शहर से ताल्लुक रखने वाली इस युवा कलाकार ने जसलीन कौर से जसलीन रायल तक का सफ़र पूरा किया है।



जसलीन ने अब तक जो काम किया है उसमें श्रेय इस बात का भी है कि उन्होंने अपनी तरफ से उन लोगों से बार बार संपर्क साधा जिनके साथ वो काम करना चाहती थीं। बार बार देखो, डियर ज़िदगी और गली ब्वाय में भी मौका उन्हें अपनी इसी आदत की वज़ह से मिला। बार बार देखो की रिलीज़ के बाद एक कार्यक्रम में जसलीन ने जोया अख्तर से मुलाकात की थी। जोया ने उन्हें अपने दफ्तर में भी बुलाया पर उस वक़्त उनके पास जसलीन के लिए कोई काम नहीं था। फिर महीनों बाद अचानक ही उनके कार्यालय से फोन आया कि गली ब्वॉय के लिए एक गाना करना हैं उन्हें और फिर दो तीन सिटिंग में शुरुआती बोलों में थोड़ा बदलाव करते हुए ये गाना तैयार हुआ।
जसलीन का एक रॉयल लुक :)

जसलीन की एक खूबी ये भी है कि वो अपने गीतों के बोलों पर विशेष ध्यान रखती हैं। पिछले साल हिचकी के गीतों में ये बात स्पष्ट नज़र आई थी और  गली ब्वॉय के इस गीत के बोल भी बेहद प्यारे हैं। जसलीन का ये गीत आज इस संगीतमाला में है तो इस सफलता में बराबर के हक़दार आदित्य शर्मा भी हैं जिन्होंने इस गीत को लिखा है। आदित्य बार बार देखो और शिवाय में भी जसलीन के लिए गाने लिख चुके हैं।

जहाँ तू चला एक ऍसा गीत है जिसमें नायिका नायक के मन में एक आशा का संचार कर रही है, अनजानी राहों पर साथ चलते हुए उसे कुछ नया करने के लिए प्रेरित कर रही है। वो चाहती है कि वो अपने दुखों को मन में ना रखकर उससे साझा करे और दिल से उन्हें बहा दे। आदित्य ने इस गीत में कुछ ऐसी नयी कल्पनाओं को जगह दी है जो प्रभावित करती है। मसलन बिना उद्देश्य सड़कों पे भटकने के लिए कितनी खूबसूरती से वे कहते हैं कि बेइरादा सड़कों पे तारीखों को ढकेलते हैं। इसी तरह दुखों को सेंकने में भी उनका भाव निराला है।

कहता है कुछ और करता है और
लेता है क्यूँ तू दिल पे ज़ोर
बतला, बतला
कोरी सी रात को भर दे आज
तू खोल दे सब राज़ राज़
बह जा, बह जा
गुपचुप सा क्यूँ है तू ये बता
कुछ तो हँसी को दे जगह
बेवजह, बेवजह
खोए खोए बेपरवाह हों
बातों बातों में सुबह हो
लम्हों को लें सजा
नहीं है तू तन्हा
चलूँ मैं वहाँ, जहाँ तू चला
चलूँ मैं वहाँ...

समझा बुझा के देखते हैं
दिन दुःख पहले सेंकते हैं
चल बुने नई कहानियाँ
बेइरादा सड़कों पे
तारीखों को ढकेलते हैं
चल वहाँ जहाँ ना हो गया
चलूँ मैं वहाँ, जहाँ तू चला
चलूँ मैं वहाँ, जहाँ तू चला
चलूँ मैं वहाँ (कैसा भी हो समां)
जहाँ तू चला (रहूँ साथ सदा)
कैसा भी हो समां, रहूँ साथ सदा

मिडनाइट मिक्स में अंतरों के बीच जो संगीत का तड़का है वो आपको झूमने पर विवश करता है तो आइए सुनें जसलीन की आवाज़ में ये गीत...


Friday, January 03, 2020

वार्षिक संगीतमाला 2019 Top 25 : रूह का रिश्ता ये जुड़ गया... Rooh Ka Rishta

रामसे ब्रदर्स के जाने के बाद हॉरर फिल्मों की सालाना खुराक देने का काम  पिछले एक दशक से विक्रम भट्ट बखूबी सँभाल रहे हैं। अब उनकी फिल्में कितनी डरावनी होती हैं ये तो मैं नहीं जानता पर उनकी फिल्मों का संगीत बाजार के शोर गुल से अलग एक सुकून देने वाला अवश्य होता है। 

इस साल अक्टूबर में फिल्म आई Ghost। घोस्ट का जो गीत आज इस संगीतमाला में दाखिल हो रहा है उसे सँवारा है एक महिला संगीतकार ने जो कि एक गायिका भी हैं पर उन्होंने खुद ये गाना नही् गाया बल्कि गवाया है एक ऐसे संगीतकार से जिनके नाम की तूती इस साल के फिल्म संगीत में गूँज रही है। पिछले साल की संगीतमाला में मैंने आपको दो महिला संगीतकारों से मिलवाया था। पहली तो रचिता अरोड़ा जिन्होने "मुक्केबाज" के संगीत से सबका दिल जीत लिया था और दूसरी जसलीन रायल जिनकी "हिचकी" को आजतक हम भूले नहीं हैं।

ये नयी संगीतकार हैं देहरादून से ताल्लुक रखने वाली सोनल प्रधान। शास्त्रीय संगीत में प्रभाकर की डिग्री हासिल करने के बाद सोनल का इरादा तो मुंबई जाकर गायिकी में नाम रोशन करना था पर पहाड़ों की आबो हवा को छोड़ मुंबई नगरी के प्रदूषण ने उनके गले को ऐसा गिरफ्त में लिया कि डॉक्टर ने उन्हें एक साल के लिए गाना बिल्कुल बंद करने की ताकीद दे डाली।  संगीत की दुनिया में अपनी पहचान बनाने का सपना लिए आई किसी भी लड़की के लिए ये मानसिक आघात से कम नहीं था। हताशा निराशा के दौर से गुजर रही सोनल को उनकी माँ ने ढाढस बँधाया और कहा कि अगर तुम कुछ दिनों के लिए गा नहीं सकती तो क्या हुआ, संगीत से जुड़ा दूसरा काम तो कर सकती हो। फिर तो सोनल ने अगले एक डेढ़ साल में कई गीत लिखे, उनकी धुनें बनाई और जब एक अच्छा खासा संग्रह यानी सांग बैंक बन गया तो उन्होंने फिल्म उद्योग में काम माँगना शुरु किया। उन्हें पहला मौका विक्रम भट्ट ने अपनी वेब सिरीज़ में दिया। 

सोनल प्रधान
आजकल संगीत की जितनी बड़ी कंपनियाँ हैं उनके पास अगर कोई अच्छा गाना लेकर आता है तो वो उसे अपने संग्रह के लिए आरक्षित कर लेती हैं। सोनल के रचे इस  गीत का खाका ज़ी म्यूजिक के आला अधिकारी अनुराग बेदी को पसंद आ गया और वहाँ से होता हुआ तीन महीने बाद फिल्म घोस्ट (Ghost) के लिए चुन लिया गया। 

इस गाने के दो वर्सन बने। एक को तो यासिर देसाई ने गाया जबकी दूसरे की आवाज़ बने संगीतकार अर्को प्रावो मुखर्जी। अर्को वैसे अपने संगीतबद्ध गीत गाते ही रहे हैं पर ये गीत जब उन्होंने सुना तो कहा कि अरे इस गीत को तौ मैं ख़ुद ही गाना चाहूँगा। फिल्म में अर्को के वर्सन का इस्तेमाल हुआ हैं और मुझे भी वो ज्यादा जँचा।

फिल्म मरजावाँ के गीत "तुम ही आना" की तरह आदित्य देव ने इस गीत में  एक बार फिर संगीत की व्यवस्था सँभाली है। मुखड़े के पहले का पियानो हो या अंतरों के बीच संगीत का टुकड़ा दोनों ही सुनने में बेहद मधुर  लगता है। जैसे ही अर्को रुह का रिश्ता ये जुड़ गया से मुखड़े का टुकड़ा शुरु करते हैं गीत से  श्रोताओं के तार जुड़ने लगते हैं। सोनल की लेखन प्रतिभा भी प्रभावित करती है जब वो लिखती हैं.. बहता हूँ तुझमें मैं भी...ना छुपा खुद से ही...महकूँ खुशबू से जिसकी...बन वो कस्तूरी।

सोनल चाहती हैं कि इस कठिन प्रतिस्पर्धा के युग में भी संगीत उद्योग में बतौर गायिका अपनी जगह बनाएँ और उन्हें अपने संगीत निर्देशन में बड़े कलाकारों के साथ काम करने का मौका मिले। एक शाम मेरे नाम की तरफ से उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएँ। उन्होंने इस गीत से जुड़ी बातचीत के लिए अपना समय निकाला उसके लिए मैं उनका आभारी हूँ। तो आइए अब सुनते हैं घोस्ट फिल्म का ये गीत 

अनकही है जो बातें, कहनी है तुमसे ही
क्यूँ ये नज़रें मेरी, ठहरी हैं तुमपे ही
रूह का रिश्ता ये जुड़ गया
जहाँ तू मुड़ा मैं भी मुड़ गया
रास्ता भी तू है मंज़िल भी तू ही
हाँ तेरी ही ज़रूरत है मुझे
यह कैसे समझाऊँ मैं तुझे
माँगता हूँ तुझे यार तुझसे ही 

बेचैनियाँ अब बढ़ने लगी है
सब्र रहा ना, बेसब्री है
आँच थोड़ी साँसों को दे दे
मुश्क़िल में ये जान मेरी है

बहता हूँ तुझमें मैं भी
ना छुपा खुद से ही
महकूँ खुशबू से जिसकी
बन वो कस्तूरी
रूह का रिश्ता ये जुड़ गया...

जब से मिला हूँ तुझसे
बस ना रहा है खुद पे
बोलती आँखों ने जादू कर दिया
बख़्श दे मुझे ख़ुदारा
मैने जब उसे पुकारा
हो गयी ख़ता तेरा नाम ले लिया

साथ हो जो उम्र भर
वो खुशी बन मेरी
हर कमी मंज़ूर है
बिन तेरे जीना नहीं
रूह का रिश्ता ये जुड़ गया...

 

अगर आप पूरा गीत सुनना चाहें gaana.com पर यहाँ सुन सकते हैं

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie