Saturday, February 27, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 : गीत # 6 - मेरे लिए तुम काफी हो.. Mere liye tum kafi ho...

तनिष्क बागची और वायु श्रीवास्तव की संगीतकार जोड़ी  जिन्हें लोग तनिष्क वायु के नाम से जानते हैं के संगीत पर मेरा ध्यान फिल्म शुभ मंगल सावधान के गीत कान्हा से गया था। तनु वेड्स मनु रिटर्न के गीत बन्नो से ये जोड़ी पहली बार चर्चा में आई थी पर शुभ मंगल सावधान के बाद इनके गीतों में मुझे ऐसी कोई खास बात नज़र नहीं आई। तनिष्क ने इन गुजरे सालों  में  तो अपनी छवि संगीतकारों के रिमिक्स किंग की ही बना ली। वायु भी कमरिया जैसे गीतों के आगे अपनी लेखनी को विस्तार नहीं दे पाए।

पर शुभ मंगल ज्यादा सावधान के इस गीत में वायु ने वो कमाल कर दिखलाया जो उनके अपनी कला में हुनरमंद होने का प्रमाण दे गया। एक गीतकार की सफलता इस बात में है कि वो सहज से शब्दों में दिल को छूती बात कह जाए और वार्षिक संगीतमाला 2020 की छठी पायदान के गीत संगीत में तनिष्क वायु की जोड़ी यही करने में सफल रही है।

इस गीत को गाया है हर दिल अज़ीज़ आयुष्मान खुराना ने। आयुष्मान इस गीत के बारे में कहते हैं कि
"हम फिल्म में ऐसा गीत डालना चाहते थे जो प्यार और रूमानियत की वैश्विक भावना को उभार सके। ये एक ऐसा गीत है जिसमें प्रेम से जुड़ी सारी भावनाएँ समाहित हैं और जिसे सुनकर हम किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में सोचेंगे जो हमारी ज़िदगी में खास है। हमारा मकसद ये भी बताना था कि जैसा आम प्रेमी युगल एक दूसरे के बारे में महसूस करते हैं वैसी ही भावना दो लड़कों के बीच भी हो सकती है।"
मैंने ये फिल्म नहीं देखी पर इस गीत को पहली बार सुनते ही मन में एक खुशनुमा अहसास मन में तारी हो गया था। वैसे तो वायु का लिखा पूरा गीत ही मुझे पसंद है पर जिस तरह उन्होंने युगल प्रेमियों को सितारों की तरह टूटने और टकराने की बात की या उनकी आपसी तकरार को साथ चलते दो चक्कों के घिसने रगड़ने से जोड़ा वो मुझे बेहद प्यारा लगा।

तेरी मेरी ऐसी जुड़ गई कहानी
कि जुड़ जाता जैसे दो नदियों का पानी
मुझे आगे तेरे साथ बहना है
जाना तुम्हें तो है ये बात जानी
कि ये ज़िन्दगी कैसे बनती सुहानी
मुझे हर पल तेरे साथ रहना है

तुम कुछ अधूरे से हम भी कुछ आधे
आधा आधा हम जो दोनों मिला दे
तो बन जाएगी अपनी इक जिंदगानी
ये दुनिया मिले ना मिले हमको
खुशियाँ भगा देंगी हर ग़म को
तुम साथ हो फिर क्या बाकी हो
मेरे लिए तुम काफी हो

मेरे लिए तुम काफी हो...मेरे लिए तुम काफी हो 

इक आसमां के हैं हम दो सितारे 
कि टकराते हैं टूटते हैं बेचारे
मुझे तुमसे पर ये कहना है
चक्के जो दो साथ चलते हैं थोड़े 
तो घिसने रगड़ने में छिलते है थोड़े

पर यूँ ही तो कटते हैं कच्चे किनारे
ये दिल जो ढला तेरी आदत पे
शामिल किया है इबादत में
थोड़ी ख़ुदा से भी माफी हो
मेरे लिए तुम काफी हो...

तनिष्क ने तार वाद्यों के हल्की मदद से गीत की कर्णप्रियता आखिर तक बनाए रखी। कुल मिलाकर ये एक ऐसा गीत है जिसे फिल्म की कहानी से परे भी हर शख्स अपनी ज़िंदगी से जोड़ पाएगा। तो आइए सुनते हैं आयुष्मान खुराना की आवाज़ में ये गीत जिसे फिल्माया गया है आयुष्मान और जितेन्द्र कुमार पर


वार्षिक संगीतमाला में अब तक




Tuesday, February 23, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 : गीत # 7 छपाक से पहचान ले गया Chhapaak se pehchaan le gaya

वार्षिक संगीतमाला 2020 की सातवीं पायदान पर है मेरे प्रिय गीतकार गुलज़ार का लिखा गीत। एसिड अटैक पर पिछले साल की जनवरी में एक बेहद संवेदनशील फिल्म आई थी छपाक। फिल्म के प्रदर्शन के समय विवादों के बादल घिर आए जिसने इस जरूरी विषय पर बनी फिल्म के संदेश को आंशिक रूप से ही सही पर ढक लिया। 

मेघना गुलज़ार की फिल्मों में उनके पिता ही गीतकार की भूमिका निभाते हैं। मेघना कहती हैं कि ऐसी फिल्मों में गीतों की गुंजाइश कम ही होती है। फिर भी उन्होंने इस फिल्म में गीत रखे क्यूँकि भारतीय फिल्म संस्कृति में गीत फिल्म का चेहरा होते हैं और कई बार तो उनमें ही फिल्म की आत्मा बसती है।



अब छपाक के इस शीर्षक गीत को ही लें। गीत के शानदार मुखड़े में ही पूरी फिल्म का कथा सार छुपा है... कोई चेहरा मिटा के और आँख से हटा के..चंद छींटे उड़ा के जो गया..छपाक से पहचान ले गया। चंद लफ़्जों में इतनी गहरी बात आज के युग में गुलज़ार ही कर सकते हैं। तेज़ाब की चंद बूँदें. किसी की ज़िदगी की गाड़ी को किस तरह बेपटरी कर सकती हैं ये अंदाजा पिछले कुछ साल की नृशंस घटनाओं से हम सब बड़ी आसानी से लगा सकते हैं। ऐसे में गुलज़ार के शब्द दिल में तीर की तरफ चुभते हैं। अंतरे में गुनहगार के व्यक्तित्व का भी वो कितना बढ़िया  खाका खींचते हुए लिखते हैं.. बेमानी सा जुनून था बिन आग के धुआँ...ना होश ना ख्याल सोच अंधा कुआँ 

कोई चेहरा मिटा के और आँख से हटा के 
चंद छींटे उड़ा के जो गया 
छपाक से पहचान ले गया 
एक चेहरा गिरा जैसे मोहरा गिरा 
जैसे धूप को ग्रहण लग गया 
छपाक से पहचान ले गया 

ना चाह न चाहत कोई ना कोई ऐसा वादा है 
ना चाह न चाहत कोई ना कोई ऐसा वादा 
है हाथ में अँधेरा और आँख में इरादा 
कोई चेहरा मिटा ..पहचान ले गया 

बेमानी सा जुनून था, बिन आग के धुआँ 
बेमानी सा जुनून था बिन आग के धुआँ 
ना होश ना ख्याल सोच अंधा कुआँ 

कोई चेहरा मिटा ..पहचान ले गया 

आरज़ू थी शौक थे वो सारे हट गए, कितने सारे जीने के तागे कट गए 
आरज़ू थी शौक थे वो सारे हट गए कितने सारे जीने के तागे कट गए 
सब झुलस गया 
कोई चेहरा मिटा ..पहचान ले गया 

शंकर अहसान लॉय ने इस गीत के लिए अरिजीत की आवाज़ का इस्तेमाल किया। गीत के शब्दों में दबी पीड़ा को उभारने के लिए उन्होंने संगीत संयोजन में बाँसुरी और रबाब का प्रयोग किया है। बाँसुरी वादन नवीन ने और रबाब पर तापस राय की उँगलियाँ थिरकी हैं। इस गीत की रिलीज़ के समय संगीतकार शंकर महादेवन ने अपने एक साक्षात्कार में कहा था कि इस गीत को बनाने के लिए गुलज़ार के साथ बैठना अपने आप में एक उपलब्धि थी। छपाक जैसी संवेदनशील फिल्म के साथ जुड़ना हमारे लिए फक्र की बात थी और इसीलिए इसका संगीत हमारे लिए हमेशा कोहिनूर ही बना रहेगा क्यूँकि वर्षों बाद भी इन गीतों की चमक फीकी नहीं पड़ेगी।

तो आइए सुनते हैं ये गीत अरिजीत की आवाज़ में..

वार्षिक संगीतमाला में अब तक

Sunday, February 21, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 गीत # 8 : या तो बर्बाद कर दो या फिर आबाद कर दो Aabaad Barbaad

वार्षिक संगीतमाला की आठवीं पायदान पर है गीत फिल्म लूडो का जिसे अपनी शानदार आवाज़ दी है युवाओं के चहेते अरिजीत सिंह ने और जिसकी धुन बनाई प्रीतम ने अनुराग बसु के निर्देशन में। संगीतकार प्रीतम और  निर्माता निर्देशक अनुराग बसु की जोड़ी जब भी किसी फिल्म के लिए बनती है उस फिल्म के संगीत का श्रोताओं को बेसब्री से इंतज़ार रहता है। प्रीतम यूँ तो ऐसे भी बेहद सफल संगीतकार हैं पर अनुराग के लिए उनका काम एक अलग स्तर पर ही पहुँच जाता है। इस करिश्माई जोड़ी की संगीतमय फिल्मों को याद करूँ तो हाल फिलहाल में जग्गा जासूस और बर्फी और उसके पहले Gangster और Life In a Metro जैसी फिल्मों का बेहतरीन संगीत याद आ जाता है। 

लूडो के भी तमाम गाने पसंद किए गए। ज़ाहिर है इस गीतमाला में इस फिल्म के गीतों की भागीदारी आगे भी रहेगी। ये एलबम लोगों की नज़र में और चढ़ता यदि फिल्म को सिनेमाघरों में प्रदर्शित किया जा पाता। महामारी की वज़ह से अप्रैल में प्रदर्शित होने वाली ईस फिल्म को नवंबर में नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ किया गया।



फिल्म लूडो के इस गीत को लिखा है संदीप श्रीवास्तव ने जो प्रीतम की फिल्मों में पहले भी कुछ गीत लिख चुके हैं। संदीप पटकथा लेखक भी रहे हैं। बतौर गीतकार उन्होंने शिवाय, कहानी, न्यूयार्क और Life In a Metro के गीतों के लिये जाना जाता है। एकतरफे प्रेम में दूसरे की स्वीकृति की कितनी चाहत होती है ये गीत इसी भावना को व्यक्त करता है। मुखड़े में संदीप लिखते हैं कि अगर हाँ कहकर तुमने मेरी ज़िंदगी को आबाद नहीं किया तो फिर ये जीवन बर्बादी की राह खुद चुन लेगा। अरिजीत नायक की बैचैनी और तड़प को बड़ी खूबी से अपनी आवाज़ में उतारते हैं। नायक की मायूसी को शब्दों में उतारती संदीप की ये पंक्तियाँ ख़्वाबों को जगह ना मिली आँखों में, वहाँ पहले से ही सैलाब था...नग्मे बनाता फिरा साज़ों पे, दिल अपना फ़क़त मिज़राब था प्रभावित करती हैं।

गीतकार अक्सर अपने गीतों में नवीनता भरने के लिए उर्दू के अप्रचलित शब्दों का इस्तेमाल करते रहे हैं। संदीप ने भी यहाँ मिज़राब का प्रयोग किया है जिसका अर्थ तार वाद्यों को बजाने वाले छल्ले से है। शायद संदीप ये कहना चाहते हैं प्रेम रूपी संगीत में वाहवाही साज़ की हुई और उनका दिल उस छल्ले सा उपेक्षित रहा जिसने साज़ में अपने रंग भरे। 

इस गीत का सबसे मजबूत पक्ष प्रीतम की धुन और संगीत संयोजन है जो एक बार सुनते ही मन में रमने लगती है। पश्चिमी बीट्स के साथ गिटार, वॉयला और क्लारिनेट गीत में मस्ती का रंग भरता है तो तीन मिनट के बाद बजती गुलाम अली की सारंगी दर्द का अहसास जगाती है। कहने की जरूरत नहीं कि अरिजीत ऊँचे सुरों जो कि उनका ट्रेडमार्क बन गया है आसानी से साधते हैं। तो आइए सुनते हैं ये पूरा गीत..


या तो बर्बाद कर दो या फिर आबाद कर दो 
वो ग़लत था ये सही है झूठ ये आज कह दो 
इतना एहसान कर दो इतना एहसान कर दो 
पूरे अरमान कर दो 

लब पे आ कर जो रुके हैं, ढाई वो हर्फ़ कह दो 
मेरी साँसों से जुड़ी है तेरी हर साँस कह दो 
मुश्किल आसान कर दो मुश्किल आसान कर दो 
या तो बर्बाद कर दो या फिर आबाद कर दो 

मीठा सा ये ज़हर मैं तो पीता रहूँगा 
तू ख़ुदा ना सही मैं तो सजदे करूँगा  
तुम जो शीरी ना हुए क्या हमको फरहाद कर दो 
मेरी साँसों ...आबाद कर दो

ख्वाबों को जगह ना मिली आँखों में
वहाँ पहले से ही सैलाब था
नग्मे बनाता फिरा साज़ों पे
दिल अपना फ़क़त मिज़राब था
मेरी बेजां हसरतों को, काबिल-ए-दार करदो
मेरी साँसों ...आबाद कर दो



वार्षिक संगीतमाला में अब तक

Tuesday, February 16, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 : गीत # 9 तारे गिन, तारे गिन सोए बिन, सारे गिन Taare Ginn...

हिंदी फिल्मों में ए आर रहमान का संगीत आजकल साल में इक्का दुक्का फिल्मों में ही सुनाई देता है। रहमान भी मुंबई वालों की इस बेरुखी पर यदा कदा टिप्पणी करते रहे हैं। तमाशा और मोहनजोदड़ो के बाद पिछले पाँच सालों में उनको कोई बड़े बैनर की  फिल्म मिली भी नहीं है। दिल बेचारा पर भी शायद लोगों का इतना ध्यान नहीं जाता अगर सुशांत वाली अनहोनी नहीं हुई होती। फिल्म रिलीज़ होने के पहले रहमान ने सुशांत की याद में एक संगीतमय पेशकश रखी थी जिसमें एलबम के सारे गायक व गायिकाओं ने हिस्सा भी लिया था। रहमान के इस एलबम में उदासी से लेकर उमंग सब तरह के गीतों का समावेश था। इस  फिल्म के दो गीत इस साल की गीतमाला में अपनी जगह बना पाए जिनमें पहला तारे गिन संगीतमाला की  नवीं पायदान पर आसीन है। 


इस गीत की सबसे खास बात इसका मुखड़ा है। कितने प्यारे बोल लिखे हैं अमिताभ भट्टाचार्य ने। इश्क़ का कीड़ा जब लगता है तो मन की हालत क्या हो जाती है वो इन बोलों में बड़ी खूबी से उभर कर आया है। जहाँ तक तारे गिनने की बात है तो एकाकी जीवन में अपने हमसफ़र की जुस्तज़ू करते हुए जिसने भी खुली छत पर तारों की झिलमिल लड़ियों को देखते हुए रात बिताई हो वे इस गीत से ख़ुद को बड़ी आसानी से जोड़ पाएँगे। 

जब से हुआ है अच्छा सा लगता है
दिल हो गया फिर से बच्चा सा लगता है 
इश्क़ रगों में जो बहता रहे जाके 
कानों में चुपके से कहता रहे 
तारे गिन, तारे गिन सोए बिन, सारे गिन 
एक हसीं मज़ा है ये, मज़ा है या सज़ा है ये 

अंतरे में भी अमिताभ एक प्रेम में डूबे हृदय को अपनी लेखनी से टटोलने में सफल हुए हैं।

रोको इसे जितना, महसूस हो ये उतना 
दर्द ज़रा सा है थोड़ा दवा सा है 
इसमें है जो तैरा वो ही तो डूबा है 
धोखा ज़रा सा है थोड़ा वफ़ा सा है 
ये वादा है या इरादा है 
कभी ये ज़्यादा है कभी ये आधा है 
तारे गिन, तारे गिन सोए बिन, सारे गिन 

श्रेया घोषाल और मोहित चौहान पहले भी रहमान के चहेते गायक रहे हैं और इस युगल जोड़ी ने अपनी बेहतरीन गायिकी से रहमान के विश्वास को बनाए रखने की पुरज़ोर कोशिश की है। 

रहमान अपने गीतों में हमेशा कुछ नया करने की कोशिश करते रहते हैं। यहाँ उन्होंने श्रेया की आवाज़ को अलग ट्रैक पर रिकार्ड कर मोहित की आवाज़ पर सुपरइम्पोज़ किया है।  पर रहमान के इस नए प्रयोग की वज़ह से अंतरे में गीत के बोल (खासकर श्रेया वाले) उतनी सफाई से नहीं समझ आते। अंत में रहमान स्केल बदलकर गीत का समापन करते हैं।

मुझे इस गीत का पहले दो मिनटों  का हिस्सा बहुत भाता है और मन करता है कि आगे जाए बिना उसी हिस्से को रिपीट मोड में सुनते रहें। काश रहमान इस गीत की वही सहजता अंतरे में भी बनाए रहते ! गीत का आडियो वर्जन एक मिनट ज्यादा लंबा है और इस वर्जन के के आख़िर में वॉयलिन का एक खूबसूरत टुकड़ा भी है जिसे संजय ललवानी ने बजाया है। तो आइए सुनते हैं इस गीत का वही रूप...


वार्षिक संगीतमाला में अब तक

Thursday, February 11, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 गीत #10 : सुन सुर जो कहानियाँ सी कहते हैं Sun Sur Jo Kahaniyan Si Kahte Hain

वक़्त आ गया है वार्षिक संगीतमाला के आख़िरी चरण में पहली दस सीढ़ियों को चढ़ने का। गीतमाला की दसवीं पॉयदान पर गीत वो जिसकी धुन बनाई रचिता अरोड़ा ने और जिसे अपने काव्यात्मक बोलों से सँवारा गरिमा ओबराह ने। ये गीत है अनुराग कश्यप द्वारा निर्देशित फिल्म Choked ... पैसा बोलता है से जो पिछले साल जून में नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई। अगर आपने ये फिल्म नहीं देखी तो इस गीत की गूँज आप तक पहुंचने की उम्मीद कम ही है क्यूँकि OTT प्लेटफार्म पर प्रदर्शित फिल्मों का संगीत कम ही प्रमोट होता है। अगर आप मुझसे पूछें कि आख़िर ऐसा क्या खास  है ढाई मिनट के इस छोटे से गाने में तो मैं यही कहूँगा कि गरिमा के गहरे शब्द, रचिता की शांत बहती सी धुन और उनकी मीठी आवाज़ जो गीत सुनने के बाद भी बड़ी देर तक मन में बनी रहती है।


रचिता के संगीत निर्देशन और गायिकी का ज़ायका आप सब मुक्केबाज के गीत बहुत दुखा मन में चख ही चुके होंगे। उस लेख में मैंने आपको बताया था कि किस तरह मुंबई में बतौर फिल्म संगीतकार उनके सफ़र की शुरुआत हुई। रचिता से इस गीत के संबंध में जब बातचीत हुई तो मेरा एक सवाल ये भी था कि बतौर संगीतकार किसी गाने के लिए अपनी आवाज़ का चुनाव करना उनके लिए कितना मुश्किल रहता है? उन्होंने बताया कि उनके मन में बस यही बात रहती है कि उस चरित्र के लिए कौन सी आवाज़ मुनासिब रहेगी। 

वे ख़ुद अपनी आवाज़ का  इस्तेमाल करने में झिझकती रही हैं। बहुत दुखा मन उन्हें रेखा भारद्वाज से गवाने का मन था पर निर्देशक अनुराग कश्यप ने उनसे कहा कि ये गाना तुम्हें गाना चाहिए और तब जाकर वो गीत उनकी आवाज़ में रिकार्ड हुआ। रचिता इस मामले में अपने को सौभाग्यशाली मानती हैं कि अब तक जितने भी निर्माता निर्देशकों के साथ उन्होने काम किया है उन सब ने उन्हें पर्याप्त स्पेस दिया है अपने तरीके से संगीत रचने का।

रचिता अरोड़ा 

रचिता तो अनुराग कश्यप के साथ पहले भी काम कर चुकी हैं पर गरिमा को अनुराग ने इस फिल्म में बतौर गीतकार उनकी पहली फिल्म मर्द को दर्द नहीं होता में किए गए काम से प्रभावित होकर लिया। गीत की परिस्थिति के बारे में उन्होंने दोनों को साथ साथ ही बताया। ये गीत इस फिल्म का रिकार्ड किया जाने वाला सबसे पहला गीत था जो तीसरे ड्राफ्ट में जाकर अपना मूर्त रूप ले सका। 

विज्ञापन जगत से लेकर बतौर गीतकार प्रसून जोशी की सफलता के किस्से से तो आप सभी परिचित होंगे। उनकी तरह गरिमा की पृष्ठभूमि भी विज्ञापन जगत की है जहाँ वे जिंगल लिखा करती थीं। गरिमा ने सोचा नहीं था कि वे कभी फिल्मों में गीतकार की भूमिका निभाएँगी। उन्हें कविता लिखना हमेशा से अच्छा लगता था। जब कभी कोई उनका अर्थपूर्ण जिंगल संगीत के साथ बाहर निकलता तो उनका आनंद बढ़ जाता। ऐसे ही एक जिंगल पर उन्होंने वासन बाला साहब के साथ काम किया। बाला ने उनसे वादा किया कि जब वे फिल्म बनाएँगे तो उनको जरूर मौका देंगे। बाला ने उनको ये मौका मर्द को दर्द नहीं होता फिल्म के लिए  दिया जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया।

गरिमा ओबरा

Choked एक निम्न मध्यमवर्ग के ऐसे परिवार की कहानी है जहाँ घर सँभालने से लेकर नौकरी करने की जिम्मेदारी नायिका पर है। उसका पति अधिकतर निठल्ला ही बैठा रहता है। ये गाना फिल्म में एक फ्लैशबैक की तरह आता है जब नायिका दिन रात के इस तनाव के बीच उन खुशनुमा पलों को याद करती है जब वो दोनों गाने बनाते थे। 

हमसफ़र तो वही होता है ना जो हमारे हाव भाव लहजों से ही हमारे मन की बात पढ़ सके। कई बार हमारे चेहरे की एक शिकन, हमारी आवाज़ की बुनावट अपने आप में एक दास्तान बयाँ कर देती है। सच्चा साथी तो वही है जो इन भावनाओं को समझ सके। उन बातों का मर्म ग्रहण करे जो पीड़ा सहकर होठों से निकली हैं। इसीलिए गरिमा गीत के मुखड़े में बड़ी खूबसूरती से लिखती हैं....सुन सुर जो कहानियाँ सी कहते हैं.. चुन लब मनमानियाँ जो सहते हैं 


गीत के अंतरों में नायिका के प्रेम और समर्पण का भाव और प्रबलता के साथ उभरता है जो आप गीत के बोलों को पढ़कर महसूस कर सकते हैं। आपसी प्रेम से भरे जब दो क्रियाशील प्राणी मिलकर कुछ नया रचते हैं उसमें अपना कुछ कहने को रह नहीं जाता और गीतकार का मानना है कि इस तरह रचा संगीत व साझे शब्द उनके रिश्ते को ख़ैरियत ही तो बख्शेंगे। इसीलिए उन्होंने लिखा.....
तेरे मेरे सुरों में कैसा बैर हर लफ़्ज़ ख़ैर।

रचिता बताती हैं कि जिस तरह एक स्त्री की भावनाओं को गरिमा अपने शब्दों में लाई हैं वो उनके मन को छू गया। रचिता ने इस भाव प्रधान गीत में नाममात्र के वाद्य यंत्रों का प्रयोग किया है। इनमें घटम औेर बीच बीच में बजते  गिटार की टुनटुनाहट तो आप आसानी से पहचान लेंगे। रचिता की आवाज़ की मिठास गीत के प्रेमसिक्त बोलों के साथ पूरा न्याय करती है। हालांकि ऐसा मुझे लगा कि आलाप थोड़ा और बेहतर हो सकता था।तो आइए सुनते हैं इस गीत को..

सुन सुर जो कहानियाँ सी कहते हैं
चुन लब मनमानियाँ जो सहते हैं
बातें तेरी मीठे से बोल है
तेरी हँसी हर सुर टटोले है
तेरे मेरे सुरों में कैसा बैर
हर लफ़्ज़ ख़ैर

लफ़्ज़ पिरो कर ला दो
मेरा गीत वही है
अपनी आवाज़ मिला दो
मेरा गीत वही है

धुनकी मैं सब भूला दूँ चलो ये सही
जो तुम गुननगुना दो मेरा गीत वही
हाथ तेरे मिश्री सा साज है
साथ मेरे तेरी आवाज़ है
तेरे मेरे सुरों में कैसा बैर
हर लफ़्ज़ ख़ैर

 
तो बताइए कैसा लगा आपको ये नग्मा?

वार्षिक संगीतमाला में अब तक

Sunday, February 07, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 : गीत # 11 ओ मेहरबाँ क्या मिला यूँ जुदा हो के बता Meharbaan

वार्षिक संगीतमाला की ग्यारहवीं सीढ़ी पर जो गीत आपका इंतजार कर रहा है उसके शीर्षक को ले कर थोड़ा विवाद है। जब पहली बार मैंने फिल्म लव आज कल का ये गीत सुना था तो समझ नहीं आया कि इसे मेहरमा लिख कर क्यूँ प्रचारित किया जा रहा है। उर्दू में इससे एक मिलता जुलता शब्द जरूर है महरम जिसका शाब्दिक अर्थ होता है एक बेहद अतरंग मित्र। अगर आपको याद हो तो फिल्म कहानी के सीक्वल कहानी 2 ने इसी शब्द को केंद्र में रखकर अमिताभ भट्टाचार्य ने एक गीत भी लिखा था। गीत में गायक दर्शन रावल इस शब्द को मेहरवाँ जैसा उच्चारित करते हैं जो कि मेहरबाँ के करीब है। 


क़ायदे से बात माशूका की मेहरबानी की हो रही थी तो इसे मेहरबां नाम से ही प्रमोट किया जाना चाहिए था। पता नहीं इरशाद कामिल जैसे नामी गीतकार और निर्देशक इम्तियाज़ अली का ध्यान इस ओर क्यूँ नहीं गया। बहरहाल लव आज कल का ये गीत आज गीतमाला की इस ऊँचाई पर पहुँचा है तो इसके सबसे बड़े हक़दार इसके संगीतकार प्रीतम हैं। 

प्रीतम के बारे में एक बात सारे निर्देशक कहते हैं कि वो संगीत रिलीज़ होने के अंत अंत तक अपनी धुनों में परिवर्तन करते रहते हैं। उनकी इस आदत से निर्माता निर्देशक खीजते रहते हैं पर वे ये भी जानते हैं कि प्रीतम की ये आदत संगीत को और परिष्कृत ढंग से श्रोताओं को पहुँचाने की है। मैंने पिछली पोस्ट में प्रीतम के गीतों में सिग्नेचर ट्यून के इस्तेमाल का जिक्र किया था। यहाँ भी उन्होंने शिशिर मल्होत्रा की बजाई वॉयला की आरंभिक धुन से श्रोताओं का दिल जीता है।

प्रीतम ने इस गीत में दर्शन रावल और अंतरा मित्रा की आवाज़ों का इस्तेमाल किया है। अंतरा प्रीतम की संगीतबद्ध फिल्मों का अभिन्न हिस्सा रही हैं। उनकर गाए सफल गीतों में दिलवाले का गेरुआ और कलंक का ऐरा गैरा याद आता है जिनमें प्रीतम का ही संगीत निर्देशन था। यहाँ उन्हें एक ही अंतरा मिला है नायिका के तन्हा मन को टटोलने का। 

दर्शन रावल पहली बार एक शाम मेरे नाम की वार्षिक संगीतमाला का हिस्सा बने हैं। इसलिए मेरा फर्ज बनता है कि उनसे आप सब का परिचय करा दूँ। यू ट्यूब के स्टार तो वो पहले ही से थे पर चोगड़ा तारा की सफलता के बाद से बॉलीवुड में अपनी पहचान बनाने वाले चौबीस वर्षीय दर्शन रावल गुजरात के अहमदाबाद शहर से ताल्लुक रखते हैं। बचपन से उन्हें कविता लिखने और उसे गाने का शौक़ लग चुका था। स्कूल में जब उन्हें समूह गान में पीछे की पंक्ति में रखा जाता था तो वे उतना ही जोर से गाने लगते थे ताकि उनकी आवाज़ अनसुनी ना रह जाए। अपनी इस आदत की वज़ह से उन्हें कई बार उस सामूहिक गीत से ही हटा दिया जाता था। इंजीनियरिंग में भी वे खुराफात करते रहे और एक बार पर्चा लीक करने की क़वायद में कॉलेज से बाहर कर दिए गए। पर उन्हें तो हमेशा से गायक ही बनना था और देखिए स्कूल व कॉलेज का वही नटखट लड़का अब अपनी आवाज़ की बदौलत युवाओं में कितना लोकप्रिय हो रहा है। 

नायक नायिका के बिछोह से उपजे इस गीत का दर्द भी उनकी आवाज़ में बखूबी उभरा है।  तो आइए सुनते हैं एक बार फिर इस गीत को

चाहिए किसी साये में जगह, चाहा बहुत बार है 
ना कहीं कभी मेरा दिल लगा, कैसा समझदार है 
मैं ना पहुँचूँ क्यों वहां पे. जाना चाहूँ मैं जहाँ 
मैं कहाँ खो गया, ऐसा क्या हो गया 
ओ मेहरवाँ क्या मिला यूँ जुदा हो के बता 
ओ मेहरवाँ क्या मिला यूँ जुदा होके बता 
ना ख़बर अपनी रही ना ख़बर अपनी रही 
ना रहा तेरा पता ओ मेहरवाँ ... 

जो शोर का हिस्सा हुई वो आवाज़ हूँ 
लोगो में हूँ पर तन्हा हूँ मैं, हाँ तन्हा हूँ मैं 
दुनिया मुझे मुझ से जुदा ही करती रहे 
बोलूँ मगर ना बातें करूँ, ये क्या हूँ मैं 

सब है लेकिन मैं नही हूँ 
वो जो थोड़ा था सही, 
वो हवा हो गया, क्यों खफा हो गया 
ओ मेहरवाँ क्या मिला.... 


 .

वार्षिक संगीतमाला में अब तक

Friday, February 05, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 गीत # 12 : ओ हीरिये मेरी सुन ज़रा, है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना ... Heeriye

इस संगीतमाला की शुरुआत में मैंने आपको हीमेश रेशमिया की फिल्म हैप्पी हार्डी और हीर के दो गाने सुनाए थे। पहला गीत था आदत और दूसरा तेरी मेरी कहानी । वे दोनों गीत तो बीस के नीचे की पायदानों पर सिमट गए थे।आज बारहवीं पायदान पर इस फिल्म का तीसरा और इस संगीतमाला में शामिल होने वाला आखिरी गीत ले कर आया हूँ जिसे गाया है अरिजीत सिंह और श्रेया घोषाल ने। 

ये बात मैंने गौर की है कि प्रीतम की तरह ही हीमेश भी अपने गीतों में सिग्नेचर ट्यून का बारहा इस्तेमाल करते हैं। सिग्नेचर ट्यून मतलब संगीत का एक छोटा सा टुकड़ा जो पूरे गीत में बार बार बजता है। इन टुकड़ों की कर्णप्रियता इतनी ज्यादा होती है कि उसे एक बार सुन लेने के बाद आप उसके गीत में अगली बार बजने का इंतज़ार करते हैं। 

एक खूबसूरत आलाप से ये गीत शुरु होता है और फिर पहले गिटार और उसी धुन का साथ देते तबले का जादू गीत के प्रति श्रोता का आकर्षण तेजी से बढ़ा देता है।  सिग्नेचर ट्यून की तरह इस गीत की एक सिग्नेचर लाइन भी है जो हर अंतरे के बात लगातार दोहराई जाती है। वो पंक्ति है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना ओ हीरिये मेरी सुन ज़रा, है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना। इस गीत को लिखने वाले का नाम पढ़ कर मैं चकित रह गया। जी हाँ इस गीत को लिखा है संगीतकार विशाल मिश्रा ने जो संगीतमाला की पिछली पायदान पर गायक की भूमिका निभा रहे थे।



इश्क की भावनाओं से लबरेज इस गीत में विशाल के बिंब और बोलों का प्रवाह देखने लायक है। खासकर शब्दों का दो बार बार दोहराव सुनने में मन को सोहता है। 

है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना, है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना 
ओ हीरिये मेरी सुन ज़रा, है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना 
इश्क़ मज़हब जैसे ख़ुदा, इश्क़ निस्बत जैसे दुआ 
ओ हीरिये मेरी सुन ज़रा है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना 
है इश्क मेरा सरफिरा फ़साना 

तेरी आँखों में हम अपनी ज़िन्दगी का हर एक सपना देखते हैं ओ रांझणा 
ओ हीरिये मेरी सुन ज़रा है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना 
है इश्क मेरा सरफिरा फ़साना ...आ आ..

धूप में तुझसे ठंडक, सर्द में तुझसे राहत
रूह की तुम शिद्दत, आह की तुम चाहत
दवा दवा में तू है, ज़फा ज़फा में तू है
सफ़ा सफ़ा में तू है, मेरे ख़ुदा मेरे ख़ुदा
इश्क़ सोहबत जैसे वफ़ा, इश्क़ फितरत जैसे नशा
ओ हीरिये मेरी सुन ज़रा है इश्क मेरा सरफिरा फ़साना 

अश्कों में तेरी खुशियाँ पल में बस बीती सदियाँ 
दिन सी ये लगती रतियाँ, खट्टी मीठी ये बतियाँ 
सबा सबा में तू है, हवा हवा में तू है 
घटा घटा में तू है मेरे ख़ुदा, मेरे ख़ुदा, मेरे ख़ुदा.. 
इश्क कुदरत जैसे फ़ना, इश्क़ तोहमत जैसे सज़ा 
ओ हीरिये मेरी सुन ज़रा है इश्क़ मेरा सरफिरा फ़साना ....

श्रेया घोषाल को इस गीत में दो ही पंक्तियाँ मिली हैं पर उतने में ही वो अपना कमाल दिखा जाती हैं। अब इस मिश्री सी मधुर धुन को अरिजित की आवाज़ का साथ मिले तो गीत कैसे ना पसंद आए। तो आइए सुनते हैं हीमेश, विशाल, श्रेया और अरिजीत के इस सम्मिलित कमाल को जो ऐश्वर्या मजूमदार, ॠतुराज, सलमान  शेख और अनु दत्त के कोरस और आलापों से और श्रवणीय हो गया है।


वार्षिक संगीतमाला में अब तक

Wednesday, February 03, 2021

वार्षिक संगीतमाला 2020 : गीत # 13 : आप हमारी जान बन गए Jaan Ban Gaye

एक महीने का सांगीतिक सफ़र जो हमें ले आया है वार्षिक संगीतमाला के पच्चीस गीतों की फेरहिस्त के ठीक मध्य में। गीतमाला के अगले दोनों गीत मेलोडी और रूमानियत से भरपूर हैं। गीतमाला की तेरहवीं सीढ़ी है पर है फिल्म ख़ुदाहाफिज़ का एक और गीत। ख़ुदाहाफिज़ फिल्म के इस गीत को लिखा और संगीतबद्ध किया है मिथुन शर्मा ने जो फिल्म उद्योग में सिर्फ मिथुन के नाम से जाने जाते हैं। मज़े की बाद ये  है कि इसे गाया भी एक संगीतकार ने ही है। जी हाँ, इस गीत की पीछे की आवाज़ है विशाल मिश्रा की जो अपनी संगीतबद्ध रचनाओं को पहले भी आवाज़ दे चुके हैं।

पिछले साल उनका कबीर सिंह में गाया गीत तू इतना जरूरी कैसे हुआ खासा लोकप्रिय हुआ था। जहाँ तक एक शाम मेरे नाम की वार्षिक संगीतमालाओं की बात है तो विशाल का फिल्म करीब करीब सिंगल का संगीतबद्ध गीत जाने दे साल 2017 का रनर्स अप गीत रह चुका है। वैसे आपको ताज्जुब होगा कि विशाल एक समय कानून के विद्यार्थी रहे हैं और उन्होंने संगीत सुन सुन के सीखा है। आज देखिए अपने हुनर को माँजते माँजते वो गाने के साथ ढेर सारे वाद्य यंत्र बजाने की महारत भी रखते हैं। विशाल ने इस गीत को गाया भी बहुत डूब के है और यही वज़ह है कि इस गीत में उनकी आवाज़ सीधे दिल में उतर जाती है। 

इस गीत में विशाल का साथ दिया है असीस कौर ने जिनकी आवाज़ को पहले बोलना (Kapoor & Sons) और फिर पिछले साल वे माही (केसरी) में काफी सराहा गया था। पानीपत की इस कुड़ी ने गुरुबानी गा कर संगीत का ककहरा पढ़ा था जो बाद में गुरुओं की संगत में और निखरा। रियालटी शो उन्हें मायानगरी तक खींच लाया। उनकी आवाज़ की बनावट थोड़ी हट के है जो उनकी गायिकी को एक अलग पहचान देने में सफल रही है।

मिथुन गिटार और तबले के नाममात्र संगीत संयोजन में भी शुरु से अंत तक धुन की मधुरता की बदौलत श्रोताओं को बाँधे रहते हैं। फिल्म में ये गीत नायक नायिका के पनपते प्रेम को दर्शाते इस गीत को उन्होंने बड़ी सहजता से अपनी लेखनी में बाँधा है।

अहसास की जो ज़ुबान बन गए
दिल में मेरे मेहमान बन गए
आप की तारीफ़ में क्या कहें
आप हमारी जान बन गए
आप ही रब आप ईमान बन गए
आप हमारी जान बन गए

किस्मत से हमें आप हमदम मिल गए
जैसे कि दुआ को अल्फाज़ मिल गए
सोचा जो नहीं वो हासिल हो गया
चाहूँ और क्या की खुदा दे अब मुझे

रब से मिला एक अयान बन गए
ख्वाबों का मेरे मुकाम बन गए
आप की तारीफ़ में क्या कहें
आप हमारी जान बन गए

दीन है इलाही मेरा मान है माही
मैं तो सजदा करूँ उनको
अर्ज रुबाई मेरी फर्ज़ दवाई मेरी
इश्क़ हुआ मुझको...जान बन गए

तो आइए सुनते हैं इस मीठे मुलायम गीत को..



वार्षिक संगीतमाला में अब तक

 

मेरी पसंदीदा किताबें...

सुवर्णलता
Freedom at Midnight
Aapka Bunti
Madhushala
कसप Kasap
Great Expectations
उर्दू की आख़िरी किताब
Shatranj Ke Khiladi
Bakul Katha
Raag Darbari
English, August: An Indian Story
Five Point Someone: What Not to Do at IIT
Mitro Marjani
Jharokhe
Mailaa Aanchal
Mrs Craddock
Mahabhoj
मुझे चाँद चाहिए Mujhe Chand Chahiye
Lolita
The Pakistani Bride: A Novel


Manish Kumar's favorite books »

स्पष्टीकरण

इस चिट्ठे का उद्देश्य अच्छे संगीत और साहित्य एवम्र उनसे जुड़े कुछ पहलुओं को अपने नज़रिए से विश्लेषित कर संगीत प्रेमी पाठकों तक पहुँचाना और लोकप्रिय बनाना है। इसी हेतु चिट्ठे पर संगीत और चित्रों का प्रयोग हुआ है। अगर इस चिट्ठे पर प्रकाशित चित्र, संगीत या अन्य किसी सामग्री से कॉपीराइट का उल्लंघन होता है तो कृपया सूचित करें। आपकी सूचना पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी।

एक शाम मेरे नाम Copyright © 2009 Designed by Bie